डॉ राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय

डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का नाम भारत का बच्चा-बच्चा जानता है क्योंकि यह भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। मगर इसके अलावा क्या आप डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद के बारे में कुछ भी जानते है? भारत के प्रत्येक नागरिक को यह जानने की आवश्यकता है कि डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद भारत के युवा स्वतंत्रता संग्रामी थे। वे बढ़ चढ़कर भारतीय आजादी आंदोलन में हिस्सा लिया करते थे। अगर आप डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय पढ़ना चाहते हैं, तो हमारे लेख के साथ अंत तक जुड़े रहे।

Dr Rajendra Prasad Biography in Hindi

भारत 1950 में एक गणतंत्र देश के रूप में दुनिया के समक्ष आया। उस वक्त भारतीय संविधान को बनाने वाले कुछ दिग्गजों में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का नाम भी शामिल था। उन्हें सबसे पहले भारत का खाद और कृषि विभाग सौंपा गया था, जिसमें अतुलनीय काम करने के बाद वह भारत के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में सबके समक्ष आए।

डॉ राजेंद्र प्रसाद ने भारत के अलग-अलग क्षेत्र में किस प्रकार अपना योगदान दिया? यह हम डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय पढ़ते हुए जानेंगे, जिसे आप आज के लेख में विस्तार पूर्वक पढ़ सकते हैं।

डॉ राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय

राजेन्द्र प्रसाद की जीवनी एक नज़र में

पूरा नामडॉ राजेंद्र प्रसाद
धर्महिंदू
काम और सम्मानभारत के प्रथम राष्ट्रपति और अपने राजनीतिक और सामाजिक योगदान की वजह से 1962 में भारत रत्न से सम्मानित।
जन्म3 अक्टूबर 1884
मृत्यु28 फरवरी 1963

डॉ राजेंद्र प्रसाद कौन थे?

3 दिसंबर 1884 को बिहार की राजधानी पटना के समीप एक छोटे से गांव जीरादेई में भारत के महान स्वतंत्रता सैनानी और प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद का जन्म हुआ। इनके पिता का नाम महादेव सहाय था, जो एक किसान थे और इनकी माता का नाम कमलेश्वरी देवी था।

इनके पिता संस्कृत और फारसी भाषा के अपने जमाने के बहुत बड़े ज्ञानी हुआ करते थे। इन्हें अपने पिता से विभिन्न भाषाओं का ज्ञान हुआ और अपनी माता से धर्म ग्रंथ के बारे में जानकारी प्राप्त हुई। उस जमाने में बाल विवाह एक साधारण बात होती थी, जिस वजह से 12 साल की कम उम्र में राजेंद्र प्रसाद का विवाह राजवंशी देवी से कर दिया गया।

राजेंद्र प्रसाद की शिक्षा

उनका बचपन का खेल कूद बहुत जल्द खत्म हो गया और 5 साल की उम्र में उन्हें शिक्षा देने के लिए उनके पिता ने गांव के एक मौलवी के पास राजेंद्र प्रसाद को भेजना शुरू किया। राजेंद्र ने अपने गांव के मौलवी से फारसी और उर्दू भाषा का ज्ञान हासिल किया।

राजेंद्र प्रसाद की कुछ प्रारंभिक शिक्षा उसी जीरादेई गांव में हुई। बचपन से ही राजेंद्र प्रसाद का झुकाव पढ़ाई के तरफ बहुत था। वह पढ़ना लिखना बहुत पसंद करते थे, जिस वजह से उन्हें पटना के टीके एकेडमी में स्नातक की पढ़ाई करने का मौका मिला। जिसके बाद कोलकाता विश्वविद्यालय में उन्होंने प्रवेश लिया और अच्छे अंक से अपने स्नातक और पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की।

राजेंद्र प्रसाद की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण उन्हें कोलकाता विश्वविद्यालय में पढ़ने के लिए ₹30 प्रति माह का स्कॉलरशिप मिलना शुरू हुआ। उस जमाने में आपने गांव से विश्वविद्यालय में दाखिला पाने में सफलता प्राप्त करने वाले वह पहले व्यक्ति थे।

1907 में इकोनॉमिक्स से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद 1915 में कानून में मास्टर डिग्री हासिल की, जिसके लिए उन्हें गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया। उसके बाद वह पटना आकर वकालत का काम करने लगे, जिसमें उन्होंने पूरे पटना में बहुत धन और नाम हासिल किया।

