बहन पर कुछ बेहतरीन कविताएं

नमस्कार दोस्तों, यहां पर हमने बहन पर कुछ प्रसिद्ध कविताएं (Sister Poem in Hindi) शेयर की है। उम्मीद करते हैं आपको यह हिंदी कविताएं (Hindi Poems) बहुत पसंद आएगी इन्हें आगे शेयर जरूर करें।

Sister Poem in Hindi

हमारे इस ब्लॉग पर और भी बेहतरीन हिंदी कविताएं उपलब्ध है। आपको उन्हें जरूर पढ़ना चाहिए <यहां पढ़ें>

Read Also: रक्षाबंधन पर बेहतरीन कविताएँ

बहन पर लोकप्रिय कविताएं – Sister Poem in Hindi

दीदी (Best Sister Poem in Hindi) – 1

नहीं बताएँगी दीदी
अपने पर गुजरी हुई बात
मन की बात
दीदी मन ही में रखेंगी, कुछ दिन
उसे पुरानी पड़ने देंगी वो

माँ नहीं हैं घर में
बहन दूसरी भी नहीं है यहाँ
यहाँ जैसे दीदी अकेले हैं एकदम,
जबकि
इस सन्नाटे के बावजूद
भरा-पूरा है घर
पिता हैं
भइया हैं
मैं हूँ!

कोई बात है
जिसे दीदी
केवल मुझी से बताएँगी कभी
क्योंकि मुझी से मिलेगा उन्हें बल
कहती हैं दीदी, और
दुःख से भीग-भीग जाता है उनका स्वर

-रविकान्त

मेरी प्यारी बहना – 2

तू चिंगारी बनकर उड़ री, जाग-जाग मैं ज्वाल बनूँ।
तू बन जा हहराती गँगा, मैं झेलम बेहाल बनूँ।।

आज बसन्ती चोला तेरा, मैं भी सज लूँ लाल बनूँ।
तू भगिनी बन क्रान्ति कराली, मैं भाई विकराल बनूँ।।

यहाँ न कोई राधारानी, वृन्दावन, बंशीवाला।
तू आँगन की ज्योति बहन री, मैं घर का पहरे वाला।।

बहन प्रेम का पुतला हूँ मैं, तू ममता की गोद बनी।
मेरा जीवन क्रीड़ा-कौतुक तू प्रत्यक्ष प्रमोद भरी।।

मैं भाई फूलों में भूला, मेरी बहन विनोद बनी।
भाई की गति, मति भगिनी की दोनों मंगल-मोद बनी।।

यह अपराध कलंक सुशीले, सारे फूल जला देना।
जननी की जंजीर बज रही, चल तबियत बहला देना।।

भाई एक लहर बन आया, बहन नदी की धारा है।
संगम है, गँगा उमड़ी है, डूबा कूल-किनारा है।।

यह उन्माद, बहन को अपना भाई एक सहारा है।
यह अलमस्ती, एक बहन ही भाई का ध्रुवतारा है।।

पागल घडी, बहन-भाई है, वह आज़ाद तराना है।
मुसीबतों से, बलिदानों से, पत्थर को समझाना है।।

-गोपाल सिंह नेपाली

Short Poem On Sister in Hindi – 3

कहतीं है
‘एक बात कह रही हूँ
घबराना मत
घर में तो सब ठीक है
पर हाँ किसी की तार, चिठ्ठी, टेलीफोन पा कर
डरना नहीं
एक उम्र के बाद तो
जाना ही है सबको
कोई पहले भी चला जाए
तो भी डरना नहीं
हौसला रखना
हाँ हो सके तो कुछ दिन
घर आ जाना
माँ कुछ उदास है बस’प्रत्युतर में पूछता हूँ
‘माँ के नहीं रहने पर
तुम तो रहोगी न
मेरे पास!!

