बारिश पर अनमोल विचार

Barish Quotes in Hindi

Barish Quotes in Hindi
Images:Barish Quotes in Hindi

बारिश पर अनमोल विचार|Barish Quotes in Hindi

सुना है बारिश में दुआ कुबूल होती है,
अगर इजाजत हो तो मांग लू तुम्हे।।

ये बूंद बूंद सी बारिश किसी की यादों की,
मेरे सब्र का कच्चा मकान गिराएंगी !

प्यासे रहो न दश्त में बारिश के मुंतज़िर,
मारो ज़मीं पे पाँव कि पानी निकल पड़े !!

Read Also :कला पर प्रसिद्द अनमोल विचार

अब कौन घटाअों को, घुमड़ने से रोक पायेगा,
ज़ुल्फ़ जो खुल गयी तेरी, लगता है सावन आयेगा.

बारिश में वो बचपन के पल,
कभी भूलेंगे नहीं हम।।

ये हल्की बारिश,
ये खामोश नज़ारे और ये हम फुर्सत में,
ये शाम ! तेरा गमगीन होना मुनासिब है।

मेरे बचपन कि बारिश भी,
अब बड़ी हो गई।

कुछ इस कदर में तेरे साथ हो जाऊं,
तू हो जा बादल काले मैं बरसात हो जाऊ।

सदाओं को अल्फाज़ मिलने
न पाएँ न बादल घिरेंगे न बरसात होगी.!!

अगर मेरी चाहतों के
मुताबिक जमाने कि हर बात होती,
तो बस में होता तुम होती
ओर सारी रात बरसात होती।।

ये बारिश, जरा थम के बरस,
पहले उसे आने तो दे,
फिर जैम के बरस !

परदेस में क्या महसूस करें,
बारिश का मज़ा मिट्टी की
महक़ जब गाँव में अपने होती है,
बरसात से खुशबू आती है.!!

Barish Quotes in Hindi

रास्तों में सफर करने का मज़ा आ जाता है,
जब बारिश का सुहाना मौसम हो जाता है।।

ना जाने बादलों को किस गम ने घेरा है,
रो रोकर आज उसने सबको भिगोया है।

Read Also :खूबसूरती पर अनमोल सुविचार

मासूम मोहब्बत का बस इतना फसाना है,
कागज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है.

सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ,
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ.

तुझसे अब बात तक
करने को तरस गए है हम,
बिन मौसम हुई बारिश
की तरह बरस गए है हम।।

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है.

दूर तक छाए थे बादल
ओर कहीं साया न था,
इस तरह बरसात का
मौसम कभी आया न था।।

बरसती शाम और चाय चुस्कियां,
आज फिर घूम आये हम यादों की गालियां !

कभी बेपनाह बरस पड़ी कभी ग़ुम सी है,
ये बारिश भी कुछ कुछ तुम सी है.

बरसात की भीगी रातों में
फिर कोई सुहानी याद आई,
कुछ अपना ज़माना याद
आया कुछ उनकी जवानी याद आई.

आज तो आसमान से
भी खामोश ना रहा गया,
मै तो फिर भी एक इंसान हूं।।

बड़े गुरुर से उड़ा करता था
तेरे प्यार के आसमान में,
बारिश की बूंद की तरह
बिखर गया टकराकर जमीन से।

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं।

इस तरह बरस जाए ईमान की बारिश,
लोगों के जमीन पर धूल बहुत है।।

पहले रिमझिम थोड़ा सन्नाटा
और फिर अचानक जम के बरसना
ये तुम्हारी आदतें और
जुलाई की फितरत दोनों एक जैसे है।

भला काग़ज़ की इतनी कश्तियाँ हम क्यों बनाते हैं,
न वो गलियाँ कहीं हैं अब न वो बारिश का पानी है.

Barish Quotes in Hindi

प्यासे ना रहो दश्ट में बारिश के मुतांजिर,
मारो जमीं पर पाव की पानी निकल पड़े।।

ही पावसाची सर सांगून गेली जाता जाता,
विरुन जातील सारे क्षण
राहतील ओल्या चिंब वाटा।

ये बारिश ये हसीन मौसम और ये हवाये
लगता है आज मोहब्बत
ने किसी का साथ दिया है.

