क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया पर निबंध

Clean India Green India Essay in Hindi: स्वच्छ भारत हरा भारत अभियान प्रधानमंत्री जी के द्वारा चलाया गया एक महत्वपूर्ण अभियान है। इस मिशन के अंतर्गत जो वन प्रदेश है उनकी रक्षा करना तथा अधिक से अधिक संख्या में वृक्षारोपण करना ताकि हम अपने पर्यावरण को सुरक्षित रख सके। हम यहां पर क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Clean India Green India Essay in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया पर निबंध | Clean India Green India Essay in Hindi

क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया पर निबंध (250 शब्द)

जब से हमारे देश में औद्योगिक क्रांति हुई थी, उसके बाद से हमारे पर्यावरण में कार्बन में भी बड़ी भारी मात्रा में वृद्धि हुई है। वाहनों से निकलने वाले धुंआ और औद्योगिक क्षेत्र से निकलने वाली हानिकारक गैसों की वजह से हमारा वातावरण प्रदूषित होता जा रहा है। इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरत है कि हम अधिक से अधिक संख्या में पेड़ लगाएं और हमारे पर्यावरण को बचा सके। जो भी हानिकारक गैस निकलती है, यह हमारे सूर्य की गर्मी को भी रोक लेती है जिसकी वजह से ग्रीन हाउस का प्रभाव पड़ जाता है।

ग्रीन हाउस एक प्राकृतिक घटना है, जो जीवन के लिए बहुत जरूरी है। इस घटना से हमारी पृथ्वी एक दिन गर्मी को खो देगी और संपूर्ण पृथ्वी जम जाएगी। अगर इसी प्रकार से इन हानिकारक गैसों की मात्रा बढ़ती रही तो, विश्व का तापमान है वो बढ़ जाएगा। ध्रुवीय बर्फ की टोपियां पिघलने लगेगी, इसका परिणाम हमारे पर्यावरण के साथ तो बुरा होगा ही होगा और सभी मनुष्यों के लिए बहुत बुरा होगा ।

इस प्रकार से हमारी जलवायु के परिवर्तन होने की वजह से ही हमारे प्रधानमंत्री जी के द्वारा ग्रीन इंडिया क्लीन इंडिया अभियान चलाया गया। इस योजना का उद्देश्य है की अधिक मात्रा में वृक्ष लगाना और इसके साथ ही जो वन क्षेत्र है, उनकी गुणवत्ता में बहुत सुधार करना। सभी फैक्टरियों के माध्यम से जो हमारे वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड गैस की अधिकता हो रही है, उससे लोगों का जीवन  वन क्षेत्र से बचाया जा सकता है। पेड़ों के द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड गैस को अवशोषित कर लिया जाता है। उसके बदले हमें ऑक्सीजन मिलती है। मिशन का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण की जैव विविधता में सुधार करना ही है। इस योजना के तहत जो हमारे वातावरण में ग्रीनहाउस गैस को कम करना होगा।

क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया पर निबंध ( 850 शब्द)

प्रस्तावना

हमारे प्रधानमंत्री जी के द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के तहत चलाई गई एक छोटी सी मुहिम थी जिसका नाम ग्रीन इंडिया रखा गया था।आज लोग पर्यावरण के प्रति बहुत लापरवाह होते जा रहे हैं। वनों की अंधाधुंध कटाई के कारण हमारे पर्यावरण को बहुत नुकसान हो रहा है। इसके लिए ही प्रधानमंत्री जी के द्वारा इस योजना को चलाया गया । इस योजना के अंतर्गत जो भी हमारे वन प्रदेश है, उनकी रक्षा करना तथा लोगों को अधिक संख्या में वृक्ष लगवाने के लिए प्रेरित करना। जिससे हमारे पर्यावरण के साथ-साथ हमारे वातावरण भी स्वच्छ रहें, इससे लोगों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े।

क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया को कब बनाया गया?

हमारे भारत के प्रधानमंत्री जी के द्वारा स्वच्छ भारत हरा भारत योजना से कोरोना महामारी के दौरान हमें बहुत मदद मिली थी। इसलिये इस अभियान को चलाने के लिए हमें उनका बहुत आभारी होना चाहिए क्योंकि ग्रीन इंडिया क्लीन इंडिया के अंतर्गत ही हम अपने आप को इस बीमारी से थोड़ा बचा पाए हैं। इस योजना को स्वच्छ भारत अभियान के तहत ही चलाया गया था, इसीलिए इसका नाम स्वच्छ भारत हरा भारत नाम दिया।

क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया का लोगों को संदेश

इस अभियान के द्वारा लोगों को हमारे पर्यावरण और प्रकृति के प्रति जागरूक करना है।आज लोग हमारे पर्यावरण के प्रति बहुत लापरवाह हो रहे हैं और बिना वजह पेड़ों की कटाई किए जा रहे हैं, सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए। इस योजना के तहत उन सभी देश के लोगों को जोड़ना और हमारे पर्यावरण को बचाने के लिए भी लोगों को दिया एक संदेश दिया गया है। इसके अलावा जल प्रदूषण, अपर्याप्त मात्रा में पीने का पानी और स्वच्छता की कमी वनों की कटाई यह सभी इसी योजना के महत्वपूर्ण मुद्दे रहे हैं।

