पर्यावरण प्रदूषण और इसके विभिन्न प्रकार

Environmental Pollution in Hindi: ईश्वर ने इस पृथ्वी कि रचना इस प्रकार से कि हैं की इस पर जीवन संतुलित रूप से चलता रहे। धरती का संतुलन बनाने में वायु, भूमि, जल, वनस्पति, पशु-पक्षी और पेड़-पौधों के साथ साथ मनुष्यों का अहम योगदान हैं। लेकिन दुर्भाग्य से धरती पर असंतुलन के कारन आज पर्यावरण प्रदूषण जैसी विकट परिस्थिति पैदा हो गयी हैं। जो की हम मनुष्यों के साथ-साथ अन्य प्राणियों के लिए भी खतरे कि घंटी हैं।

पिछले कुछ वर्षों कि तुलना में आज पर्यावरण को नुकसान अधिक हो रहा हैं। जहाँ पहले पेड़-पौधों, खेत व जल स्रोतों कि संख्या अधिक थी, वहीँ अब उसकी जगह बड़े बड़े मकान, उद्योग और फैक्ट्रियों ने ले ली हैं। बड़े-बड़े बिल्डर भी अधिक से अधिक जंगलों कि कटाई करके वहां कॉलोनियां बसा रहे हैं, जिसकी वजह से पर्यावरण में बहुत ही नुकसान हो रहा हैं। सड़कों पर पहले कि तुलना में वाहनों कि संख्या में भी भारी इजाफा हुआ हैं। यह भी एक बड़ा कारण है।

Environmental Pollution in Hindi
Environmental Pollution in Hindi

निरंतर हमारे आसपास का वातावरण दूषित होता जा रहा हैं। वायु के साथ साथ जल प्रदूषण का स्तर भी तेजी से बढ़ रहा हैं, इन सबके साथ-साथ जगह जगह कचरे कि बदबू व ध्वनि यंत्रों कि तेज आवाजें निरंतर पर्यावरण को दूषित करने के काम काम कर रहे हैं।

आज बड़े-बड़े शहरों के साथ छोटे शहर व गाँवों में भी प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा हैं। आपको यह जानकारी होनी चाहिए कि इन सबके ही कारण स्वास्थ्य से संबंधित कई नयी व पुरानी बीमारियाँ व्यापक रूप से फ़ैल रही है। इसके लिए हम सभी को नए सिरे से और सृजनात्मक विचारधारा के साथ इसका स्थायी समाधान खोजने कि जरुरत हैं। इसके लिए हम इस आर्टिकल में पर्यावरण प्रदूषण (Environmental pollution) के निवारण से सम्बन्धित ऐसे उपायों के बारे में चर्चा करेंगे।

Read Also: पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित करते नारे

विषय सूची

पर्यावरण प्रदूषण और इसके प्रकार – Environmental Pollution in Hindi

प्रदूषण क्या है?

आपके मन में यह सवाल जरुर आता होगा कि प्रदूषण का अर्थ क्या हैं? अथवा प्रदूषण क्या है? (Environmental Pollution in Hindi) तो इसका उत्तर यह हैं जब पर्यावरण में कोई भी पदार्थ कि मात्र सामान्य से अधिक हो जाती हैं तब वह पर्यावरण को दूषित करने का काम करता हैं। ऐसे में उसे प्रदूषण कहा जाता हैं।

नदियों का पानी दूषित हो जाता हैं तब वह मानव उपयोग के लिए असुरक्षित होता हैं, अधिक धुआं व धुल के कारण हमारे आसपास कि वायु दूषित हो जाती है उसे वायु प्रदूषण कहते हैं। वायु के दूषित होने से स्वांस लेने में परेशानी होने लगती हैं।

आप जानते होंगे कि फैक्ट्रियों और चिमनियों के धुंए के कारण वायु में प्रदूषण का स्तर बढ़ जाता हैं। उद्योगों के कारण मृदा भी प्रदूषित होती है, इसके अलावा ध्वनि भी वातावरण को दूषित करने का काम करती है।

प्रदूषक क्या होता है?