बहन पर हिंदी कविता – 4

लाखों में हजारों में मेरी एक प्यारी बहना हो।
भाई को प्यार करने वाली एक बहना हो।।

बड़ी हो तो मां बाप की डांट से बचाने वाली।
छोटी हो तो हमारे पीठ पीछे छुपने वाली।।

बड़ी हो तो चुपचाप हमारी पॉकेट में पैसे रखने वाली।
छोटी हो तो चुपचाप पैसे निकाल लेने वाली।।

छोटी हो या बड़ी छोटी-छोटी बातों पर लड़ने वाली।
लाखों में हजारों में मेरी एक प्यारी बहना हो।।

बड़ी हो तो गलती पर हमारे कान खींचने वाली।
छोटी हो तुम अपनी गलती पर सॉरी भैया कहने वाली।।

खुद से ज्यादा हमें प्यार करने वाली।
लाखों में हजारों में मेरी एक प्यारी बहना हो।।

-तुषार शर्मा

बहन पर कविता – 5

तेरी हर बात हमेशा अच्छी लगती है।
तेरे जैसा दूजा होगा नही कोई।। तू मेरी एक लोती आस है।
मेरी शरारतो की साथी है तू।।
अपनी हर बात मनवाती है तू,
कही अपनी बात मनवाना भूल तो नही जाएगी।
और मेरी प्यारी बहना तू बहुत याद आएगी।।

तू शायद जानती नही में बेहद प्यार करता हु।
तू कही भूल ना जाए बस यही दुआ करता हू।।

दुआ है मेरी सारे जहाँ की खुशियाँ तुझे नसीब हो।
आगे से हमारा ये रिश्ता और भी करीब हो।।

मेरी गलतियों को माफ़ करना।
हो सके तो मुझसे रोज बात करना।।

मुझे मालूम है तू भी बहुत प्यार करती है।
इसलिए मेरी एक आवाज़ पर हाँ भैया कह के पुकारती हो।।

अपनी मुस्कान को हमेशा बनाए रखना।
हर मुसीबत में गले लगाए रखना।।

अब तक मेरे लिए बहुत कुछ किया है तूने।
कहीं अब मेरी माँ बनना भूल तो ना जाएगी तू।।

और मेरी प्यारी बहना तू मुझे कही भूल तो नही जाएगी।
और मेरी प्यारी बहना तू बहुत याद आएगी।।

Poem on Sister in Hindi – 6

परियों से प्यारी मेरी छोटी प्यारी बहिना हो।
भैया को स्नेह करने वाली एक बहिना हो।।

बड़ी हो तो मम्मी पापा की फटकार से बचाने वाली।
छोटी हो तो हमारे पीठ पीछे छिपने वाली बहिना हो।।

बड़ी हो तो चुपके से भाई के पॉकेट मे रूपये रखने वाली।
छोटी हो तो चुपके से रूपये निकाल लेने वाली बहिना हो।।

छोटी हो या बड़ी हर बात पर झगड़ने वाली।
परियों से प्यारी मेरी छोटी प्यारी बहिना हो।।

बड़ी हो तो गलती पर हमारे कान खीचने वाली।
छोटी हो तुम अपनी गलती पर सोर्री भैया कहने वाली।।

अपनें से ज्यादा भाई से प्यार करने वाली।
परियों से प्यारी मेरी छोटी प्यारी बहिना हो।।

Poem For Sister From Brother in Hindi – 7

एक बहन अपने भाई के लिए होती है कीमती उपहार
कभी-कभी बच्चों सी शरारत, तो कभी मां सा प्यार!!

हमारी कामयाबी पर होती है, हम से भी ज्यादा खुश,
नाकामी के वक्त समेट लेती है, हमारे सारे दुःख!!

उम्र भर की दोस्ती का बहनों से मिलता है वरदान,
बरसाए अपने भाई पर प्यार और करती है गुमान…!!

हर दिन करते शुक्रिया अपनी बहनों को हम,
पास न होके भी जिनका प्यार कभी ना होता कम…!!

खुशकिस्मत हैं वो जिनकी बहनें करती है उन्हें हर पल याद,
उनकी जिंदगी रहे खुशनुमा बस यही है हमारी फरियाद!!

भाई-बहन (Sister Poem in Hindi) – 8

भाई की शादी में ये फुर्र-फुर्र नाचती बहनें
जैसे सारी कायनात फूलों से लद गई हो

हवा में तैर रही हैं हँसी की अनगिनत लड़ियाँ
केशर की क्यारियाँ महक रही हैं

याद आ गई वह बहन
जो होती तो सारी दिशाओं को नचाती अपने साथ

जिसका पता नहीं चला
गंगा समेत सारी गहराईयाँ छानने के बाद भी…

और बहन की शादी में यह भाई
भीतर-भीतर पुलकता
मगर मेंड़ पर संभलता, चलता-सा भी

कुछ-कुछ निर्भार
मगर बगल का फूल तोड़े जाने के बाद पत्ते-सा
श्रीहीन…।

-हरीशचन्द्र पाण्डे

बहन पर लोकप्रिय कविता – 9

बहन हो तुम झँकार सुनाती चली जाती हो।
हर घर-आँगन अपनी धुन से चहकाती चली जाती हो।।

तुम्हारी सबसे खास बात यही है।
तुम कुछ भी दिल पर भार नही लेती।।

बदलावों में आसानी से ढलती चली जाती हो।
गंगा का बहता नीर हो जो बहती चली जाती हो।।

सींचते हुए प्रकृति को राह में चलती चली जाती हो।
ना स्वार्थ ना चिंताएँ बस यूँ ही आनंद के साथ जीती चली जाती हो।।

