ओसामा बिन लादेन का जीवन परिचय

Biography of Osama bin Laden in Hindi: आज के इस लेक के माध्यम से हम आपको बताएंगे एक ऐसे खतरनाक अपराधी के बारे में जो कि सऊदी अरब का था। जी हां, आपने बिल्कुल सही समझा! हम बात करने वाले हैं ओसामा बिन लादेन के बारे में। ओसामा बिन लादेन एक बहुत ही क्रूर और अरबपति बिल्डर था।

Biography of Osama bin Laden in Hindi
Biography of Osama bin Laden in Hindi

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको यह बताएंगे कि ओसामा बिन लादेन कौन था, वह कहां का निवासी था, उसका जन्म कब हुआ था और उसने अपना कदम इस अपराध की दुनिया में कैसे रखा था। यदि आप इस खतरनाक आपराधिक के बारे में जानने के लिए इच्छुक हैं तो हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख “Osama Bin Laden History in Hindi” को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि इस लेख के माध्यम से आपको ओसामा बिन लादेन के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो जाएगी।

ओसामा बिन लादेन का जीवन परिचय – Biography of Osama bin Laden in Hindi

ओसामा बिन लादेन की जीवनी एक नज़र में

पूरा नामओसामा बिन मोहम्मद बिन अवध बिन लादेन
जन्ममार्च 10, 1957
जन्मस्थानसौदी अरेबिया
पितामहम्मह बिन लादेन
माताहमीदा अल-अट्टास
पत्नीसिहाम सबर
पुत्रहमजा बिन लादेन, उमर बिन लादेन, साद बिन लादेन
व्यवसायइंजीनियर, बिजनेसमैन
नागरिकतासऊदी
Osama Bin Laden Biography in Hindi

ओसामा बिन लादेन कौन था?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ओसामा बिन लादेन एक बहुत ही खतरनाक और सऊदी अरब का एक अरबपति बिल्डर था। इसकी कंपनी के द्वारा देश में लगभग 80% सड़कों का निर्माण हुआ था। ओसामा बिन लादेन, मोहम्मद बिन लादेन के 52 संतानों में से 17वां संतान था, जी हां! आपने बिल्कुल सही सुना ओसामा बिन लादेन के पिता मोहम्मद बिन लादेन के कुल 52 संताने थी।

वह बहुत ही खतरनाक और मशहूर आतंकवादी था, उसके इसी आतंकवाद के चलते उसे अपनी करोड़ों की संपत्ति और सऊदी अरब की नागरिकता से हाथ धोना पड़ा था अर्थात उसके इस आतंकवादी प्रकृति के कारण उसे सऊदी अरब से बिना एक पैसा दिए निकाल दिया गया। वह संपूर्ण विश्व का बहुत ही सर्वाधिक चर्चित आतंकवादी था। इसीलिए उस पर इनाम भी रखा गया था, इसी कारण मोहम्मद बिन लादेन के 17वें पुत्र ओसामा बिन लादेन को इनामी आतंकवादी के नाम से भी जाना जाता है।

ओसामा बिन लादेन ने अमेरिका पर एक जानलेवा हमला किया था, जिसके कारण व संपूर्ण विश्व में भारी चर्चा में आया था। उसके बाद ओसामा बिन लादेन को अमेरिका की फेडरल जांच एजेंसी के द्वारा संपूर्ण सेना सहित पूरे पश्चिमी इलाके में खोजा जाने लगा। ओसामा बिन लादेन एक बहुत ही खतरनाक अपराधी होने के कारण उसकी शख्सियत की तरह ही उसके नाम का उच्चारण भी पश्चिमी जगत के लिए अबूझ रह गया।

उसे पश्चिमी इलाके में कोई ओसामा, कोई उसामा और कोई उसम्मह बिन लादेन कहता था। ओसामा बिन लादेन ने वर्ष 1998 ईस्वी में हुए एक इंटरव्यू में कहा था , कि वह जन्म से ही सऊदी अरब का सबसे अमीर परिवार से संबंध रखता है, जब ओसामा की पिता की मृत्यु वर्ष 1968 में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना के कारण हुई थी तब वह युवावस्था में ही सऊदी अरब का करोड़पति बन गया था।

