स्नेहा दुबे का जीवन परिचय

Sneha Dubey Biography in Hindi: 25 सितम्बर की सुबह में एक नाम ट्विटर पर ट्रेंड हुआ स्नेहा दुबे। आपको बता दें कि स्नेहा संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव है। कश्मीर का राग अलापने और आतंकवाद को सह देने के को लेकर स्नेहा ने पाकिस्तान को फटकार लगाई।

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की 76वीं सालाना बैठक में भारतीय मिशन की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए कहा कि “जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के संपूर्ण केंद्र शासित प्रदेश भारत के अभिन्न और अविभाज्य अंग थे, हैं और रहेंगे। इसमें वे भी क्षेत्र शामिल हैं जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं। हम पाकिस्तान से उसके अवैध कब्जे वाले सभी क्षेत्रों को तुरंत खाली करने के लिए कहते हैं।”

Sneha Dubey Biography in Hindi
Image: Sneha Dubey Biography in Hindi

संयुक्त राष्ट्र महासभा की सालाना की इस बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हमेशा की तरह भारत की छवि को ख़राब करने का असफल प्रयास किया। हालाँकि भारतीय मिशन की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने राइट टू रिप्लाई का प्रयोग करते हुए भारत का पक्ष रखा और वहां पर पाकिस्तान के एक-एक सलीके की सबके सामने पोल खोल दी और एक बार पुनः पाकिस्तान को अपने गिरेबान में झाँकने के लिए मजबूर कर दिया। लोग स्नेहा के इस साहसी कार्य को लेकर सोशल मीडिया पर उनकी तारीफों के पुल बांध रहे है।

तो आइये जानते कि स्नेहा दुबे कौन है?, जिसने पुरे विश्व के सामने इतने बड़े मंच पर भारत की बात रखकर पाकिस्तान का पानी उतार दिया।

स्नेहा दुबे का जीवन परिचय | Sneha Dubey Biography in Hindi

स्नेहा दुबे कौन है?

दुनिया के सामने पाकिस्तान के झूठ को आइना दिखाने वाली स्नेहा दुबे गोवा में पली-बढ़ी है और प्रथम प्रयास में ही UPSC में कामयाबी को हासिल कर चुकी है। स्नेहा इंडियन फॉरन सर्विस में शामिल होना चाहती थी। स्नेहा ने 12 वर्ष की उम्र ही यह निर्णय ले लिया था कि उनको सिविल सर्विसेज में रहना है और स्नेहा का ऐसा मानना है कि उन्हें IFS बनकर बड़े मंच पर देश का प्रतिनिधित्व करने का स्वर्णिम अवसर मिला है, ऐसा वह हमेशा से ही करना चाहती थी।

उनका कहना है कि उनके लिए कोई प्लान बी का विकल्प नहीं रहता। सिविल परीक्षा उतीर्ण करना शुरू से ही उनका ध्येय रहा है। अन्य विकल्प रखकर वह अपने ध्येय से विचलित नहीं होना चाहती थी। अलग-अलग जगह पर घुमने, नई संस्कृतियों के बारे में जानने और इतने बड़े मंच पर देश का प्रतिनिधित्व करने तक वह अपना हर सपना सच करना चाहती थी।

स्नेहा दुबे का जन्म और परिवार

आइए अब हम जानकारी प्राप्त करते है स्नेहा दुबे जी के जन्म के विषय में। स्नेहा दुबे जी का जन्म भारत के गोवा में हुआ था। स्नेहा दुबे जी ने सदैव अपने माता-पिता का सहयोग से अपनी पढ़ाई लिखाई को काफी अच्छी तरीके से पूरा किया और वर्तमान समय में यह संयुक्त राष्ट्र की पहली भारतीय महिला सचिव हैं।

स्नेहा दुबे जी ने अपने जीवन में काफी तकलीफों को झेला है और इन सभी परेशानियों के बाद इन्होंने गलत चीजों से लड़ना सिखा और वर्तमान समय में यह अपनी काबिलियत के दम पर संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की सचिव हैं। हम आप सभी लोगों को बता देना चाहते हैं कि इनके माता-पिता के विषय में अब तक तो इंटरनेट पर या कहीं और किसी भी प्रकार की कोई विशेष जानकारी उपलब्ध नहीं है।

स्नेहा दुबे की शिक्षा

स्नेहा ने फर्ग्यूसन कॉलेज पुणे से ग्रैजुएशन करने के बाद जवाहरलाल यूनिवर्सिटी नई दिल्ली से जियोग्राफी में मास्टर्स की पढ़ाई करी है। अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अधिक रूचि होने के कारण स्नेहा ने जवाहरलाल यूनिवर्सिटी में ही स्कूल ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज में एमफिल की पढ़ाई पूर्ण की। वर्ष 2011 में प्रथम प्रयास में स्नेहा ने UPSC में कामयाबी को हासिल कर ली।

UNGA में क्या बोली स्नेहा

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान के बाद स्नेहा ने कहा कि भारत के आन्तरिक मामलों को पूरी दुनिया के सामने लाने और झूठ से प्रतिष्ठित मंच की छवि को ख़राब करने का प्रयास किया है। स्नेहा ने आगे यह भी कहा है कि पाकिस्तान का नाम दुनिया में आतंकवादियों को सर्मथन करने और हथियार मुहैया में आता है। साथ ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के ज़रिए प्रतिबंधित आतंकवादियों को रखने का घटिया रिकॉर्ड पाकिस्तान के पास है।

स्नेहा दुबे ने दिया पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब

स्नेहा दुबे भारत की एक ऐसी महिला है, जो कि संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की महिला सचिव हैं। स्नेहा दुबे भारत की पहली ऐसा महिला बनी जो संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में महासचिव के पद पर कार्यरत हैं। स्नेहा दुबे जी ने अभी हाल ही में बात विवादों के मध्य पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है। स्नेहा दुबे जी ने पाकिस्तान को ऐसा जवाब दिया, जिससे कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पूरी तरह से चुप पड़ गए और एक शब्द भी ना कर सके।

अभी हाल ही में हुए तालिबान हमले को लेकर इमरान खान ने तालिबान की वकालत करते हुए पाकिस्तान को आतंकवाद का पीड़ित बताया है और इतना ही नहीं भारत के खिलाफ जमकर जहर भी उबला। इमरान खान की इस वकालत को देखकर जवाब देते हुए भारत की पहली सेक्रेटरी महिला स्नेहा दुबे जी ने पाकिस्तान के एक ही झूठ की धज्जियां उड़ा दी।

स्नेहा दुबे जी ने कहा कि हम सभी लोग सुनते आए हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद का पीड़ित है। यह एक ऐसा देश है जो आग बुझाने वाले का वेश बनाकर आग लगाता है। स्नेहा दुबे जी की यह बात सुनकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की बोलती पूरी तरह से बंद हो गई। इस नेहा दुबे जी ने यह भी कहा कि पाकिस्तान के आतंकवादियों को इस उम्मीद में पाला पोषा जाता है कि विश्व उसके पड़ोसियों को नुकसान पहुंचाएं ना कि उसी देश को।

अंतिम शब्द

हम उम्मीद करते हैं आपको यह जानकारी पसंद आई होगी, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

महंत नरेंद्र गिरि का जीवन परिचय

चरणजीत सिंह चन्नी का जीवन परिचय

भूपेंद्र पटेल का जीवन परिचय

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here