एक हम है जो इश्क़ की बारिश करते है,
एक वो है जो भीगने को तेयार नहीं।।

ये मौसम इश्क़ का है,
बेपनाह बरसती इन बूंदो का है,
लोग पूछते है दास्तान मेरे इश्क़ की,
मैं कहती हूँ मुझे बारिश में भीगना पसंद है।

गुल तेरा रंग चुरा लाए हैं गुलज़ारों में
जल रहा हूँ भरी बरसात की बौछारो में.

कभी बेपनाह सी पड़ी कभी गुम सी है,
यह बारिश भी कुछ कुछ तुम सी है।।

Read Also : रिटायरमेंट पर अनमोल विचार

जब भी बारिश आती है,
बचपन की याद दिलाती है।
एक कागज का टुकड़ा और नाव की दौड़।

बारिश की बूंदों में झलकती है उसकी तसवीर
आज फिर भीग बैठे उससे पाने की चाहत में

तुम एक बार बाहर
जाकर बारिश देखो तो सही,
तुम्हारे आने की खुशी में
कहीं हर बूंद आइना न बन गया हो।।

सुना है बाजार में गिर गए हैं
दाम सारे इत्र के,
बारिश की पहली बूंदों
ने आज मिटटी को छुआ है।

मेरे घर की मुफलिसी को देख कर
बदनसीबी सर पटकती रह गई
और एक दिन की मुख़्तसर बारिश के बाद
छत कई दिन तक टपकती रही रह गई.

खुश हो जाते होंगे लोग
ओस की चंद बूंदों से जनाब,
बारिश के मौसम को साथ ले
आना हमारी एक मुस्कान के लिए।।

एक ख्वाहिश हैं मेरी,
लम्बी सड़क हल्की सी बारिश,
बहुत सारी बातें और बस मैं और तुम।

एक रोने से तू मिल जाए तो खुदा की कसम
इस धरती पे सावन की बरसात लगा दूं …

रईसों के वास्ते बारिश ख़ुशी की बात सहीं
मुफलिस की छत के लिये इम्तेहान होता है.

Barish Quotes in Hindi

थोड़ी खता इन बारिश
की बूंदो की भी है,
यू ही नहीं इस मौसम में
मेहबूब कुछ ज्यादा ही याद आता है।

रिमझिम तो है मगर सावन गायब है,
बच्चे तो हैं मगर बचपन गायब है.
क्या हो गयी है तासीर ज़माने की यारों
अपने तो हैं मगर अपनापन गायब है.

इस ओर से भाव के बादल भेजने पड़ते है,
उस ओर प्रेम कि वर्षा के लिए।।

पानी बरस रहा और
सौंधी सौंधी माटी महक रही है,
मेरी यादों में भीगी वो
आहिस्ता आहिस्ता बहक रही है।

कल रोशनी की बरसात थी,
आज फिर अँधेरी रात,
बुझते हुए दीयों ने हम को भी बुझा दिया।

कच्ची मिट्टी का बना होता है उम्मीदों का घर,
ढह जाता है हकीकत की बारिश में अक्सर.

Read Also: वैलेंटाइन डे पर अनमोल विचार

भिगो कर मुझको पूरा
वो फिर ना लौटी है,
शायद तुम्हारी तरह
शहर की बारिश भी मुझसे रूठी है।

किस को ख़बर थी
साँवले बादल बिन बरसे उड़ जाते हैं
सावन आया लेकिन अपनी क़िस्मत में बरसात नहीं

सुना है बारिश में दुआ क़बूल होती है
अगर हो इज्जाजत तो मांग लू तुम्हे ?

