Home > Essay > बैंक पर निबंध

बैंक पर निबंध

Essay on Bank in Hindi:हम यहां पर बैंक पर निबंध पर शेयर कर रहे है। इस निबंध में बैंक के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay-on-Bank-in-Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

बैंक पर निबंध | Essay on Bank in Hindi

बैंक पर निबंध (200  शब्द)

‘बैंक’ शब्द यूरोपीय भाषा की देन है,  जिसका  मतलब ‘बेंच’ या ‘काउंटर’ होता है। बैंक प्रणाली की शरुआत 14वीं शताब्दी में इटली में हुई थी। भारत में आधुनिक बैंकिंग की शुरुआत 19वीं शताब्दी के आरंभ में हुई थी। बैंक अर्थव्यवस्था का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा हैं क्योंकि वे उपभोक्ताओं और व्यवसायों दोनों के लिए महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान करते हैं।

Follow TheSimpleHelp at WhatsApp Join Now
Follow TheSimpleHelp at Telegram Join Now

बैंक एक वित्तीय संस्थान है, जहां देश की जनता निर्भय होकर अपने पैसे जमा करती है। जमा किये पैसों पर बैंक जनता को व्याज भी देता है। आज के युग में हमारा दैनिक जीवन बैंक पर ही निर्भर हो चूका है। बैंक हमारी जमा पूँजी के लिए निर्भयता और सुरक्षा प्रदान करता है।

हमारे देश में कई अलग अलग प्रकार के बैंक है जैसे की व्यापारिक बैंक, औद्योगिक बैंक, कृषि बैंक,सहकारी बैंक,विदेशी विनिमय बैंक, केन्द्रीय बैंक। बैंक हमारी छोटी छोटी बचत की आदत को प्रोत्साहित करता है। देश के वेपार और वाणिज्य को बढ़ावा देता है और उद्योगों के विकास में सहायता करता है। बैंक लोगों और निगमों के लिए ऋण अवसर भी प्रदान करते हैं।

बैंक अर्थव्यवस्था का अभिन्न अंग हैं। बैंक विभिन्न ग्राहकों की विभिन्न जरूरतों को विभिन्न सेवाओं द्वारा प्रदान करती है। समाज के साथ बैंकों का घनिष्ठ सम्बन्ध है। राष्ट्र का आर्थिक, सामाजिक तथा राजनीतिक विकास बैंकों से जुडा है।

बैंक पर निबंध (600  शब्द)

प्रस्तावना

बैंक  देश की एक महत्वपूर्ण  वित्तीय संस्थान है। देश के अर्थव्यवस्था के लिए बैंक का काफी महत्व है। आजके दैनिक जीवन में बैंकिंग व्यवस्था एक अनिवार्य आवश्यकता मानी जाती है। बैंक यूरोपियन संस्कृति की देन है। आज़ादी से लेकर अब तक बैंकिंग में काफी बदलाव हुए है। देश की  जनता अपनी धनराशि को बैंक में जमा करती हैं। जितना धन बैंक में जमा होता हैं, उतनी राशि का ब्याज जनता को दिया जाता हैं। आज भारत में  शहरों से लेकर ग्रामीण इलाकों तक बैंकिंग सेवाएँ प्रदान कर रही हैं।

 बैंक देश के उद्योगों के विकास में सहायता करता है। बैंक आर्थिक जगत के लिए प्राण समान है। किसी भी देश का उत्पादन, व्यापार और उद्योग सभी उस देश के बैंकिंग  विकास पर निर्भर होता है । 

बैंक का इतिहास

बैंकिंग प्रणाली अति प्राचीनकाल से चली आई है। ऋग्वेद तथा अथर्ववेद में भी ऋण लेने-देने के अनेक सबूत मौजूद है। दुनिया में सबसे पहला बैंक साल 1406 में इटली देश के जेनोवा में स्थापित किया गया था। इस बैंक का नाम सेंट जॉर्ज बैंक था। भारत में  बैंकिंग सेवाओं की शुरुआत  19 वीं शताब्दी की शुरुआत में हुई थी।  ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा बैंक ऑफ बंबई, बैंक ऑफ कलकत्ता और बैंक ऑफ मद्रास की शुरुआत हुई ।