इस योजना में लोगों का योगदान

हमें अपने वातावरण में हो रहे ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए अधिक से अधिक संख्या में पेड़ पौधे लगाना शुरू कर देने चाहिए क्योंकि जो पेड़ है वह हवा में फैल रही ग्रीन हाउस गैसों को दूर करने में हम सभी की मदद करते हैं इसीलिए सभी लोगों से यही निवेदन है कि अधिक से अधिक संख्या में पेड़ लगाएं तथा जो हमारे वनों को नुकसान पहुंचा रहे हैं, उनके खिलाफ कुछ सख्त कदम उठाए। शहरों में भी अधिक मात्रा में वृक्ष लगाएं।

इन सबके अलावा हमें अपने आसपास साफ-सफाई का भी बहुत विशेष ध्यान रखना होगा क्योंकि जब साफ-सफाई रहेगी तो हमारे पेड़ पौधों को नुकसान नहीं पहुंचेगा । इसके साथ लोगों को भी नुकसान नहीं पहुंचेगा क्योंकि साफ सफाई के न रहने की वजह से बहुत गंदगी हमारे आस पास हो जाएगी और बहुत सी बीमारियां ,गंदगी और गंदी बदबू का सामना करना पड़ेगा। लोग अधिक संख्या में बीमार होने लगेंगे इसीलिए हमारे पर्यावरण के लिए अधिक मात्रा में वृक्ष लगाने के साथ-साथ घरज़ मोहल्ले, कस्बे आदि सभी जगह में साफ-सफाई का होना भी बहुत जरूरी है।

सरकार द्वारा उठाए गए कुछ महत्वपूर्ण कदम

हमारे देश को स्वच्छ और हरा भरा बनाने में सरकार के साथ-साथ लोगों की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है। हमारी सरकार ने इसके लिए वन क्षेत्रों की सुरक्षा करने के लिए बहुत कठोर नियम बनाए हैं। इसके लिए सरकार को औद्योगिक क्षेत्र से जहरीली गैस पर रोक लगाने की बहुत जरूरत है। इसके साथ फैक्ट्रियों के निकलने वाले जहरीले धुएं और हानिकारक गैस के बचाव के लिए अपशिष्ट संयंत्त्रो स्थापना होनी चाहिए।

इसके अलावा सरकार ने आर्थिक और ऊर्जा की नीतियों में भी बदलाव किए गए हैं। इससे पर्यावरण को अनुकूल बनाने के लिए जिम्मेदार बनाया जा सके और ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालयों का निर्माण कराया है ताकि लोग खुले में शौच करने की प्रवृत्ति को छोड़ें। इससे हमारे आसपास गंदगी ना हो और वातावरण भी स्वच्छ रहे।

ग्रीन इंडिया क्लीन इंडिया का प्रभाव

प्लास्टिक से बनी हुई चीजों को तोड़ने, गलाने आदि में बहुत साल लग जाते हैं। प्लास्टिक मनुष्य को पचाने के लिए भी नहीं बनाया गया है क्योंकि इसको कार्सिनोजेन भी कहा गया है। इस पदार्थ के द्वारा कैंसर का खतरा हो सकता है। जो ग्लोबल वार्मिंग है, उसको सीधे तौर पर प्लास्टिक और उसके उत्पादन के द्वारा जोड़ा गया है। इसके अलावा ग्रीन हाउस की हानिकारक गैसों के बढ़ते उत्पादन से ग्रीन हाउस प्रभाव को भी तेज कर दिया गया है। इससे हमारे विश्व के तापमान में वृद्धि हुई है। तापमान में वृद्धि होने के कारण पर्यावरण के साथ-साथ हमारे सामाजिक, राजनीतिक,और आर्थिक वातावरण के ऊपर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

निष्कर्ष

हमें अपने पर्यावरण के प्रति तथा देश और समाज के प्रति जागरूक होने की बहुत ज्यादा जरूरत है। इन सब से बचने के लिए हमें अपने आसपास साफ-सफाई का बहुत विशेष ध्यान रखना चाहिए। इसकी शुरुआत हमें अपने घर से ही करनी चाहिए । हमें खुद से अधिक संख्या में पेड़ पौधे लगाकर और घर की साफ सफाई करनी चाहिए, तभी हम दूसरे लोगों को समझा सकते है। क्योंकि जब तक हम अपने घर से शुरुआत नहीं करेंगे तो हम लोगों को भी जागरूक नहीं कर पाएंगे इसीलिए पहले हम खुद बदलेंगे तब हम देश के लोगों को भी बदल पाएंगे।

अंतिम शब्द

उम्मीद करते हैं आपको  क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया पर निबंध ( Clean India Green India Essay in Hindi) पढ़कर बहुत अच्छा लगा होगा, क्योंकि इसमें मैंने अपने बचपन के बारे में बहुत अच्छे तरीके से बताया है। आप लोगों के साथ में अपने अनुभव को बांटा है ,अगर आपको किसी भी प्रकार की बचपन से जुड़ी हुई बातें शेयर करनी है तो आप कमेंट बॉक्स में जाकर बता सकते हैं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here