मंच संचालन शायरी

नमस्कार दोस्तों, यहां पर हमने मंच संचालन के लिए शायरी (Anchoring Shayari in Hindi) शेयर की है। जिसे आप स्कूल, कॉलेज आदि में आयोजित कार्यक्रम में बोल सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं आपको यह हिंदी शायरी पसंद आयेंगी।

Anchoring Shayari in Hindi

हमारे ब्लॉग पर और बेहतरीन हिंदी शायरी उपलब्ध है, आप उन्हें जरूर पढ़े: <यहां पढ़ें>

Read Also

मंच संचालन के लिए शायरी – Anchoring Shayari in Hindi

Manch Sanchalan Ki Shayari

ना संघर्ष, ना तकलीफें…क्या है मजा फिर जीने में।
तूफान भी थम जाएगा, जब लक्ष्य रहेगा सीने में।।

*****

बिन बूंदो के बारिश का एहसास कैसे होगा,
जूनून हो दिल में जिसके वो हताश कैसे होगा,
कार्यक्रम के इस रंग का मिज़ाज़ कैसा है,
बिन ताली के हमें यह एहसास कैसे होगा…

*****

अपनी कद्रदानी को,
इस तरह ना छिपाइए,
अगर प्रस्तुति पसंद आई हो,
तो तालियाँ बजाइये…

*****

मंच संचालन शायरी

तौड़ के हर एक पिंजरा उड़ चलो आसमा की और,
चाहे लाख लगा ले कोई बंदिशें, तौड़ दो हर एक छोर…
करना है हर सपने को पूरा बस थान लो एक बार,
हर मुश्किल हल होगी जब इरादा होगा तुम्हारा कठोर।।

*****

ये नन्हे फुल तब महकते हैं
जब खुदा की नीली छत्रियां तनती हैं
इन नन्हे मुन्हे फरिश्तो क लिए
जोरदार तालियाँ तो बनती हैं

*****

मुद्दत से आता हर दिन
ज़िन्दगी में नई उम्मीद जागे
आज का दिन बख्शे खुशियां आपको
नेक कामोंसे सबके नसीब जागे

*****

स्कूल मंच संचालन शायरी

शब्दों का वजन तो हमारे बोलने के भाव से पता चलता हैं,
वैसे तो, दीवारों पर भी “वेलकम” लिखा होता हैं।

*****

कुछ परिंदे उड़ रहे हैं आँधियों के सामने,
उनमें ताकत ना सही पर होसला होगा ज़रूर।
इसी तरह तक आगे बढ़ते रहे तो देखना,
तय समंदर तक एक दिन फासला होगा ज़रूर।।

*****

आओ आज मुश्किलों को हराते हैं
चलो आज दिन भर मुस्कुराते हैं

*****

ठीक नहीं कहना मेरा सबसे यह हर बार,
करतल ध्वनि हो जाये तो हो जाये उपकार,
बिना कहे बजती रहें हर प्रस्तुति के बाद,
तड़-तड़ वाली तालियाँ तब है कोई बात…

*****

वो आए घर में हमारे ख़ुदा की क़ुदरत है कभी
हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं।

*****

ताली शायरी (Tali Shayari)

तुमको मिल सकता है मुझसे बेहतर तो
हमको मिल सकता है तुमसे बेहतर
लेकिन तुम और हम ग़र मिल जाएं तो
कुछ और नहीं हो सकता इससे बेहतर।

*****

दिन निकला हर दिन जैसा
पर आज का दिन कुछ ख़ास हो
अपने लिए तो जीते हैं रोज
आज सबके भले की अरदास हो।

*****

गिर गिर गिरके यारों मुझको खूब संभलना आता है
जलकर बुझना आता है बुझ कर जलना आता है
अपने ही किस्मत लिखता हूं खुद अपने ही हाथों
मुझको सारी महफिल का अंदाज बदलना आता है।

Read Also: बहन पर बेहतरीन शायरी

*****

चेहरे पर हंसी और दिल में खुशी होती है
सही मायनों में यही जिंदगी होती है
और हंसना किसी इबादत से कम नहीं
किसी और को हंसा दो तो बंदगी होती है

*****

Clapping Shayari in Hindi

पूजा हो मंदिर में तो थाली भी चाहिए,
गुलशन है गुल का तो माली भी चाहिए है,
दिल है दिलवाला तो दिलवाली भी चाहिए,
कार्यक्रम है हमारा तो आपकी ताली भी चाहिए…

