ब्लैक फंगस क्या है? इसके लक्षण और बचाव

Black Fungus in Hindi: दोस्तों आपने ब्लैक फंगस का नाम सुना होगा, आइये जानते है कि ब्लैक फंगस क्या होता है (Black Fungus Essay in Hindi) और यह किस कारण से होता है। इसमें आपको क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए। इसकी सभी जानकारी हम आपको आज की इस पोस्ट (Essay on Black Fungus in Hindi) में प्रदान करने वाले है।

Black Fungus in hindi
black fungus kya hota hai in hindi

आज भारत में देखा जा रहा है कि कोविड -19 से संक्रमित और ठीक होने वाले कई लोगों में म्यूकोर्मिकोसिस या ब्लैक फंगस (Black Fangs in Hindi) के मामले बढ़ते दिखाई दे रहे हैं, इसने चिकित्सा की मुश्किलों को बड़ा दिया है। भारत में इसके मामले कई राज्यों में सामने आये है। इसके महाराष्ट्र, राजस्थान, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, ओडिशा, दिल्ली और मध्य प्रदेश में मामले देखे गए हैं। 

कोरोना महामारी के कारण आज पूरा देश संक्रमित है और इसी बीमारी के कारण म्यूकरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस के मामलों को देखा गया है। म्यूकरमाइकोसिस ब्लैक फंगल इंफेक्शन कोरोना वायरस के बाद शरीर को ट्रिगर करता है। इस बीमारी के शिकार लोग अभी तक वही हुए है, जिन्हें कोरोना वायरस या अन्य तरह की कोई अन्य बीमारी हुए है।

Read Also: व्हाइट फंगस क्या है? इसके लक्षण और बचाव

ब्लैक फंगस क्या है? इसके लक्षण और बचाव (Black Fungus in Hindi)

ब्लैक फंगस के लक्षण क्या है?

जैसे-जैसे ब्लैक फंगस का संक्रमण बढ़ता है, चेहरे के हिस्सों में विकृति आती जाती है। यह चेहरे, संवेदी अंगो को बहुत नुकसान पहुँचता है और खराब कर सकते हैं।

  • चेहरे के एक तरफ सूजन, सुन्न हो या फिर चेहरे के एक तरफ दर्द हो इत्यादि। चेहरे को छूने पर कोई अहसास नहीं हो।
  • दांत हिलने लगे या फिर दांतों में दर्द हो, खाना चबाने में दर्द हो आदि।
  • खांसने पर या उल्टी होने पर बलगम (फेफड़ों के काफी अन्दर से निकाला जाने वाला गाढ़ा पदार्थ) में खून आना हो।

तेज सिरदर्द

फंगल संक्रमण हानिकारक हो सकता है, जब मरीज के शरीर में फंगल इंफेक्शन प्रवेश करता है तो साइनस और  तंत्रिकाओं पर हमला करता है। यह व्यक्ति में दर्द और सिरदर्द जैसे लक्षणों को बनता है।

काम दिखाई देना या दृष्टिदोष

विशेषज्ञों ने ये बताया है कि इसके कारण आंखों में कम दिखाई देता है। जैसे-जैसे ब्लैक फंगस बढ़ता और फैलता है, आपकी आंखों में समस्या पैदा करने लगता है। कुछ लोगों को एक आंख में सूजन का अनुभव भी हो सकता है, धुंधली या खराब दृष्टि हो सकती है या आपको आँखों में खून दिखाई दे सकता है।

गले और चेहरे पर सूजन दिखायी देना

ब्लैक फंगस के कारण आपके चेहरे पर में सूजन हो सकती है। जब भी आपको यह लक्षण दिखाई दे तो आप इस बीमारी की जाँच जरूर करवा लें। यह covid 19 के लक्षण के बाद इस तरह के लक्षण शरीर में देखे जा सकते है।

मानसिक स्थिति या भ्रम पैदा होना

इस बीमारी के कारण आपको मानसिक स्थिति या भ्रम पैदा हो सकता है। चूंकि कवक संक्रमण को साँस लेने पर मस्तिष्क पर सीधा असर करता है, जिसके कारण आपके शरीर में इस तरह की स्थिति पैदा हो सकती है। डॉक्टरों के द्वारा बताया गया कि प्रलाप, स्मृति हानि, तंत्रिका संबंधी हानि, परिवर्तित मानसिक स्थिति जैसे गंभीर लक्षण इस बीमारी में हो सकते है।

म्यूकोर्मिकोसिस या ब्लैक फंगस होने का कारण क्या है?

