परिश्रम पर संस्कृत में श्लोक

Sanskrit Slokas on Parishram With Hindi Meaning

Sanskrit Slokas on Parishram With Hindi Meaning
Image: Sanskrit Slokas on Parishram With Hindi Meaning

परिश्रम पर संस्कृत श्लोक | Sanskrit Slokas on Parishram With Hindi Meaning

अलसस्य कुतो विद्या, अविद्यस्य कुतो धनम्।
अधनस्य कुतो मित्रम्, अमित्रस्य कुतः सुखम्।।

भावार्थ:
जहां आलसी के लिए ज्ञान है (आलसी के लिए ज्ञान नहीं), जहां अज्ञानी के लिए धन है (अज्ञानी के लिए धन नहीं है); जहां एक गरीब के दोस्त होते हैं (एक गरीब के पास दोस्त नहीं होते) और दोस्तों के बिना कोई कैसे खुश रह सकता है।

द्वौ अम्भसि निवेष्टव्यौ गले बद्ध्वा दृढां शिलाम्।
धनवन्तम् अदातारम् दरिद्रं च अतपस्विनम्।।

भावार्थ:
जो धनी होते हुए भी दान आदि नहीं करते और जो गरीब होते हुए भी परिश्रम नहीं करते, ऐसे लोगों के गले में पत्थर बांधकर समुद्र में फेंक देना चाहिए।

परिश्रम पर संस्कृत में श्लोक (sanskrit slokas on parishram with meaning in hindi)

न कश्चित कस्यचित मित्रम्, न कश्चित कस्यचितरिपुरू।
व्यवहारेण जायंते, मित्राणि रिप्वस्तथा।।

भावार्थ:
संसार में कोई किसी का मित्र नहीं है और कोई शत्रु नहीं है। लेकिन व्यवहार से ही दोस्त और दुश्मन बनते हैं।

आलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः।
नास्त्युद्यमसमो बन्धुः कृत्वा यं नावसीदति।।

भावार्थ:
आलस्य मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है और परिश्रम मनुष्य का सबसे बड़ा मित्र है। मेहनती दोस्त कभी दुखी नहीं हो सकता।

षड् दोषा: पुरूषेणेह हातव्या भूतिमिच्छता।
निंद्रा तंद्रा भयम् क्रोध: आलस्यम् दीर्घसूत्रता।।

भावार्थ:
मानव विध्वंस का कारण 6 निष्कासन है। नींद, तंद्रा, भय, क्रोध, आलस्य और काम चुराने की आदत।

परिश्रम पर संस्कृत में श्लोक

उद्यमेन हि सिध्यन्ति कार्याणि न मनोरथैः।
न हि सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृगाः।।

भावार्थ:
दुनिया में कोई भी कार्य केवल सोच-विचार से ही पूर्ण नहीं होता, अपितु कार्य की पूर्ति के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ता है, जैसे सोते हुए सिंह के मुंह में हिरण नहीं आता, बल्कि हिरण का शिकार करने के लिए शेर को दौड़ना पड़ता है।

यथा ह्येकेन चक्रेण न रथस्य गतिर्भवेत्।
एवं पुरुषकारेण विना दैवं न सिध्यति।।

भावार्थ:
जिस प्रकार रथ एक पहिए पर नहीं चल सकता, उसी प्रकार बिना परिश्रम के भाग्य का फल नहीं मिलता।

यह भी पढ़े: परिवार पर संस्कृत श्लोक

sanskrit slokas on hard work

वाणी रसवती यस्य,यस्य श्रमवती क्रिया।
लक्ष्मी: दानवती यस्य,सफलं तस्य जीवितं।।

भावार्थ:
जिस व्यक्ति की वाणी मधुर होती है, जिसका हर कार्य परिश्रम से भरा होता है और जिसका धन दान आदि में लगाया जाता है, उस व्यक्ति का जीवन सही मायनों में सफल होता है।

काकतालीयवत्प्राप्तं दृष्ट्वापि निधिमग्रतः।
न स्वयं दैवमादत्ते पुरुषार्थमपेक्षते।।

भावार्थ:
भाग्य से भले ही कोई खजाना सामने पड़ा हुआ दिखाई दे, भाग्य उसे हाथ नहीं लगाता, कुछ प्रयास उसे बढ़ाने के लिए अभी भी अपेक्षित है।

श्रमेण लभ्यं सकलं न श्रमेण विना क्वचित्।
सरलाङ्गुलि संघर्षात् न निर्याति घनं घृतम्।।

भावार्थ:
शरीर द्वारा मन से किया गया कार्य श्रम कहलाता है। बिना मेहनत के जीवन का कोई मतलब नहीं है, बिना मेहनत के न तो शिक्षा है और न ही पैसा। बिना मेहनत के खाया गया खाना भी बेस्वाद होता है। इसलिए हमें हमेशा मेहनत करनी चाहिए। मेहनत से ही देश, समाज और परिवार का विकास होता है।

यह भी पढ़े

ज़िन्दगी से जुड़े संस्कृत श्लोक

सुंदरता पर संस्कृत श्लोक

प्रेरणादायक संस्कृत श्लोक अर्थ सहित

विद्या पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here