सारे इत्रों की खुशबू आज मंद पड़ गई,
मिट्टी में बारिश की बूंदे जो चंद पड़ गई।।

अबके बरस की बारिश फिर बरस के गुजर गई,
कुछ यादें जो रिहा हो कर फिर से कैद हो गई,
नैना मुस्कुराके फिर से अपने अश्कों को छिपा गई,
और इस तरह एक उम्र फिर उसके इंतज़ार में यूँही काट गई।

बारिश के हर कतरे से
आवाज़ तुम्हारी आती है

हा बेधुंद पडणारा पाऊस
मनाला खुप सुखावतो,
ओल्या मातीचा सुगंध देऊन
सुखांच्या सरींनी तो मला भिजवतो !

गर मेरी चाहतों के मुताबिक,
जमाने में हर बात होती..!
तो बस मैं होता वो होती,
और सारी रात बरसात होती..!!

एक हम हैं जो इश्क़ कि बारिश करते है,
एक वह हैं जो भीगने को तैयार ही नहीं.

जाने क्यों बारिश जब जब भी होती है,
अन्दर तेरी याद चुप चुप कर रोती है।।

Barish Quotes in Hindi

इस बरसात से रिश्ता कुछ पुराना सा है,
फिर भिगो कर उसने अपना जो जताया है।

बारिश की तरह तुझ पे बरसती रहे खुशियां
हर बूँद तेरे दिल से हर एक गम को मिटा दे

कुछ नशा तेरी बात का है
कुछ नशा धीमी बरसात का है
हमे तुम यूँही पागल मत समझो
यह दिल पर असर पहली मुलाकात का है.

Read Also :प्रपोज़ डे पर कोट्स

कहीं फिसल ना जाऊ तेरे
खयालों में चलते चलते,
अपनी यादों को रोको
मेरे शहर में बारिश हो रही है।।

आज कल तुम मुझे बारिश
के बूंदों की तरह लगते हो,
तेरे आने की ख़ुशी तो होती है
लेकिन तेरे जाने का गम ज्यादा सताता हैं !

जनवरी की सर्दी, हल्की-हल्की बारिस की बूदें,
तुम्हारा वो गले से लग जाना याद आता हैं.

किस मुँह से इल्ज़ाम लगाएं बारिश की बौछारों पर,
हमने ख़ुद तस्वीर बनाई थी मिट्टी की दीवारों पर.

कभी शिद्दत की गर्मी
कभी बारिश को फुहार,
ये सितम्बर ओर
मोहब्बत समझ से परे है हमारे।।

गौर से सुनो अगर तो
ये कितनी आवाजों में बहता है,
दीवानी बरखा की
कहानी बारिश का पानी कहता है।

कितने अजब रंग समेटे है,
ये बेमौसम बारिश खुद में
अमीर पकोड़े खाने की
सोच रहा है और किसान जहर

खुद भी रोता है,
मुझे भी रुला के जाता है,
ये बारिश का मौसम,
उसकी याद दिला के जाता है.

आज आयी बारिश तो
याद आया वो जमाना,
वो तेरा छत पे रहना
ओर मेरा सड़कों पे नहाना।।

कुछ तो चाहत होगी
इन बारिशों के बूंदों की,
वार्ना कौन गिरता है
जमीन पर आसमान तक पहुँचने के बाद !

जब भी होगी पहली बारिश तुमको सामने पाएंगे,
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम कैसे देख पाएंगे.

सावन के मस्त मौसम
की रंगीन फुहार बरसती है,
तुम हो दूर मेरे परदेशी
तुम्हे पाने को हसरत तरसती है।।

Barish Quotes in Hindi

उजड़ी हुई फसलें टूटे
हुए सपने और रोटा है किसान,
ये बारिश! तेरा यूँ
अचानक आना कोई ख़ुशी की बात नहीं।

ए बादल इतना बरस के नफ़रतें धुल जायें…
इंसानियत तरस गयी है मुहब्बत के सैलाब को

तेरी गलियों में ना रखेंगे कदम आज के बाद
क्योंकि, किचड़ हो गया है, बरसात के बाद

जमाने से लड़ ही रहा था
में आसमान के लिए,
की वो खुद की बरस
पड़ा अपनी ज़मीन से मिलने के लिए।।

