गुजरात राज्य पर निबंध

Essay on Gujarat in Hindi: नमस्कार दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को बताने जा रहे हैं, भारत के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित बहुत ही महत्वपूर्ण राज्य गुजरात के बारे में। गुजरात राज्य को महापुरुषों की धरती के नाम से संपूर्ण विश्व में जाना चाहता है। गुजरात राज्य में महात्मा गांधी, सरदार वल्लभभाई पटेल और इन लोगों के बाद वर्तमान समय के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने जन्म लिया है। यदि कभी भी किसी कॉम्पिटेटिव एक्जाम में आप जाते हैं और आपको कभी ना कभी महापुरुषों की जन्मभूमि के ऊपर निबंध लिखना हुआ होगा। आज का हमारा यह लेख परीक्षा के दृष्टिकोण से भी बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है।

Image: Essay on Gujarat in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

गुजरात पर निबंध | Essay on Gujarat in Hindi

गुजरात राज्य पर निबंध (250 शब्द)

गुजरात हमारे पश्चिम भारत में स्थित बहुत ही विशाल एवं महत्वपूर्ण राज्यों में से एक है। गुजरात राज्य को भारत में जन्मे अनेकों महापुरुषों की जन्मभूमि के नाम से जाना जाता है। हमारे भारतवर्ष के गुजरात में देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, देश के लोह पुरुष कहे जाने वाले सरदार बल्लभ भाई पटेल और वर्तमान समय में भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने जन्म लिया है।

गुजरात राज्य की उत्तरी एवं पश्चिमी सीमा को ही अंतरराष्ट्रीय सीमा के नाम से जाना जाता है। गुजरात राज्य की भौगोलिक सीमा कहीं और नहीं बल्कि विशाल अरब सागर के पास स्थित है। इतना ही नहीं गुजरात के उत्तर की दिशा में देश का सबसे बड़ा राज्य राजस्थान, दक्षिणी पूर्वी दिशा में मध्य प्रदेश और दक्षिणी दिशा में महाराष्ट्र राज्य दमन, दीव एवं दादरा जैसे केंद्र शासित प्रदेश स्थित है।

गुजरात में स्थित सबसे बड़ा नगर अहमदाबाद है। अहमदाबाद को गुजरात का सबसे बड़े शहर होने के उपाधि भी मिल चुकी है। गुजरात राज्य की राजधानी गांधीनगर है। राजधानी गांधीनगर का नाम महात्मा गांधी के नाम पर पड़ा है। गुजरात राज्य का क्षेत्रफल 116024 वर्ग किलोमीटर है। गुजरात राज्य में मुख्य रूप से बोली जाने वाली भाषा गुजराती है।

गुजरात राज्य की संस्कृति एवं पारंपरिक विरासत बहुत ही ज्यादा समृद्ध है, क्योंकि यहां पर भारत के अनेकों प्रसिद्ध से प्रसिद्ध व्यक्तियों ने जन्म लिया है, ऐसे प्रसिद्ध लोगों की जन्मभूमि होने के कारण गुजरात को सांस्कृतिक एवं पारस्परिक विरासत से समृद्ध कहा जाता है। गुजरात का इतिहास बहुत ही पुराना माना जाता है। गुजरात के अस्तित्व का इतिहास लगभग 3.5 हजार ईसा पूर्व माना जा रहा है।

वर्तमान गुजरात का अस्तित्व महाराष्ट्र से अलग होकर 1 मई 1960 ईस्वी बताया जा रहा है। गुजरात राज्य में अन्य राज्यों की भाती गुजरात में भी लोकतंत्र है, अतः यहां पर विधानसभा की कुल 252 सीटें हैं। अतः वर्ष 2012 के चुनाव में भाजपा सरकार को 114 सीन कांग्रेस को सरकार को 61 सीट और अन्य उम्मीदवारों को मात्र 6 सीटें ही मिली थी, अतः गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर भाजपा के कार्यकर्ता ही स्थापित किए गए।

गुजरात राज्य पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

गुजरात राज्य को भारत में जन्मे अनेकों महापुरुषों की जन्मभूमि के नाम से जाना जाता है। गुजरात राज्य की उत्तरी एवं पश्चिमी सीमा को ही अंतरराष्ट्रीय सीमा के नाम से जाना जाता है। गुजरात के उत्तर की दिशा में देश का सबसे बड़ा राज्य राजस्थान, दक्षिणी पूर्वी दिशा में मध्य प्रदेश और दक्षिणी दिशा में महाराष्ट्र राज्य दमन, दीव एवं दादरा जैसे केंद्र शासित प्रदेश स्थित है।

गुजरात में स्थित सबसे बड़ा नगर अहमदाबाद है। गुजरात राज्य की राजधानी गांधीनगर है। राजधानी गांधीनगर का नाम महात्मा गांधी के नाम पर पड़ा है। गुजरात राज्य का क्षेत्रफल 116024 वर्ग किलोमीटर है। गुजरात राज्य की संस्कृति एवं पारंपरिक विरासत बहुत ही ज्यादा समृद्ध है, क्योंकि यहां पर भारत के अनेकों प्रसिद्ध से प्रसिद्ध व्यक्तियों ने जन्म लिया है, ऐसे प्रसिद्ध लोगों की जन्मभूमि होने के कारण गुजरात को सांस्कृतिक एवं पारस्परिक विरासत से समृद्ध कहा जाता है।