ओसामा बिन लादेन का जन्म

संपूर्ण विश्व का सबसे खतरनाक अपराधी ओसामा बिन लादेन का जन्म सऊदी अरब के एक बहुत ही अमीर परिवार में वर्ष 1957 इसमें मार्च की 10 तारीख को हुआ था। ओसामा के पिता का नाम मोहम्मद बिन लादेन था। ओसामा बिन लादेन का परिवार सऊदी अरब के शाही परिवारों में से एक माना जाता था और उनके संबंध शाही परिवारों से बहुत ही अच्छे थे।

लोगों का ऐसा कहना है कि ओसामा बिन लादेन के पिता मोहम्मद बिन लादेन के कुल 52 संतानें थी, जिसमें से ओसामा बिन लादेन 17 वा पुत्र था। ओसामा बिन लादेन के पिता की मृत्यु वर्ष 1968 में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में हुई थी। ओसामा बिन लादेन के अन्य भाई कुछ हद तक ठीक थे, इसलिए वे ओसामा बिन लादेन के सऊदी अरब से निकाल दिए जाने पर उसकी संपत्ति के मालिक बन गए और वे लगातार काम करते रहे। ओसामा बिन लादेन के बाद उनके भाई ही सऊदी अरब के अरबपति बिल्डर बने थे।

ओसामा बिन लादेन की शिक्षा

ओसामा बिन लादेन ने अपनी पिता की मृत्यु के बाद सऊदी अरब के शाह अब्दुल्ला अजीज विश्वविद्यालय में उसने सिविल इंजीनियर की पढ़ाई की, इतना ही नहीं उसने वर्ष 1981 में पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन की कई डिग्रियां भी प्राप्त की है। इसी विद्यालय के दौरान वह कट्टरपंथी इस्लामी शिक्षक और कुछ छात्रों के संपर्क में आ गया। उन शिक्षकों और दोस्तों के साथ मिलकर के ओसामा बिन लादेन इस्लाम के कट्टरपंथी गुट में शामिल हो गया।

ओसामा बिन लादेन ने अपनी इंजीनियरिंग की परीक्षा को पास करने के बाद बिल्डर बना परंतु वह ज्यादा दिन तक टिक नहीं सका क्योंकि उसके अंदर आतंकवाद के प्रति जुनून के कारण उसे सऊदी अरब से बहिष्कृत कर दिया गया और उसकी नागरिकता को रद्द कर दिया गया।

ओसामा बिन लादेन का विवाह

ओसामा बिन लादेन का विवाह सीरिया की नजवा घोनम से हुआ था। जिस समय ओसामा बिन लादेन का विवाह हुआ था, उस समय वह केवल 17 वर्ष का ही था। उसने अपनी इस शादी के बाद भी अनेकों विवाह किये थे। ओसामा बिन लादेन कि उनकी पत्नी के साथ उसका पारिवारिक संबंध ज्यादा दिन तक नहीं चलता था और उसने अमेरिका में हुए 9/11 को करने से पहले ही अपनी पत्नी से तलाक ले लिया था।

ओसामा बिन लादेन ने इसके बाद वर्ष 1983 में खादिया शरीफ नाम की एक लड़की से विवाह कर लिया परंतु उसकी पत्नी के साथ उसका यह पारिवारिक संबंध भी ज्यादा दिन तक नहीं चला, इसलिए उसने वर्ष 1990 में अपनी पत्नी खादिया शरीफ बेगम के साथ भी तलाक ले लिया।

अपने इंतला को के बाद भी ओसामा बिन लादेन ने वर्ष 1985 में खैरिया शबर इसके बाद उसने सिहम शबर और वर्ष 2000 में उसने अमल अलसदास के साथ विवाह कर लिया। ओसामा बिन लादेन को भी अपनी सभी पत्नियों से लगभग 26 बच्चे थे।

