छठ पूजा पर कविता

Chhath Puja Shayari in Hindi
Chhath Puja Poem in Hindi

छठ पूजा पर कविता – Chhath Puja Poem in Hindi

सूर्य की पूजा है …..छठ पूजा,
यह आस्था विश्वास का है नाम दूजा।

यह है प्रकृति की पूजा,
नदी, चन्द्रमा और सूर्य की पूजा।

यह है स्वच्छता का महान उत्सव,
समाजिक परिदृश्य का महापर्व।

साफ-सूथरा घर आँगन,
यह पर्व है बड़ा ही पावन।

सजे हुए हैं नदी,पोखर,तलाब,
दीपों से जगमग रौशन घाट।

हवन से सुगंधित वातावरण,
सात्विक विचारों का अनुकरण।

सुचितापूर्ण जीवन का संगीत,
धार्मिक परम्पराओं का प्रतीक।

सुमधुर छठ का लोक गीत,
दिल में भरे अपनत्व और प्रीत।

भक्ति और अध्यात्म से युक्त,
तन मन निर्मल और शुद्ध।

स्वच्छ सकारात्मक व्यवहार,
समाज के उन्नति का आधार।

भोजन के साथ सुख शैया का त्याग
व्रती करते हैं कठिन तपस्या।

निर्जला निराहार होता यह व्रत
व्रती पहनते नुतन वस्त्र।

उगते,डूबते सूर्य को देते अर्ध्य
ठेकुआ,कसाढ़,फल,फूल करते अर्पण।

जीवन का भरपूर मिठास
रस,गुड़,चावल,गेहूँ से निर्मित प्रसाद।

हमारी समस्त शक्ति और उर्जा का स्त्रोत,
समाजिक सौहाद्र से ओतप्रोत।

धर्म अध्यात्म से परिपूर्ण
छठ पूजा सबसे महत्वपूर्ण।

-लक्ष्मी सिंह

छठ पूजा की कविता – Chhath Puja Kavita

सूर्य देवता का है अर्चन
जो करता जीवन का अर्जन

जिसके प्रकाश में सुख शांति मिले
जिसकी उर्जा से कण कण खिले

है उसको शत शत नमन
जो दे हमें स्वस्थ जीवन

छठ पूजा है इसका सत्कार
सभी को शुभकामनाएं अपरम्पार

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह Chhath Puja Poetry पसंद आई होगी। इसे आगे शेयर जरूर करें।

Read Also:

यह पोस्ट आपके लिए कितनी उपयोगी रही?

कृपया स्टार पर क्लिक करके रेटिंग दें

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले आप पहले व्यक्ति बनें!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

हमें इस पोस्ट में सुधार करने दें!

कृपया हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here