गुजरात राज्य का स्थापना दिवस

भारत के प्राचीन इतिहास यही 1 मई को संपूर्ण गुजरात वासी एक दूसरे के साथ मिल कर गुजरात स्थापना दिवस मनाते हैं। भारतीय संस्था के समय गुजरात राज्य महाराष्ट्र का ही एक हिस्सा था। ऐसा कहा जाता है, कि गुजरात की स्थापना 1 मई 1960 ईस्वी को हुआ था। प्राचीन समय में महाराष्ट्र और गुजरात दोनों अलग अलग राज्य नहीं है, यह दोनों मुंबई में ही समावेशित है। 1 मई 1960 ईस्वी में इन दोनों को अलग कर दिया गया और एक स्वतंत्र राज्य घोषित कर दिया गया। यही कारण है, कि 1 मई को ही गुजरात दिवस एवं महाराष्ट्र स्थापना दिवस मनाया जाता है। अतः महाराष्ट्र को और गुजरात को स्वतंत्र राज्य घोषित हुए लगभग 50 वर्ष पूरे हो चुके हैं।

गुजरात राज्य का राजनीतिक इतिहास

गुजरात राज्य की और महाराष्ट्र राज्य को एक दूसरे से 1 मई 1960 ईस्वी में अलग कर दिया गया और गुजरात एवं महाराष्ट्र को अलग-अलग विधानसभा सीटों के साथ बांटा गया। गुजरात राज्य में विधानसभा की कुल 152 सीटें हैं। वर्ष 2012 में हुए चुनाव में भाजपा सरकार को 114 सीटें, कांग्रेस सरकार को 61 सीटें और अन्य पार्टियों को मात्र 6 सीटें ही मिली थी।

संपूर्ण भारत वर्ष के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने लगभग 14 वर्षों तक गुजरात में मुख्यमंत्री के पद पर कार्य किया। मुख्यमंत्री के पद पर कार्य करने के बाद प्रधानमंत्री पद के लिए चुने गए। श्री नरेंद्र मोदी की प्रतिभा को देखते हुए इन्हें भाजपा की तरफ से टिकट भी मिल गया और यह भारत के वरिष्ठ प्रधानमंत्री बने।

गुजरात का क्षेत्रफल एवं राज्य की जनसंख्या

गुजरात राज्य भारत के पूर्वी तट पर स्थित महापुरुषों की भूमि कहीं जाती है। गुजरात राज्य को यदि क्षेत्रफल की दृष्टि से देखा जाए तो वहां का क्षेत्रफल लगभग 116024 वर्ग किलोमीटर है। इतना ही नहीं गुजरात के कुल संग जनसंख्या लगभग 6 करोड़ से भी अधिक है। गुजरात राज्य में भारत के बहुत से महान एवं प्रसिद्ध व्यक्तियों ने जन्म लिया, जिसमें से मुख्य रूप से महात्मा गांधी, सरदार बल्लभ भाई पटेल और वर्तमान समय में भारत के वरिष्ठ एवं माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी हैं।

गुजरात राज्य में बोली जाने वाली भाषा

गुजरात राज्य में अनेकों प्रकार की भाषाएं बोली जाती हैं, परंतु गुजरात राज्य में मुख्य रूप से बोली जाने वाली भाषा गुजराती है। गुजराती भाषा के अलावा गुजरात राज्य में हिंदी, अंग्रेजी इत्यादि भाषाएं बोली जाती हैं। यदि आप गुजरात जाते हैं, तो आपको वहां पर बहुत से घूमने योग्य स्मारक मिल जाएंगे, आप गुजरात राज्य का लुफ्त बड़े ही हर्षित रूप से उठा पाएंगे।

गुजरात राज्य का मनपसंद भोजन

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं, हमारा गुजरात राज्य भोजन के लिए संपूर्ण विश्व में प्रसिद्ध है। गुजराती भोजन बहुत ही ज्यादा स्वादिष्ट होते हैं और यही कारण है, कि भारत की किसी भी होटल में आपको किसी और राज्य का भोजन मिले या ना मिले, परंतु गुजरात राज्य का पसंदीदा भोजन अवश्य मिल जाएगा।

आइए जान लेते हैं, कि गुजरात राज्य का मनपसंद भोजन कौन सा है? गुजरात के मनपसंद भोजन के रूप में आपको फरसाड़, मिठाइयां, सब्जियां (उंधियूं और पोक) नाना प्रकार की खट्टी मीठी चटनी, आचार और पापड़ प्रसिद्ध माना जाता है। फरसाड़ के अंतर्गत खमन ढोकला खांडवी इत्यादि आते हैं।

निष्कर्ष

हम इस लेख को पढ़ने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं, कि भारत के गुजरात राज्य में अनेक महान लोगों ने जन्म लिया और यह भूमि बहुत ही पावन भूमि मानी जाती है। गुजरात राज्य में बहुत से ऐसे किले बनाए गए हैं, जिन्हें देखने के लिए विदेशों से भी लोग आते हैं और यहां आकर इस किले का लुफ्त उठाते है।

अंतिम शब्द

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं, कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण निबंध “गुजरात पर निबंध (Essay on Gujarat in Hindi)” अवश्य ही पसंद आया होगा, यदि हां! तो कृपया आप हमारे द्वारा लिखे गए इस महत्वपूर्ण को अवश्य शेयर करें। यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी भी प्रकार का कोई सवाल है, तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

Reed also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here