“दुआ बारिश की करते हो मगर छतरी नहीं रखते,
भरोसा है, नहीं तुमको खुदा पर क्या जरा सा भी ।”

Read Also :बेटी पर अनमोल वचन

ऐ बारिश जरा खुलकर बरस ये क्या तमाशा है,
इतनी रिम झिम तो मेरी आंखो से रोज होती है।।

बारिश का भी अपना ही मिज़ाज़ है,
किसी की मुस्कराहट की वजह तो किसी के
आँसुओं का पैगाम है।

बरसात का मज़ा तेरे गेसू दिखा गए,
अक्स आसमान पर जो पड़ा अब्र छा गए.

मजबूरियॉ ओढ़ के निकलता हूं घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगनें का.

कभी बेपनाह बरसी कभी थमी सी है,
ये बारिश भी कुछ हम सी है।।

काश कोई ऐसी भी बारिश आये,
जो संग यादों को तेरे बहा ले जाए।

उस को भला कोई
केसे गुलाब दे,
आने से जिसके खुद
मौसम ही गुलाबी हो जाएं।।

दो बूंद क्या बरसी शहर में,
किसी को जाम तो को नाम याद आ गए।

Barish Quotes in Hindi

होंठो पे हंसी तो हो मगर,
आँखों में बरसात ना आये.

कहीं फिसल ना जाओ ज़रा संभल के रहना,
मौसम बारिश का भी है और मुहब्बत का भी.

जरूरी तो नहीं कि
नजदीकियों में ही प्यार हो,
फ़ासलों में भी इश्क़
की बुलंदियां देखी है हमने।।

बारिश के बाद की वो सड़कें कितनी साफ़ दिखती है,
जैसे काले घने अँधेरे के बाद की वो रोशन भरी सुबह।
राहें खुद में ही अलग सी लगती है,
हर कदम जिंदगी थोड़ी और अपनी सी लगती है।

हम तो समझे थे के बरसात में
बरसेगी शराब आई बरसात
तो बरसात ने दिल तोड़ दिया !!

Read Also :द सीक्रेट बुक के सुविचार

हवा भी रूक जाती है कहने को कुछ तराने,
बारिश की बूंदे भी उसे छूने को करती है बहाने.

खुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिश हुआ करे तो भीग जाया कर।।

आज ये मंजिले ना तेरी है ना मेरी है,
बारिश कहती है ये रास्ते सारे मेरे है।

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो.
भले छीन लो मुझसे मेरी ज़वानी
मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती वो बारिश का पानी.

रहमत बरस रही है
या गुनाह किसी के धो रहा है,
ये बरस रहे है बादल
या फिर खुदा रो रहा है।

आखिर क्यों नम हो
जाते है ऐसे मौसम,
लगता है
दिल बादलों का भी टूट चुका है।।

Barish Quotes in Hindi

सहमी हुई है झोपड़ी बारिश के खौफ से,
महलों की आरजू हैं की बरसात तेज हो।

पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हमसे,
लो अब गिंक्लो बारिश की ये बूंदे।।

पूछते हो ना मुझसे तुम
हमेशा की मे कितना प्यार करता हू तुम्हे
तो गिन लो बरसती हुई इन बूँदो को तुम

बालकनी से बाहर आकर कर देखो ए-हसीना..
मौसम तुम से मेरे दिल की बात कहने आया है..

मुझे मार ही ना डाले इन बादलों की साज़िश,
ये जब से बरस रहे हैं तुम याद आ रहे हो

ज़रा ठहरो ,
बारिश थम जाए तो फिर चले जाना
किसी का तुझ को छू
लेना मुझे अच्छा नहीं लगता.

हम भीगते हैं जिस
तरह से तेरी यादों में डूबकर,
इस बारिश में कहाँ
वो कशिश तेरे ख्यालों जैसी

अभी तो खुश्क़ है मौसम,बारिश हो
तो सोचेंगे हमें अपने अरमानों को,
किस मिट्टी में बोना है.!!

वो मेरे रु-बा-रु आया
भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे
और वो बरसात समझ बैठा।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here