बिहार राज्य पर निबंध

Essay on Bihar in Hindi: नमस्कार दोस्तों! आज हम आप सभी लोगों को बताने वाले हैं, बिहार राज्य पर बहुत ही महत्वपूर्ण निबंध। बिहार राज्य का इतिहास बहुत ही गौरवशाली इतिहास है। यदि आप एक बिहारी हैं, तो आपको गौरवान्वित होना चाहिए, कि आप बिहार राज्य में जन्म लिए हैं। जब कभी भी आपको किसी भी विषय पर जानकारी प्राप्त करनी हो, तो कृपया आप हमारे वेबसाइट पर विजिट करें और सभी जानकारियां आसानी से प्राप्त करें। तो चलिए आज का अपना यह महत्वपूर्ण निबंध शुरू करते हैं और जानते हैं, बिहार राज्य पर निबंध।

Image: Essay on Bihar in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

बिहार पर निबंध | Essay on Bihar in Hindi

बिहार राज्य पर निबंध (250 शब्द)

बिहार राज्य भारत के महत्वपूर्ण राज्यों में से एक महत्वपूर्ण राज्य है। बिहार राज्य की गणना देश के सबसे बड़े राज्य राजस्थान के बाद दूसरे नंबर पर होती है। बिहार राज्य संपूर्ण भारतवर्ष में अपना एक विशिष्ट महत्व रखता है, चाहे वह भौगोलिक क्षेत्रफल हो या जनसंख्या का दृष्टिकोण। बिहार राज्य की मृदा उर्वरता बहुत ही ज्यादा प्रभावशाली है, यहां पर नाना प्रकार की फसलें पाई जाती हैं।

बिहार राज्य की मृदा बहुत ही ज्यादा उर्वरक होने के साथ-साथ यहां पर अनेकों प्रकार की नदियों का महासंग्राम है। बिहार राज्य प्रकृति भी अपने वैभव के द्वारा बिहार को काफी सुंदर बना देती है। बिहार राज्य में सभी रोते हुए वातावरण को शुद्धता प्रदान करती हैं और बिहार राज्य को सदैव फसलों से लगा हुआ रखती हैं। अतः यह कहा जाता है कि “यदि भारत का विकास करना है, तो बिहार राज्य का विकास करना अति आवश्यक है”। अतः इसी के उपलक्ष में भारत सरकार में बिहार राज्य के प्रगति के लिए जुटी हुई है।

बिहार राज्य के गौरवशाली इतिहास में यह कहा जाता है कि बिहार की पावन भूमि में महात्मा गौतम बुद्ध ने ज्ञान प्राप्त किया और इनके बाद महावीर स्वामी ने बिहार राज्य में ही शांति का संदेश दिया। बिहार राज्य के गौरवशाली प्रतिमा में ही चंद्रगुप्त मौर्य, अशोक सम्राट, शेरशाह, गुरु गोविंद सिंह, देशरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद, वीर कुंवर सिंह, महान लोकनायक जयप्रकाश नारायण जैसे महान शासकों एवं विभूति पूर्व लोगों का प्रादुर्भाव भी रहा है।

प्राचीन समय में बिहार राज्य जीतना ज्यादा समृद्ध था, वर्तमान समय में बिहार राज्य अनेकों प्रकार की समस्याओं से घिरा हुआ है। वर्तमान समय में बिहार राज्य में गरीबी बेरोजगारी भ्रष्टाचार इत्यादि का माहौल बना हुआ है। जैसा कि हम सभी जानते हैं, कि वर्ष 2000 में 15 नवंबर को बिहार राज्य से झारखंड को अलग कर दिया गया। अतः खनिज के बहुमूल्य क्षेत्र झारखंड में चले गए, अतः खनिज क्षेत्र झारखंड में चले जाने के बाद बिहार के पास केवल उर्वरक भूमि और कुछ गिने-चुने उद्योग ही बचे हुए हैं।