मैं जानती हूँ तुमको जितना समंदर अपनी गहराई को जाना है।
मैं मानती हूँ तुमको जितना सूर्य ने अपने प्रकाश को माना है।।

कर दे सारी दुनिया भूल गर तुम्हें पहचानने में।
पर मैंने तुम्हें तुमसे अधिक जाना और पहचाना है।।

बहन की याद में कविता – 10

ये रिश्ता है हसी मजाक का।
हसी वाली मुस्कान और गम वाले आसू का।।

हल्की हल्की बातो पर रूठ जाने का।
और फिर अपने आप ही मान जाने का।।

यह रिश्ता है भाई और बहिन का,
बहिन वो जो हर आसू छुपा दे भाई की खुशी के लिए।
और भाई वो जो हर हद पार कर दे बहिन की खुशी के लिए।।

बहिन वो जो है राखी पर अपने प्यार को।
धागे मे सजोकर भाई की कलाई पर बाध दे।।

और भाई वो जो बहन की पीड़ा को।
देखकर दुनिया का हर बधन तोड़ दे।।

यह रिश्ता है चिड़ने का और चिड़ाने का शरारतो के पिटारो का।
कुछ कही और कुछ अनकही बातो का।।

यह रिश्ता है बचपन की यादो का।
यह रिश्ता है प्यार के उपवन मे विश्वास के फूल का।।

जिसकी पखुड़ी हर आसू पी जाती है।
जिसको देखकर चेहरे पर सिर्फ खुशी रह जाती है।।

जिसकी खुशबू जहन मे और जिसकी फोटो यादो मे।
हमेशा के लिए कैद हो जाती है यह रिश्ता है एक भाई का उसकी बहन से।।

यह रिश्ता है मेरी राखी का तेरी कलाई।

बहन पर कविताएँ – 11

राखी बहनो का त्योहार,
युग-युग और घटनों के प्यार,
भाई राखो इसे सँवार,
बहनो की रक्षा का है तुम पर भार !बहनें करतीं हर वर्ष याद,
सुबे से लेकर आधी रात।
पूर्णनिमा के पुन्यों को ले धागों में,
भाई दे आशीर्वाद,
जुग-जुग जियो, सुहागन रहो।
करो ईश्वर और पति भक्ति,
तुझे मिले लक्ष्मी की शक्ति!!

बहन पर कुछ प्रसिद्ध कविता – 12

मेरी बहन मुझे बहुत याद आती है।
न जाने कहा खो गयी मेरी प्यारी बहना।।

बस अब कुछ खट्टी मीठी सी यादी बाकि है।
मेरी बहन मुझे बहुत याद आती है।।


वो बचपन की झगड़े बहुत याद आते है।
Woh बहन का प्यार बहुत याद आता है।।

वो बचपन की प्यारी बाते।
मेरी बहन मुझे बहुत याद आती है।।

घर की खुशियों की पोटली थी वो।
न जाने कहा खो गयी मेरी प्यारी बहना।।

हर सुख दुःख में मेरे साथ देने वाली।
मेरी बहन मुझे बहुत याद आती है।।

अपनी हर खुशियां मेरे साथ बाटने वाली।
हर दुःख को अकेले सहने वाली।।

न जाने कहा खो गयी मेरी प्यारी बहना।
मेरी बहन मुझे बहुत याद आती है।।

********

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर की गई यह बहन पर बेहतरीन कविताएँ (Sister Poem in Hindi) आपको बहुत पसंद आई होगी। इन्हें आगे शेयर जरूर करें और हमारे फेसबुक पेज को लाइक जरूर कर दें।

NOTE: यह सभी बहन की कविताएँ (Poem for Sister in Hindi) इंटरनेट पर उपलब्ध विभिन्न स्त्रोतों से ली गई है।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here