ओसामा बिन लादेन का आतंकवाद करियर

ओसामा बिन लादेन अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद सऊदी अरब से बहिष्कृत कर दिया गया, इसके बाद वह पाकिस्तान आया। ओसामा बिन लादेन ने इसके बाद वर्ष 1984 में आतंक के मालिक अब्दुल्ला आजम के साथ मिलकर एक संस्था बनाई, इस संस्था का नाम उसने अल खिदमत रखा। ओसामा बिन लादेन ने इस संस्था में लड़ने के लिए हथियार ऐसा इत्यादि सब कुछ अरब देश से पाकिस्तान आता था।

इसके आतंकवाद का किस्सा यहीं खत्म नहीं होता, ओसामा बिन लादेन ने आतंक को बढ़ावा दिया और अफगानिस्तान में सोवियत समर्थित शासन को खत्म करने के मकसद से पाकिस्तान में एक कैंप लगाया। इस कैंप के माध्यम से उसने मुस्लिम देशों में आए लोगों को ट्रेनिंग दी, इतना ही नहीं उसने ट्रेनिंग देने के दौरान अपनी लड़ाई को जारी रखा। उसने इस ट्रेनिंग के दौरान अनेकों लड़ाई में हिस्सा लिया।

ओसामा बिन लादेन वर्ष 1988 में बनाए गए संगठन अल खिदमत से अलग हो गया, वह इस संगठन से अलग होने के बाद उसने सोवियत संघ के खिलाफ युद्ध के लेनदेन बढ़ा दी, उसके इस नफरत की वजह से उसका आतंकवादी संगठन अलकायदा की स्थापना कर दी। उसने धीरे-धीरे अनेकों प्रकार की संस्थाओं का गठन किया। ओसामा बिन लादेन द्वारा स्थापित अलकायदा संगठन में उसने इस्लाम के अनेकों दिग्गज नेताओं को शामिल कर लिया।

धीरे-धीरे उसने अपने संगठन के नेताओं के साथ मिलकर के यह तय किया कि अफगानिस्तान में सोवियत संघ के हट जाने पर वह पूरा पैसा जिहाद के कामों में लगाएगा। ओसामा बिन लादेन बहुत ही चुप्पी साधने का प्रयास करता था। ओसामा बिन लादेन अपने उग्र इस्लामी भाषणों के चलते बहुत ही भयभीत रहता था, उसे यह डर लगा रहता था कि कहीं उसका वह शामराज मुश्किल में ना पड़ जाए।

ओसामा बिन लादेन वर्ष 1990 में जब इराक के कुवैत पर हमला कर रहा था, उस दौरान सद्दाम हुसैन नाम के आदमी ने ओसामा बिन लादेन की मदद करने की बजाय अमेरिका से मदद मांगी थी। सद्दाम हुसैन की इस गद्दारी के कारण ओसामा बिन लादेन ने उसके प्राण ले लिए और उसने यह प्रण लिया कि एक दिन वह अलकायदा को अमेरिका से भी अधिक महान बनाएगा। इस प्रक्रियाओं के कारण ओसामा बिन लादेन ने अपना कदम आतंकवाद की इस दुनिया में रखा।

ओसामा बिन लादेन की मृत्यु

ओसामा बिन लादेन को अमेरिका के सदस्यों के विशेष संचालन बलों और नौसेना के जवानों ने मिलकर के ओसामा बिन लादेन को वर्ष 2011 में मई की 2 तारीख को गोली मार दी और इस तरह आतंक के बादशाह ओसामा बिन लादेन की मृत्यु हो गई और इसकी मृत्यु के बाद आतंकवाद कुछ हद तक कम हो गया।

निष्कर्ष

यह लेख “ओसामा बिन लादेन का जीवन परिचय (Biography of Osama bin Laden in Hindi)” बहुत ही खतरनाक अपराधी ओसामा बिन लादेन के ऊपर था, इसके माध्यम से बताया गया कि ओसामा बिन लादेन ने अपने कदम आतंकवाद की दुनिया में कैसे रखा इत्यादि। ओसामा बिन लादेन की यह जीवनी आपको पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here