जिन प्रदार्थों के कारण प्रदूषण होता हैं, उसको प्रदूषक कहते हैं। इसको गलत जगह, समय और मात्रा के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता हैं। प्रदूषक मानव स्वास्थ के लिए हानिकारक होते हैं। हमारे नदी में नहाने और कपड़े धोने कि वजह से शरीर से निकला मैल व कपड़ों के साबून के नदियों में जाने से नदियों का जल भी प्रदूषित हो जाता हैं।

प्रदूषण के प्रकार – Types of Pollution in Hindi

प्रदूषण का वर्गीकरण (Environmental Pollution in Hindi) निम्नलिखित प्रकार से किया जा सकता है:

  • वायु प्रदूषण
  • जल प्रदूषण
  • मृदा प्रदूषण 
  • ध्वनी प्रदूषण

वायु प्रदूषण क्या है – Air Pollution in Hindi

वायु प्रदूषण प्रस्तावना – Environmental Pollution in Hindi

हम सबको ज्ञात हैं की मानव जीवन के लिए आक्सीजन अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, केवल मानव जीवन ही क्यों सभी प्राणियों के लिए आक्सीजन आवश्यक चीज है। हम ऑक्सीजन को स्वांस के रूप में लेते हैं और कार्बनडाईऑक्साइडओक्सिद को छोड़ते है। पेड़ पौधों में यही प्रक्रिया उलटी होती हैं। वे दिन के समय कार्बडाईआक्साइड ग्रहण करते हैं और ऑक्सीजन छोड़ते हैं।

इससे वायु में ऑक्सीजन तथा कार्बनडाईआक्साइड का संतुलन बना रहता हैं। वर्तमान में अधिकांश जगह अलग-अलग प्रकार के प्रदूषक होते है जो मानव स्वास्थ के लिए नुकसानदायक होते हैं।

वायु प्रदूषण के स्रोत – Sources of Air Pollution in Hindi

मनुष्य कि अनेक गतिविधियाँ वायु प्रदूषण का कारण होती हैं, इसलिए इनकी विशेष रूप से जांच होनी चाहिए। वायु प्रदूषण जैसे वाहनों से निकलने वाले धुंए, पटाखों के जलने और कोयले आदि के धुंए से कई क्षेत्रों में जहरीला पदार्थ फैलता है।

अगर वास्तविक सच्चाई देखी जाये तो इस प्रदूषण का मुख्य कारण मनुष्य खुद ही हैं। इसके अलावा कुछ ऐसे प्राकृतिक स्रोत भी जिसके कारण प्रदूषण फैलता हैं, जैसे ज्वालामुखी, जंगलों में लगने वाला आग जो कि वायु के साथ फैलकर प्रदूषण फैलाती हैं, हालाँकि यह मनुष्य के द्वारा फैलने वाले प्रदूषण कि तुलना में बेहद कम हैं।

वायु प्रदूषण के प्रभाव – Chief Air Pollutant & their effects in Hindi

आइए, अब vayu pradushan के कुछ प्रभावों के बारे में विस्तार से चर्चा करते है।

पेड़-पौधों में भोजन प्रणाली सूर्य के प्रकाश के कारण संचालित होती है। ऐसे में जब प्रदूषण होता हैं तो पेड़ पौधों के पत्तियों के छिद्र बंद हो जाते है और उनकी स्वांस लेने कि प्रक्रिया बंद हो जाती है। जैसा कि हमने पहले चर्चा कि हैं कि मनुष्य कि स्वांस प्रणाली में पेड़ पौधों का अहम योगदान होता हैं, ऐसे में मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए एक प्रकार से यह खतरा साबित होते है।

क्‍या आप जानते हैं?

1990-91 में खाड़ी युद्ध के दौरान तेल के कुओं में आग लग गयी थी। इससे अधिक मात्रा में धुआं निकला था जिस वजह से वहां के आसपास के तापमान का स्तर बढ़ गया था। इसके साथ ही बड़ी मात्रा में वनस्पति नष्ट हो जाने के साथ प्राकृतिक सौन्दर्य भी समाप्त हो गया था।

वायु प्रदूषण के निवारण –  Air pollution prevention measures in Hindi

यदि हम नीचे दिए गये उपायों के सम्बन्ध में विचार करेंगे, तो जरुर इस प्रदूषण को नियंत्रित कर सकते हैं।

