बाल गंगाधर तिलक के अनमोल विचार

Bal Gangadhar Tilak Quotes In Hindi

Bal Gangadhar Tilak Quotes In Hindi
Bal Gangadhar Tilak Quotes In Hindi

बाल गंगाधर तिलक के अनमोल विचार |Bal Gangadhar Tilak Quotes In Hindi

स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है
और मैं इसे लेकर रहूँगा।

अगर भगवान
अस्पृश्यता बर्दाश्त करता है,
तो मैं उसे भगवान नहीं कहूँगा.

यदि हम किसी भी देश के इतिहास को अतीत में जाएं,
तो हम अंत में मिथकों और परम्पराओं के काल
में पहुंच जाते हैं जो आखिरकार
अभेद्य अन्धकार में खो जाता है.

यदि भगवान छुआछूत को मानते हैं,
तो मैं उन्हें भगवान नहीं कहूँगा।

ये सच है कि बारिश की कमी के कारण
अकाल पड़ता है लेकिन ये भी सच है
कि भारत के लोगों में इस बुराई
से लड़ने की शक्ति नहीं है.

गांवों में सद्भाव को नष्ट करने के लिए
किसानों के नाम पर हस्तक्षेप
और साहूकार के साथ धोखा है.

****

महान उपलब्धियाँ कभी भी आसानी से
नहीं मिलतीं और आसानी से मिली
उपलब्धियाँ महान नहीं होतीं।

आपका लक्ष्य किसी जादू से नहीं पूरा होगा,
बल्कि आपको ही
अपना लक्ष्य प्राप्त करना पड़ेगा।

जीवन एक ताश के खेल की तरह है,
सही पत्तों का चयन हमारे हाथ में नहीं है,
लेकिन हमारी सफलता निर्धारित
करने वाले पत्ते खेलना हाथ में है.

एक अच्छे अखबार के
शब्द अपने आप बोल देते हैं।

Read Also :-महान दार्शनिक सुकरात के अनमोल विचार

Bal Gangadhar Tilak Quotes In Hindi

आपका लक्ष्य किसी जादू से नहीं पूरा होगा बल्कि
आपको ही अपना लक्ष्य प्राप्त करना पड़ेगा.
कमजोर ना बनें, शक्तिशाली बनें और यह
विश्वास रखें की भगवान हमेशा आपके साथ है।

“गर्म हवा के झोंकों में जाए बिना, कष्ट उठाये बिना,
पैरों मे छाले पड़े बिना स्वतन्त्रता नहीं मिल सकती।
बिना कष्ट के कुछ नहीं मिलता।”

भारत का तब तक खून बहाया जा रहा है
जब तक की बस कंकाल ना शेष रह जाये.

हम हमारे सामने सही रास्ते के प्रकट होने के
इंतजार में अपने दिन खर्च करते हैं, लेकिन हम भूल जाते हैं
कि रास्ते इंतजार करने के लिए नहीं, बल्कि चलने के लिए बने हैं.

अगर आप रुके और हर भौंकने वाले कुत्ते
पर पत्थर फेंकेंगे तो आप कभी अपने गंतव्य
तक नहीं पहुंचेंगे. बेहतर होगा कि हाथ
में बिस्कुट रखें और आगे बढ़ते जायें।

आप केवल कर्म करते जाइए,
उसके परिणामों पर ध्यान मत दीजिये।

प्रगति स्वतंत्रता में निहित है.
बिना स्वशासन के न औद्योगिक विकास संभव है ,
न ही राष्ट्र के लिए शैक्षिक योजनाओं की कोई उपयोगिता है..
देश की स्वतंत्रता के लिए प्रयत्न करना
सामाजिक सुधारों से अधिक महत्वपूर्ण है.

यह सच है कि बारिश की कमी के कारण
अकाल पड़ता है, लेकिन यह भी सच है
कि भारत के लोगों में इस
बुराई से लड़ने के ताकत नहीं है.

“क्या पता ये भगवान की मर्जी हो की मैं
जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ,
उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा
मेरे दुखी होने से अधिक लाभ मिले।”

प्रगति स्वतंत्रता में निहित है. स्वशासन के बिना न
औद्योगिक प्रगति संभव है, और न ही शैक्षिक योजना …
राष्ट्र के लिए उपयोगी होगी…
भारत की आजादी के लिए प्रयास करना
सामाजिक सुधारों से ज्यादा महत्वपूर्ण है.