किसी भी केस की सुनवाई के लिए डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का नाम सबसे पहले लिया जाता था। इस महान हस्ती की वकालत की कला की कहानी गांधीजी तक पहुंच गई थी और उन्होंने डॉ राजेंद्र प्रसाद को स्वतंत्रता सेनानी के रूप में देश के आजादी के लिए आंदोलन में हिस्सा लेने का आमंत्रण दिया।

यह भी पढ़ें: चंद्रशेखर आजाद का जीवन परिचय

डॉ राजेंद्र प्रसाद के बहुत सारे पढ़ाई के किस्से आज भी अलग-अलग जगहों पर सुनाए जाते हैं। उनमें से एक प्रचलित किस्सा है की किसी परीक्षा में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को पांच प्रश्नों के सही उत्तर लिखने को कहा गया था और 10 प्रश्न पूछे गए थे उन्होंने दसों प्रश्न का सही उत्तर लिखा और परीक्षा पत्र के अंत में लिख दिया कि कोई भी पांच चुनकर चेक कर लें। इसके बाद उन्होंने सबको पूरा संविधान याद करके भी दिखाया। डॉ राजेंद्र प्रसाद को पूरा संविधान मुंह जबानी याद था।

राजनीति और आंदोलन में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का पहला कदम

डॉ राजेंद्र प्रसाद अपने जमाने के बहुत नामी और प्रचलित वकील हुआ करते थे। ना केवल भारतीय बल्कि अंग्रेज भी इसी समस्या पर उनकी राय लेने आते थे।

1917 में गांधीजी बिहार आए और यहां पर नील मजदूर को बहुत परेशान किया जा रहा था। वह जितना फसल उगाते थे, उसका सही कीमत नहीं दिया जाता था और जबरदस्ती उनसे नील की ही फसल उगाई जाती थी। इस तरह बिहार में किसान और मजदूरों की हालत दिन ब दिन खराब होती जा रही थी। इस समस्या का निराकरण करने के लिए गांधीजी चंपारण पहुंचे और सबसे पहले राजेंद्र प्रसाद से मिलकर इस समस्या के बारे में विचार विमर्श किया।

राजेंद्र प्रसाद जब पहली बार गांधी जी से मिले तो उनके व्यक्तित्व से बहुत प्रभावित हुए और उनका मदद करने के लिए अंग्रेजो के खिलाफ इस आंदोलन में खड़े हुए परिणाम स्वरुप अपनी वकालत के दम पर राजेंद्र प्रसाद ने गांधी जी समेत अन्य मजदूरों को उनका हक दिलवाने में कामयाब रहे।

इसके कुछ साल बाद जब 1919 में सविनय अवज्ञा आंदोलन की लहर पूरे भारत में दौड़ी तो गांधी जी ने सभी लोगों को स्कूल कॉलेज और अंग्रेजो के द्वारा दी गई प्रत्येक चीज का बहिष्कार करने को कहा। जिसमें डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने अपनी नौकरी छोड़ दी और एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में बिहार से आजादी की लड़ाई का आगाज किया। 

बिहार में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने बढ़-चढ़कर विभिन्न आंदोलन में हिस्सा लिया और अंग्रेजों को यहां से भगाया। 1942 में अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को गिरफ्तार कर लिया गया और कई महीनों तक नजरबंद करके रखा गया। जिसके बाद 15 अगस्त 1947 को अंत तक हमारा देश आजाद हुआ।

इसके बाद भी हमारे देश में किस प्रकार संविधान होगा और किस तरह का नियम कानून बनेगा इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं थी। जिस वजह से लॉर्ड माउंटबेटन ने देश को कुछ सालों तक चलाने की जिम्मेदारी ली और भारतीय लोगों को संविधान और कानून बनाने का मौका दिया।

इस संविधान बनाने वाले महान दिग्गजों में एक नाम डॉ राजेंद्र प्रसाद भी था। इस दौरान डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के खाद्य और कृषि मंत्री के रूप में लॉर्ड माउंटबेटन की मदद करते थे और संविधान बनाने का कार्य भी करते थे।

अंततः 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू किया गया और भारत का एक गणतंत्र देश के रूप में घोषणा किया गया। इस समय इलेक्शन में 26 जनवरी 1950 को डॉ राजेंद्र प्रसाद को भारत के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में कार्यरत किया गया।