*****

तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

*****

ग़र ख़ुद के साथ ज़ीना आ जाये
टूटे हुओं के ज़ख्मो को सीना आ जाये
हर पल बरसती है नियामतें कायनात की
बस हर दिन की मुबारक देना आ जाए

*****

हमारी महफ़िल में लोग बिन बुलायें आते हैं,
क्योकि यहाँ स्वागत में फूल नहीं पलकें बिछाये जाते हैं

*****

Shayari for Anchoring in Hindi

दिलों में विश्वास पैदा करता है,
हम सुब में कुछ आस पैदा करता है…
मिटटी की बात तो अलग है,
इश्वर तो पत्थरों में भी घास पैदा करता है।।

*****

जैसा मूड हो वैसा
मंजर होता है
मौसम तो हर इंसान के
अंदर होता है

*****

बंधन में है दिल एक बहाली तो बनती है,
नीरस से माहौल में एक खुशहाली तो बनती है,
यह रंग जो बिखरे है पर्दें पर गर समेटने है तो,
जनाब आपकी एक ताली तो बनती है…

*****

मिलते तो बहुत लोग है ज़िन्दगी की राहों में,
मगर हर किसी में आप जैसी बात नहीं होती।।

*****

Best Anchoring Shayari in Hindi

मीठी बात और चेहरे पर मुस्कान,
ऐसे लोग ही है हमारी महफ़िल के शान।

*****

सारे दुःख मिटा दो चेहरे की हंसी से
गमों की आग बुझा दो चेहरे की हँसी से
हर कोई खुश रह नहीं सकता चाह कर भी
खुशी का राज बता दो चेहरे की हँसी से

*****

कार्यक्रम में खुशियों का महोत्सव हो जाएगा,
समंदर में लहरों का महोत्सव हो जाएगा,
शोभा आपकी और हमारी दो दूनी चार होगी,
जब आपकी तालियों का महोत्सव हो जाएगा…

*****

मुहोब्बत का एक हसीं अहसास हूँ में,
हर पल में घुल जून कुछ एसा खास हूँ में…
पूरी उम्र जपो यद् रहे आपको,
इस शाम का वो हसीं आगाज़ हूँ में।।

*****

Manch Sanchalan Funny Shayari

तुम जो आए हो तो शक्ल-ए-दर-ओ-दीवार है और
कितनी रंगीन मिरी शाम हुई जाती है

*****

ख़ुद से हो जाये मुहब्बत ऐसा कुछ इज़ाद करें
ख़ुद के ही विचारों से ख़ुद को आबाद करें
नफरत छोड़ आज के दिन मना लें खुशियां इतनी
कल ना रहें तो पंछी भी चहक चहक कर याद करें

*****

ऐ खुदा अपनी अदालत में हम सबके लिए ज़मानत रखना,
हम रहे या ना रहें, हमारे दोस्तों को यूँ ही सलामत रखना।।

*****

स्वागत शायरी (Swagat Shayari)

इम्तिहान समझकर
सारे गम सहा करो
शख़्सियत महक उठेगी
बस खुश रहा करो

*****

अपनी एक ज़मी, अपना एक आकाश पैदा कर,
तू अपने लिए एक नया इतिहास पैदा कर…
मांगने से कब मिली है ख़ुशी मेरे दोस्त,
तू अपने हर कदम पर विश्वास पैदा कर।।

*****

कुछ बयां कर देता हूं
कुछ छूपा लेता हूं
मै अपनी मुस्कान से ही
खूद को मना लेता हूं

*****

कव्वाल की शोभा कव्वालियों से होती है,
गुलाब की शोभा उसकी लालियो से होती है,
कलाकार की शोभा कलाकारियो से होती है,
और दर्शको की शोभा उनकी तालियों से होती है…

*****

सुनता हूँ मैं कि आज वो तशरीफ़ लाएँगे
अल्लाह सच करे कहीं झूटी ख़बर न हो

*****

एंकरिंग शायरी (Anchoring Shayari Hindi)

मुस्कुराने की मकसद ना ढूंढ
वरना जिंदगी यूं ही कट जाएगी
कभी बेवजह मुस्कुरा के देख
तेरे साथ साथ जिंदगी भी मुस्कुराएगी

*****

सवेरा होते ही दुनिया आबाद होती है।
पलके खुलते ही इस दिल में तुम्हारी याद होती है
खुदा करे भर जाए तुम्हारा दामन ख़ुशियों से
हमारे लबों पर बस यही फ़रियाद होती है