यदि हम किसी भी देश के इतिहास को अतीत में जाएं ,
तो हम अंत में मिथकों और परम्पराओं के काल
में पहुंच जाते हैं जो आखिरकार
अभेद्य अन्धकार में खो जाता है।

Read Also :-दलाई लामा के अनमोल विचार

जब लोहा गरम हो तभी उस पर चोट कीजिए।
आपको निश्चय ही सफलता का यश प्राप्त होगा।

भूविज्ञानी पृथ्वी का इतिहास वहां से उठाते हैं
जहां से पुरातत्वविद् इसे छोड़ देते हैं ,
और उसे और भी पुरातनता में ले जाते हैं.

मनुष्य का प्रमुख लक्ष्य
भोजन प्राप्त करना ही नहीं है।
एक कौवा भी जीवित रहता है
और जूठन पर पलता है।

भारत की गरीबी पूर्ण रूप से
वर्तमान सरकार के कारण है.

आप यह मालुम नहीं कर सकते कि दूसरों में
आप से बेहतर क्या है, हर दिन आप अपने रिकॉर्ड तोड़ो,
क्योंकि सफलता आपके और खुद के बीच लड़ाई में निहित है.

*****

ईश्वर की यही इच्छा हो सकती है
कि मैं जिस उद्देश्य का प्रतिनिधित्व करता हूँ
वो मेरे आजादी में रहने से ज्यादा
मेरी पीड़ा में अधिक समृद्धि हो।

“कमजोर ना बनें, शक्तिशाली बनें
और यह विश्वास रखें की
भगवान हमेशा आपके साथ है।”

क्या पता ये भगवान की मर्जी हो कि
मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ,
उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे
दुखी होने से अधिक लाभ मिले।

भारत को लहूलुहान किया जाता रहेगा जब
तक केवल कंकाल अवशेष रहे…
लोगों की पूरी जीवन शक्ति सोख ली जाती है
और हमें गुलामी की एक क्षीण अवस्था में छोड़ दिया जाता है.

Bal Gangadhar Tilak Quotes In Hindi

“प्रगति स्वतंत्रता में निहित है। बिना स्वशासन के न
औद्योगिक विकास संभव है, न ही राष्ट्र के लिए
शैक्षिक योजनाओं की कोई उपयोगिता है…
देश की स्वतंत्रता के लिए प्रयत्न करना
सामाजिक सुधारों से अधिक महत्वपूर्ण है।”

Read Also : महात्मा गाँधी के अनमोल वचन

यह सत्य है कि बारिश की
कमी के कारण अकाल पड़ता है।
लेकिन यह भी सत्य है कि हमारे लोगों
में इस बुराई से लड़ने की शक्ति नहीं है।

आप मुश्किल समय में खतरों और असफलताओं
के डर से बचने का प्रयास मत कीजिए,
वे तो निश्चित रूप से आपके मार्ग में आयेंगे ही.

जब लोहा गरम हो तभी उस पर चोट कीजिये
और आपको निश्चय ही
सफलता का यश प्राप्त होगा।

धर्म और व्यावहारिक जीवन अलग नहीं हैं।
सन्यास लेना जीवन का परित्याग करना नहीं है।
असली भावना सिर्फ अपने लिए काम करने की बजाये
देश को अपना परिवार बना मिलजुल कर काम करना है।
इसके बाद का कदम मानवता की सेवा करना है
और अगला कदम ईश्वर की सेवा करना है।

“हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि
मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ
उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे
पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले।”

प्रातः काल में उदय होने के लिए ही सूरज
संध्या काल के अंधकार में डूब जाता है
और अंधकार में जाए बिना
प्रकाश प्राप्त नहीं हो सकता।

“हम हमारे सामने सही रास्ते के प्रकट होने
के इंतजार में अपने दिन खर्च करते हैं,
लेकिन हम भूल जाते हैं कि रास्ते इंतजार
करने के लिए नहीं, बल्कि चलने के लिए बने हैं”

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here