बिहार राज्य के कृषि के मार्ग में काफी समस्याएं आती ,हैं जैसे कि सिंचाई के साधनों में अभाव, बारिश के दिनों में बाढ़ और सूखा है। बिहार राज्य की जनसंख्या में काफी तेजी से वृद्धि हो रही है, बता बेरोजगारी गरीबी जैसी अनेकों समस्याएं जन्म ले रही हैं, यही कारण है, कि बिहार राज्य के ज्यादातर लोग शहरों में जाकर अपने रोजगार को शुरू करते हैं। बिहार राज्य की वर्तमान दुर्दशा एवं पीछे जाने की का मुख्य कारण राजनीतिक कारण है।

बिहार राज्य पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

बिहार राज्य भारत के महत्वपूर्ण राज्यों में से एक महत्वपूर्ण राज्य है। बिहार राज्य की गणना देश के सबसे बड़े राज्य राजस्थान के बाद दूसरे नंबर पर होती है। बिहार राज्य की मृदा उर्वरता बहुत ही ज्यादा प्रभावशाली है, यहां पर नाना प्रकार की फसलें पाई जाती हैं। वर्तमान समय में बिहार राज्य में गरीबी बेरोजगारी भ्रष्टाचार इत्यादि का माहौल बना हुआ है।

वर्ष 2000 में 15 नवंबर को बिहार राज्य से झारखंड को अलग कर दिया गया। अतः खनिज के बहुमूल्य क्षेत्र झारखंड में चले गए, अतः खनिज क्षेत्र झारखंड में चले जाने के बाद बिहार के पास केवल उर्वरक भूमि और कुछ गिने-चुने उद्योग ही बचे हुए हैं। बिहार राज्य की वर्तमान दुर्दशा एवं पीछे जाने की का मुख्य कारण राजनीति है।

बिहार राज्य का इतिहास

प्राचीन समय में बिहार राज्य एवं झारखंड एक ही में मिले हुए थे। बिहार राज्य के इतिहास में अनेक ऐसे शासक रहे हैं, जो बिहार राज्य में अपना प्रादुर्भाव किए हुए हैं। इतना ही नहीं बिहार राज में अनेकों महान संतों ने शिक्षा एवं उपदेश दिए हैं। बिहार राज्य के द्वारा ही महात्मा गांधी के द्वारा चंपारण आंदोलन शुरू किया गया था।

प्राचीन समय में महात्मा गांधी के द्वारा अंग्रेजों को भारत से दूर करने के लिए किए गए चंपारण आंदोलन की शुरुआत बिहार राज्य से ही किया गया था। महात्मा गांधी ने बिहार राज्य में रहकर अंग्रेजों को दूर करने के लिए चंपारण आंदोलन का गठन किया और इसके लिए बहुत से भारतीय नागरिकों को इस आंदोलन के तहत सम्मिलित किया। बिहार के बहुत से नागरिक कौन है इस चंपारण आंदोलन में हिस्सा लिया और अंग्रेजों को बाहर निकालने के लिए काफी मदद की। महात्मा गांधी ने चंपारण आंदोलन का बिगुल बिहार राज्य में रहकर ही शुरू किया।

इतना ही नहीं भारत के महान शासक चंद्रगुप्त मौर्य, अशोक सम्राट, गुरु गोविंद सिंह देश के रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद शेरशाह वीर कुंवर सिंह लोकनायक जयप्रकाश नारायण इतिहास जैसे महान शासकों ने भारतवर्ष के बिहार में ही अपनी विभूतियों का प्रादुर्भाव किया और बिहार राज्य को गौरवान्वित किया। प्राचीन समय में बिहार राज्य इतना ज्यादा प्रसिद्ध था, कि इन सभी शासकों ने समय-समय पर बिहार राज्य में आकर बिहार राज्य को अपना बनाने की अथाह कोशिश की जिसमें से कुछ लोग सफल भी रहे।