*****

ज़िन्दगी तब बहतर होती है जब हम खुश होते हैं,
लेकिन ज़िन्दगी तब बहतरीन होती है जब हमारी वजह से कोई खुश होता है।।

*****

ये माना की जिंदगी की राह आसान नहीं
पर मुस्कुराकर चलने में कोई नुकसान नहीं

*****

Welcome Shayari

ताली आप बजाओगे, बिखर जायेगा नूर,
बज जायेगा ह्रदय में, बच्चों के संतूर,
अधिक परिश्रम से किया, इनने आज धमाल,
ये बच्चे हक़दार हैं, ताली हो भरपूर…

*****

हर मायूस को हंसाने का
कारोबार है अपना
दिलो का दर्द खरीद लेते हैं
बस यही रोजगार अपना

*****

दिल को सुकून मिलता हैं मुस्कुराने से.
महफ़िल में रौनक आती है दोस्तों के आने से,

*****

हर सुबह एक नई शुरुआत लाती है
पुरे दिन के नेक संकल्प सजाती है
जिसने जाना हर दिन है होता शुभ
ये सुबह उसी को ख़ूबसूरत बनाती है

*****

Manch Sanchalan Shayari in Hindi

माटी का पुतला हूँ, आपसे जुदा नहीं हूँ…
गलती हो तो माफ़ करना, इन्सान हूँ खुदा नहीं हूँ।।
कौन कहता है, कि आसमां में सुराख़ नहीं होता,
इक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों।।

*****

शुक्रिया तेरा तिरे आने से रौनक़ तो बढ़ी
वर्ना ये महफ़िल-ए-जज़्बात अधूरी रहती

*****

कौन पहुंचा है कभी अपनी आखरी मंजिल तक,
हर किसी के लिए थोडा आसमान बाकि है…
ये तुझको लगता है तू उड़ने के काबिल नहीं,
सच तो ये है की तेरे पंखों में अभी भी उड़न बाकि है।।

*****

शब्दों के इत्तेफाक़ में
यूँ बदलाव करके देख
तू देख कर न मुस्कुरा
बस मुस्कुरा के देख

*****

आज के दिन को सर झुकाकर करें सज़दा
मन की उमंगों को पँख लग जायेंगे
भर लिया ख़ुद को दुआओं से इस दिन
तो दूसरों के लिए भी दुआ कर पाएंगे।

*****

भ्रमर परागों पर बैठेगें धरी रहेगी रखवाली,
खुश्बू ख़ुद उड़ने को आतुर क्या कर लेगा जी माली,
हम तो खुशी बांटने आये, खुशी बांटकर जायेंगे,
चलो बजा दो सारे मिलकर, एक बार खुलकर ताली…

*****

रौनक़-ए-बज़्म नहीं था कोई तुझ से पहले
रौनक़-ए-बज़्म तिरे बा’द नहीं है कोई।

*****

अंदाज़ ऐसे हों की किसी के गले का हार बन जाए
जिस महफ़िल में चले गए वो महफ़िल परिवार बन जाए
किसी ख़ास त्यौहार पर ही जाने क्यों होती हैं खुशियां
जीना ऐसा हो की अपना हर दिन त्यौहार बन जाए

*****

इस ख़ास उत्सव को कुछ इस तरह मनाकर देखें
अपनों की तरह गैरों को भी अपना बनाकर देखें
ऊँचे ओहदे,ज़ागीर, क़ारोबार से तो सज गये
आज से जिंदगी को नेक नियति से सजाकर देखें।

*****

सौ चाँद भी चमकेंगे तो क्या बात बनेगी
तुम आए तो इस रात की औक़ात बनेगी

*****

जो गर चलना हो साथ, तो अपना हाथ बढ़ा दीजिये…
हो गर मन में प्रेम तो फिर मुस्कुरा दीजिये।
है आज हमारा, क्या पता कल हो ना हो….
कोई गीत हो मन में तो फिर गुनगुना दीजिये।।

*****

Read Also: फ्रेंडशिप डे पर शायरी

हम उम्मीद करते हैं आपको यह पसंद आई होगी। इसे आगे शेयर जरूर करें और कमेंट बॉक्स में बताएं कि आपको यह कैसी लगी। हमारे फेसबुक पेज को लाइक जरूर कर दें।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here