ब्लैक फंगस किसे हो सकता है:

  • Mucormycosis या ब्लैक फंगस गंभीर फंगल संक्रमण है, जो कोविड संक्रमण में इलाज के दौरान दी जा रही स्टेरॉयड दवाई के करण भी हो सकती है।
  • कोविड मरीजों की गंभीरता के कारण मरीज को जरुरत पड़ने पर ऑक्सीजन या ICU में रखा गया हो।
  • डाइबिटीज जैसे रोगों पर अच्छा नियंत्रण नहीं होने के कारण।
  • कैंसर जैसे रोगों के इलाज में उपयोग की जाने वाली दवा के कारण।
  • किसी मरीज का किडनी ट्रांस्पलांट हुआ है और उसकी दवाइयां चल रही हो।
  • Mucormycetes ब्लैक फंगस पूरे वातावरण में रहते हैं, इसके कारण भी आपको यह बीमारी हो सकती है।

यह किन अंगों को संक्रमित कर सकता है?

यह शरीर के नाक, फेफड़ों में श्वास के माध्यम से शरीर चला जाता है। यदि यह शरीर में चोट के माध्यम से प्रवेश करता है तो उस हिस्से को संक्रमित कर सकता है। मुख्य रूप से नाक, आँखे, दिमाग, मुँह की हड्डियों को बुरी तरह से प्रभावित करता है।

कई मामलो में देखा गया है कि मरीजों की आँखों की रौशनी तक चली गई है। इसमें कोविड से संक्रमित या ठीक हुए मरीज में या मधुमेह डाइबिटीज़ पर अच्छा नियंत्रण न रखने वालों में इसके मामले ज्यादा सामने आये है। इसमें लम्बे समय तक ICU या वेंटिलेटर रहने वाले मरीजों को अधिक जोखिम होता है।

ब्लैक फंगस की रोकथाम कैसे की जा सकती है?

काले फंगस को रोकने का सबसे अच्छा कारगर तरीका है कि आप कभी भी बाहर निकलते समय मास्क का उपयोग जरूर करें और अपने मुँह और नाक को हमेशा ढककर रखें, धूल भरे स्थान सड़कों या सड़ते हुए कचरे से बच के रहे या आपने आसपास और घर के आस पास साफ सफाई रखे। आपने हाथों को अच्छे से साफ रखें, ऐसे कपड़े पहनें  जो आपकी स्किन को ढककर रखे, जितना हो सके उतना कम उजागर करें।

मधुमेह के रोगियों को शुगर के स्तर को कंट्रोल रखे और अपनी इम्युनिटी का खास ख्याल रखें। शुगर लेवल को नियंत्रित करना अति आवश्यक है। दोस्तों ध्यान रखे लक्षण दिखाई देने के बाद जल्द से जल्द विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करें और इलाज शुरू कर दें। ताकि ये शरीर के और हिस्सों में न फेल पाएं।

अंतिम शब्द

दोस्तों हमने ब्लैक फंगस से संबंधित सभी जानकारी आपको प्रदान की है। इस बीमारी के होने पर आप घबराये नहीं, अपने डॉक्टर से परमार्श लें और इसका उचित इलाज करवाए। कोविड-19 से उबरने के बाद, लोगों को गहराई से निगरानी करनी चाहिए ताकि आप इस बीमारी से बच सके।

हमने आपको ऊपर इसके संकेत, लक्षण और किन कारणों से होता है (Black Fungus Kis Karan Hota Hai) के बारे में बताया है। इन्हें आप ध्यान से पढ़े और इस बीमारी की जल्दी पहचान कर इलाज करवाए। फंगल संक्रमण कोविड-19 से उबरने के कई हफ्तों बाद भी उभर सकता है। आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार स्टेरॉयड का उपयोग करें।

इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने तक ही सीमित नहीं रखें। इसे अपने परिवारजनों, दोस्तों और रिश्तेदारों के बीच शेयर जरूर करें ताकि उनको भी इस बीमारी के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त हो सके और वह भी अपना स्वयं का अच्छे से बचाव कर सके।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here