बैंक के प्रकार

अर्थव्यवस्था में विभिन्न क्षेत्रों की वित्तीय आवश्यकताओं के हिसाब से बैंक को अलग अलग क्षेत्र में बांटा गया है। बैंकों के मुख्य 6 प्रकार है। औद्योगिक बैंक, व्यापारिक बैंक, कृषि बैंक , विदेशी विनिमय बैंक, केन्द्रीय बैंक, बचत बैंक।

केंद्रीय बैंक देश का सर्वोच्च बैंक हैं। इस बैंक में देश की सभी प्रकार के नोट छापे जाते हैं। केंद्रीय बैंक देश के भीतर की सभी बैंकों को संचालन करती है। 

बैंक का कार्य

बैंक जनता की धन राशि को जमा करता है। उस पैसों पर बैंक व्याज भी देता है। बैंक बड़े-बड़े Business Loan, Home Loan, Car Loan और Education Loan भी दिया करते हैं। बैंक अपने ग्राहकों के लिए एजेंसी का काम भी करता है जैसे कीग्राहकों के लिए बिलों, चेकों का भुगतान करना,  बीमा कंपनियों को  राशि चुकाना। बैं

क जनता को लॉकर सुविधा भी प्रदान करती है।  जिसमें लोग अपना कीमती सामान और महत्वपूर्ण दस्तावेज रख सकते हैं। सभी बैंकें अपने ग्राहकों को क्रेडिट कार्ड की पेशकश करते हैं। जो कि उत्पादों और सेवाओं को खरीदने के लिये या पैसे उधार लेने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। बैंक के द्वारा दुनिया के किसी भी कोने से दूसरे कोने में पैसा स्थानांतरण कर सकते है।

बैंक के लाभ

बैंक देश की अर्थव्यवस्था में रक्तवाहिनी की भांति काम करता है। बैंक हमारी छोटी छोटी धन राशि पर व्‍याज देता है,जिनसे जनता को छोटी छोटी बचत करने का प्रोत्साहन मिला है। बैंक छोटी-छोटी  बचतों को एकत्रित करके बड़े बड़े व्यापारी और उद्योगपतियों की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करता है। 

बैंक जमा पूंजी को गतिशीलता प्रदान करते हैं , इससे  उत्पादन, रोजगार, राष्ट्रीय आय आदि में वृद्धि होती है । बैंक लेनदेन प्रकृति में बहुत पारदर्शी होते हैं और आप अपनी पासबुक के माध्यम से अपने लेनदेन का ट्रैक रख सकते हैं। हम कुछ निश्चित खर्चों जैसे टेलीफोन बिल, बिजली बिल आदि का भुगतान करने के लिए  सीधे बैंक खाते में भुगतान भी प्राप्त कर सकते हैं।

बैंक द्वारा प्रदान किया हुआ डेबिट कार्ड का इस्तेमाल  करके आप कही पर भी एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं।

निष्कर्ष

किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में बैंक का स्थान महत्वपूर्ण माना जाता है। हमारे देश में बैंकिंग  सुविधाजनक और परेशानी मुक्त है। बैंक हमारी जमा धनराशि के लिए निर्भयता और सुरक्षा प्रदान करता है। हमें बैंक की सभी सेवाओं का उपयोग करना चाहिए ताकि देश की अर्थव्यवस्था मजबूत बनी रहे। बैंकों के बिना आर्थिक विकास की कल्पना करना संभव नहीं है।

अंतिम शब्द

हमने यहां पर “बैंक पर निबंध(Essay on Bank in Hindi)” शेयर किया है ।उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

ऑनलाइन शिक्षा का महत्व पर निबंध

इंटरनेट पर निबंध

मेरा विद्यालय पर निबंध

Follow TheSimpleHelp at WhatsApp Join Now
Follow TheSimpleHelp at Telegram Join Now
Rahul Singh Tanwar
Rahul Singh Tanwar
राहुल सिंह तंवर पिछले 7 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे हैं। इनको SEO और ब्लॉगिंग का अच्छा अनुभव है। इन्होने एंटरटेनमेंट, जीवनी, शिक्षा, टुटोरिअल, टेक्नोलॉजी, ऑनलाइन अर्निंग, ट्रेवलिंग, निबंध, करेंट अफेयर्स, सामान्य ज्ञान जैसे विविध विषयों पर कई बेहतरीन लेख लिखे हैं। इनके लेख बेहतरीन गुणवत्ता के लिए जाने जाते हैं।

Related Posts

Leave a Comment