बिहार राज्य की पावन धरती पर महान संत महात्मा गौतम बुद्ध ने शिक्षा प्राप्त किया इन्होंने बिहार राज्य से शिक्षा प्राप्त करके बिहार राज्य के गौरव को इतना ज्यादा बढ़ा दिया, कि विदेशों से भी लोग बिहार राज्य के नालंदा विश्वविद्यालय में पढ़ने आते थे। प्राचीन समय में नालंदा विश्वविद्यालय इतना विस्तृत नहीं था, वहां पर विशाल बरगद के पेड़ के नीचे शिक्षा प्रदान की जाती थी। इनके बाद बिहार की पावन भूमि पर महावीर स्वामी ने शांति का उपदेश देने के लिए आए और लोगों को शांतिपूर्वक रहने का ज्ञान बांटा।

बिहार राज्य एवं झारखंड को एक दूसरे से अलग हो जाने के बाद बिहार राज्य की समस्याएं

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं, प्राचीन समय में बिहार राज्य एवं झारखंड राज्य एक दूसरे के पूरक राज्य हुआ करते थे, अर्थात यह दोनों एक ही राज्य थे, इन्हें अलग-अलग नहीं बांटा गया था, परंतु वर्ष 2000 में 15 नवंबर को बिहार राज्य एवं झारखंड राज्य को अलग-अलग दो स्वतंत्र राज्य घोषित कर दिया गया। अतः झारखंड राज्य के हिस्से में खनिज उत्पादन का क्षेत्र चला गया और बिहार राज्य के हिस्से के क्षेत्र में उपजाऊ एवं उर्वरक भूमि और कुछ गिने-चुने ही उद्योग बचें।

इसके बाद बिहार राज्य में धीरे-धीरे आमदनी की कमी होती गई और वर्तमान समय में बिहार राज्य गरीबी एवं बेरोजगारी से जूझ रहा है। वर्तमान समय में भारत सरकार और बिहार राज्य सरकार ने एक साथ मिलकर बिहार राज्य की गरीबी एवं बेरोजगारी को दूर करने के लिए समय समय पर अनेकों प्रकार की योजनाएं ला रही है, जिसके कारण बिहार राज्य के सभी नागरिक जागरूक एवं रोजगार युक्त हो रहे हैं। बिहार राज्य के बच्चों को शिक्षा के तरफ जागरूक करने के लिए समय-समय पर लैपटॉप और उचित स्कॉलरशिप की सुविधा प्रदान की जा रही है।

परंतु वर्तमान समय में भी बिहार राज्य में पूरी तरह से सुधार नहीं हुआ है, हालांकि भारत सरकार एवं राज्य सरकार इस कार्य में जुटी हुई है, परंतु लोगों को अपना जीवन बिताने के लिए रोजगार की तलाश में अन्य राज्यों जैसे महाराष्ट्र, दिल्ली इत्यादि में जाना पड़ रहा है। लोग वहां पर जाकर अपने कुछ छोटे-मोटे बिजनेस शुरू करते हैं और उसी बिजनेस से अपने परिवार और स्वयं का गुजारा करते हैं।

निष्कर्ष

आज हम सभी लोग इस लेख को पढ़ने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं, कि यदि हमें देश का विकास करना है, तो सबसे पहले बिहार राज्य पर ध्यान देना होगा, यदि बिहार राज्य के हालात सुधरेंगे तभी हम अन्य राज्यों के हालात सुधार पाएंगे। भारत सरकार इसी कार्यक्रम में बिहार राज्य के सभी छात्र छात्राओं को शिक्षा के प्रति जागरूक कर रही है, ताकि उन्हें बाद में रोजगार प्राप्त करने में किसी भी प्रकार की कोई समस्या ना आए।

अंतिम शब्द

हम आप सभी लोगों से यह उम्मीद करते हैं, कि आप हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख “बिहार पर निबंध (Essay on Bihar in Hindi)” अवश्य ही पसंद आया होगा, यदि वाकई में आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो, तो कृपया इसे शेयर करें। यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी भी प्रकार का कोई सवाल है, तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

Reed also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here