  • घर के अंदर धुंए तो बाहर निकलने के लिए चूल्हे पर बड़ी चिमनी का प्रयोग करें, और धुंए रहित चूल्हे का उपयोग करें।
  • आप घर में बायोगैस का प्रयोग कर सकते हैं, यहाँ धुआं रहित इंधन हैं।
  • सूर्य कि उर्जा से चलने वाला सौलर कुकर भी इसमें बहुत उपयोगी हैं।
  • बड़ी फैक्ट्रियों के चिमनियों में फिल्टर होने चाहिए ताकि विषैले पदार्थ बाहर हवा में न फैलकर अंदर ही रह जाएं।
  • जहाँ रिहायशी इलाके हो वहां फैक्ट्रियों को लगाने कि इजाजत नहीं दी जानी चाहिए।
  • वाहनों पर ऐसे यंत्र लगने चाहिए, जिनसे वाहनों के धुंए में प्रदूषक पदार्थों कि मात्रा कम हो सके।
  • सीसा रहित पेट्रोल का प्रयोग तथा सीएनजी का अधिक से अधिक उपयोग करना चाहिए।
  • कूड़े-कचरे का निपटन साफ़ तरीके से करना चाहिए, ना कि उसे जलाना चाहिए। इसका प्रयोग भूमि भराव में भी किया जा सकता हैं।
  • वातावरण में धुल न उड़े इसके लिए पक्की सडकों का निर्माण होना चाहिए। ताकि हवा साफ़ रह सके।
  • वातावरण को शुद्ध रखने में वृक्षों का अहम योगदान होता हैं, इसलिए अधिक से अधिक वृक्ष लगाने चाहिए।
  • मृदा को सुरक्षित रखने के लिए पूरे साल कोई न कोई फसल उगाते रहना चाहिए।

जल प्रदूषण क्या है – Water Pollution in Hindi

जल प्रदूषण का अर्थ – Environmental Pollution in Hindi

आमतौर पर हमारे घरों में उपलब्ध होने वाला पेय जल सुरक्षित व कीटाणु रहित होता है। क्योंकि इसे नगर निगम प्राधिकारियों द्वारा फिल्टर करने के बाद ही घरों में आपूर्ति के लिए भेजा जाता हैं। इस पानी कि यह विशेषता होती हैं कि इसमें कोई गंध, स्वाद, कीटाणु व धूल नहीं होती हैं। यह पानी पीने के लिए उपयुक्त होता।

हर प्रकार का जल पीने योग्य नहीं होता हैं। आमतौर पर घर में अन्य कार्यों के लिए उपयोग होने वाला जल भी सुरक्षित नहीं होता हैं। न पीने योग्य पानी में ठोस कण पाए जाते हैं जो पानी को दूषित करते हैं।

क्या आप जानते हैं?

प्रदूषित जल रंगयुक्त हो सकता है इसमें धूल के कण हो सकते हैं, इसमें दुर्गन्ध हो सकती है और इसमें स्वाद भी हो सकता है।

जल प्रदूषण के स्रोत

इन वस्तुओं को जल में डालने के कारण जल प्रदूषित हो जाता है।

घरेलू अपशिष्ट – Domestic effluents

अलग-अलग प्रकार कि घरेलु गतिविधियों के कारण घरेलु अपशिष्ट पैदा होता हैं। वही जल जब नदियों व तालाबों के आसपास फैलता हैं या उनमें जाकर मिलता हैं तो नदियों का साफ़ पानी भी दूषित हो जाता हैं।

ओद्योगिक अपशिष्ट – Industrial effluents

विभिन्न प्रकार कि फैक्टरियों से निकलने वाला हानिकारक जल तालाबों व नदियों तथा समुन्द्रों में मिलता हैं तो इससे भी जल प्रदुषण होता है।

कृषि अपशिष्ट – Agricultural effluents

सामान्य तौर पर कृषि में रासायनिक खाद व कीटनाशकों का प्रयोग किया जाता हैं वर्ष के दौरान खेतों में बहने वाला कटाव वाला पानी साफ़ जल्द में मिल जाता हैं। बाद में वही जल नदियों, तालाबों में मिल जाता हैं, जो जल्द प्रदूषण का कारण बनता हैं।

तेल का रिसाव – Oil Pollution

कई बार ऐसा होता हैं कि तेल के टैंकरों से तेल का रिसाव होता हैं, जिसकी वजह से समुन्द्र का पानी दूषित हो जाता हैं और उसमें मौजूद समुंद्री जीव व पौधों के लिए नुकसानदायक होता है।

जल प्रदूषण के प्रभाव – Harmful effects of water pollution in Hindi

जो भी प्रदूषित जल का सेवन करते है, वे सभी इस जल प्रदूषण से प्रभावित होते हैं। उनमें से मनुष्य, पशु और पेड़-पौधे शामिल हैं। कई बार महामारियां फैलती हैं, जिसका मुख्य कारण जल प्रदूषण भी होता हैं।