इसके बाद देश सही तरीके से चलने लगा और दुबारा इलेक्शन हुआ तो 1957 में डॉ राजेंद्र प्रसाद दोबारा भारत के राष्ट्रपति के रूप में चुनाव जीत गए और 1962 तक इस सर्वोच्च पद पर विराजमान रहकर भारत की बागडोर को संभाला।

यह भी पढ़ें: स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय

डॉ राजेंद्र प्रसाद का कार्य और सम्मान

डॉ राजेंद्र प्रसाद एक विद्वान, दार्शनिक और अपने जमाने के सबसे नामी वकील में से एक थे। उन्होंने वकालत में गोल्ड मेडल हासिल किया था और भारत के प्रथम और दूसरे राष्ट्रपति भी बने। आज़ादी के समय भारत एक गरीब एक देश था, जिसे संभालना काफी मुश्किल था।

डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद जैसे विद्वान ने इस देश की बागडोर इतनी मजबूती से संभाला कि आज हमारा देश विश्व के सम्मानित देशों में से एक बना। डॉ राजेंद्र प्रसाद अपने कार्य आजादी आंदोलन और ज्ञान की वजह से हमेशा हमें याद रहेंगे।

1962 में डॉ राजेंद्र प्रसाद को सामाजिक और राजनैतिक योगदान की वजह से सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया। अंत में 28 फरवरी 1963 को डॉ राजेंद्र प्रसाद का निधन हो गया। वह एक गंभीर और प्रभावशाली राष्ट्रपति और स्वतंत्रता सेनानी के रूप में प्रत्येक भारतीयों को सदैव याद रहेंगे।

FAQ

डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जन्म कब हुआ?

राजेंद्र प्रसाद का जन्म पटना के समीप जीरादेई नाम के गांव में 3 अक्टूबर 1884 को हुआ था।

डॉ राजेंद्र प्रसाद को क्यों भारत रत्न दिया?

भारत के प्रथम राष्ट्रपति अपने जमाने के सबसे प्रचलित वकील कानून में गोल्ड मेडलिस्ट, पूरा संविधान मुंह जबानी याद रखने वाले और एक महान विद्वान जिनके राजनैतिक और सामाजिक नेतृत्व में भारत ने कई आंदोलन में विजय प्राप्त की और उनके इस राजनीतिक और सामाजिक योगदान को सम्मान देने के लिए भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न दिया गया।

भारत का दूसरा राष्ट्रपति कौन था?

डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में 26 जनवरी 1950 को विराजमान हुए मगर इसके बाद 1957 को दूसरी बार भारत के राष्ट्रपति के रूप में जाना जाता है।

डॉ राजेंद्र प्रसाद क्या कार्य करते थे?

डॉ राजेंद्र प्रसाद स्वतंत्रता सेनानी बनने से पहले पटना के सबसे नामी वकीलों में से एक हुआ करते थे जो 1917 में चंपारण आंदोलन में गांधीजी के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर स्वतंत्रता सेनानी के रूप में भारतीय आजादी आंदोलन में हिस्सा लिए।

निष्कर्ष

ऊपर बताई गई सभी जानकारियों को पढ़ने के बाद आप डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद के राजनीतिक और सामाजिक योगदान को समझ पाए होंगे। किस प्रकार उन्होंने भारत के प्रत्येक नागरिक के लिए अपना जीवन देश को समर्पित किया और एक राजनेता के रूप में उन्होंने भारत की बागडोर बहुत विषम परिस्थिति में संभाली।

परिणाम स्वरूप आज हमारा देश विश्व के कुछ सम्मानित देशों में से एक बन पाया। डॉ राजेंद्र प्रसाद अपनी वकालत और आंदोलन की वजह से भी हमें हमेशा याद रहेंगे।

इस लेख में बताया गया डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय अगर आपको लाभदायक लगता है और सभी प्रकार की जानकारियां आपको मिली है, तो इसे प्रत्येक व्यक्ति के साथ साझा करें ताकि भारत के इस सुपुत्र के बारे में सभी को पता चले साथी अपने विचार हमें कमेंट करके बताना ना भूलें।

यह भी पढ़ें:

डॉ. भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जीवन परिचय

महात्मा गांधी का जीवन परिचय

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जीवन परिचय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here