पानी में रहने वाले जीव और पेड़-पौधे भी समुंद्री जल के दूषित होने से प्रभावित होते हैं। क्योंकि समुन्द्र के पानी में ऑक्सीजन कि मात्रा कम हो जाती हैं इससे समुन्द्र में मौजूद जीव मर जाते हैं।

जल प्रदूषण के निवारण – Water pollution prevention and control in Hindi

Jal Pradushan को रोकने के लिए नीचे कुछ उपाय दिए गये हैं, जो उपयोगी सिद्ध हो सकते हैं।

  • हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि स्वच्छ जल स्रोत में गन्दा जल न मिले।
  • उद्योगों को वेस्ट जल को नदियों व तालाबों में डालने कि अनुमित नहीं देनी चाहिए।
  • जल स्रोत के पास और खुले में शौच नहीं करना चाहिए और इसके लिए शौचालय का ही प्रयोग करना चाहिए।
  • स्वच्छ जल स्रोतों के नजदीक नहाना, कपड़े धोना तथा पशुओं को नहलाना नहीं चाहिए इसके लिए विशेष रूप से बनाये गये स्रोतों का ही प्रयोग करना चाहिए।
  • कचरे को समुन्द्रों व नदियों में नहीं डालना चाहीये।
  • जल स्रोत के रूप में उपयोग लाये जाने वाले तालाब या कुएं के चारों और पक्की फर्श व मुंडेर होनी चाहिए।

मृदा प्रदूषण क्या है – Soil Pollution in Hindi

भौतिक, रासायनिक व जैविक रूप से होने वाले परिवर्तन को मृदा प्रदूषण हैं जो जीवों पर हानिकारक प्रभाव डालते हैं। फैक्ट्रियों के अपशिष्ट को फेंका जाता हैं तब मृदा प्रदूषित हो जाती हैं इससे वह भूमि बंजर बन जाती हैं।

इसके अलावा भूमि में अत्यधिक मात्रा में कीटनाशकों व उर्दरकों का प्रयोग करने से यह पौधों व फलों और सब्जियों में मिल जाते हैं। इसके बाद वही रसायन हमारे भोजन के माध्यम से पेट में जाकर पाचनतंत्र को नुकसान पहुंचाता हैं।

हमारे देश में खुले में शौच और पेशाब करना सामान्य बात हैं, इसमें मौजूद कीटाणु मृदा को दूषित कर देते हैं। बारिश के समय वही मृदा स्वच्छ जल स्रोतों में जाकर मिल जाती हैं जिससे, साफ़ जल भी दूषित हो जाता हैं।

मृदा प्रदूषण के निवारण – Soil pollution control and prevention measures in Hindi

यहाँ हम मृदा प्रदूषण के कुछ निवारणों के बारे में चर्चा करेंगे जो इस प्रकार हैं।

कूड़े-कचरे का उचित निपटान

घर में ढक्कनयुक्त कूड़े दान का प्रयोग करना चाहिए, ताकि इस पर मक्खियाँ, मच्छर व कॉकरोच पैदा न हो सके। इसके साथ कूड़े के निपटान के लिए घरमे उचित व्यवस्था होनी चाहिए।

कूड़े-कचरे का निपटान शहर से बाहर करना

घर के अपशिष्ट पदार्थों को गड्ढे में भर दिया जाता है और इन्हें टहनियों और पौधों से ढक दिया जाता हैं ताकि इन पर मक्खियाँ और मच्छर न पनप सकें। जब ये गड्ढे भर जाते हैं तो इन्हें मिट्टी से ढक दिया जाता है।

खाद बनाना (कंपोस्टिंग)

घर के बगीचे में कूड़े को एक जगह गड्ढा खोदकर डाल देना चाहिए और उसे राख और पत्तियों से ढक देना चाहिए। धीरे-धीरे इसके नीचे कि परतें खाद बनती जाती है, बाद में उस खाद को बागवानी के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

कूड़े-कचरे को जलाना

कूड़े-कचरे को इकठ्ठा जला देना उचित समाधान हैं, इसे कचरे कि मात्रा कम हो जाती हैं और उसमें मौजूद रोगाणु समाप्त हो जाते हैं।

भस्मीकरण

कूड़े से निपटने के लिए भस्मीकरण तरीका बहुत अच्छा हैं लेकिन यह महंगा हैं, इसमें भारी मात्रा में इंधन का इस्तेमाल होता हैं। इसमें एक भट्टी में कचरा भरकर जला दिया जाता हैं। धीरे-धीरे कचरा राख के छोटे-छोटे ढेर में बदल जाता हैं।

हालाँकि ऊपर बताये गये तरीकों में से कोई भी कचरे से निपटने के लिए उचित तरीका नहीं हैं। प्रय्तेक तरीके के अपने-अपने गुण और दोष हैं। लेकिन हम घरों से निकलने वाले कचरे के सम्बन्ध में आसपास के लोगों को शिक्षित करके वातावरण को साफ़ सुधरा रख सकते हैं।

मृदा प्रदूषण को नियंत्रित करने के कुछ अन्य उपाय हैं:

  1. स्वच्छ शौचालयों का प्रयोग
  2. कीटनाशक तथा उर्वरकों का सीमित प्रयोग
  3. पर्यावरणसहिष्णु वस्तुओं का प्रयोग

ध्वनि प्रदूषण क्या है

ध्वनि यंत्रों को तेज आवाज में चलाने से ध्वनि प्रदुषण फैलता हैं। जब भी हम संगीत अथवा मित्रों के साथ तो वार्ता का आनंद लेते हैं, लेकिन जब मशीनों और लाउडस्पीकर के शोर और यातायात कि ध्वनि सुनते हैं तो इसकी आवाज अधिक होती हैं। यह ध्वनि परेशान कर देने वाली होती हैं। और इससे ध्वनि प्रदूषण फैलता है।

ध्वनि प्रदूषण के स्रोत

अपने आस-पास देखिए और पहचानिए कि dhwani pradushan ध्वनि प्रदूषण के कौन-कौन से स्रोत आपके आस-पास विद्यमान हैं। इसमें से कुछ स्रोत इस प्रकार हो सकते हैं:

  • मोटर-वाहन, रेलगाड़ियाँ और विमान
  • लाउडस्पीकर, रेडियों तथा टेलीविजन, जब वे ऊँची आवाज में चल रहे हों।
  • उद्योग तथा मशीनें

ध्वनि प्रदूषण के प्रभाव

लम्बे समय तक तेज आवाजें सुनते रहने से हमारे कानों कि नसों पर दबाव बनने लगता हैं और सिरदर्द होता हैं। निरंतर ऐसा होने से धीरे-धीरे हमारे सुनने कि क्षमता कम हो जाती है। अक्सर ऐसा देखा गया हैं जो लोग फैक्ट्रियों में काम करते है या ड्राईवर, पायलट ये लोग अधिक आवाज सुनने के आदि होते हैं उनको धीमी आवाजें कम सुनाई देती है।

उनके कान का परदा खराब हो जाता है और कभी- कभी वे बहरे भी हो जाते हैं। अधिक शोर के कारण तनाव बढ़ता है और मानसिक अस्थिरता की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है।

ध्वनि प्रदूषण के निवारण

ध्वनि प्रदूषण पर हम पूरी तरह से तो छुटकारा नहीं पा सकते हैं, किन्तु कुछ निश्चित रूप से इसकी मात्रा को कम कर सकते हैं। इसके लिए कुछ सुझाव इस प्रकार से है।

  • रेडियो तथा टेलीविजन धीमी आवाज में चलाना।
  • लाउडस्पीकर इस्तेमाल न करना।
  • अत्यंत आवश्यक होने पर ही वाहन का हॉर्न बजाना।
  • फैक्टरियों को रिहायशी इलाकों से दूर बनाना।
  • हवाईअड्डों का निर्माण शहर से बाहर करना।

निष्कर्ष

इस लेख “Environmental Pollution in Hindi” में आपने विभिन्न प्रकार के प्रदूषणों तथा सभी जीवों पर उनके हानिकारक प्रभावों का अध्ययन किया है। आप इन प्रदूषणों को नियंत्रित करने के कुछ उपायों के बारे में भी जान चुके हैं। इतने अध्ययन के बाद हम यह कह सकते हैं कि प्रदूषण को पूरी तरह से नियंत्रण में करना हमारे ही हाथ में है।

इन छोटे-छोटे प्रयासों से हम लोगों को अंधेपन व साँस के रोगों से बचा सकते हैं। हमारा यह भी कर्तव्य है कि हम ध्वनि के प्रदूषण को भी बहुत कम कर दें और लोगों को बहरा होने तथा मानसिक तनावों से बचा लें। हम जल प्रदूषण को राकने के लिए सख्त नियम बना सकते हैं और इस प्रकार लोगों को दस्त, आंत्रशोथ तथा हेपेटाइटिस जैसे रोगों से बचा सकते हैं।

हमारा फेसबुक पेज लाइक जरूर कर दें।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here