परिवार पर संस्कृत श्लोक

Sanskrit Slokas on Family with Hindi Meaning

Sanskrit Slokas on Family with Hindi Meaning
Image: Sanskrit Slokas on Family with Hindi Meaning

परिवार पर श्लोक | Sanskrit Slokas on Family with Hindi Meaning

कुलं च शीलं च वयश्च रुपम विद्यां च वित्तं च सनाथता च।
तान् गुणान् सप्त परीक्ष्य देया कन्या बुधैः शेषमचिन्तनीयम्।।

भावार्थ:
सात बातों को ध्यान में रखते हुए: परिवार, शील, आयु, रूप, शिक्षा, धन और दत्तक, एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी बेटी का विवाह बिना कुछ सोचे-समझे करना चाहिए।

यदि पुत्रः कुपुत्रः स्यात् व्यर्थो हि धनसञ्चयः।
यदि पुत्रः सुपुत्रः स्यात् व्यर्थो हि धनसञ्चयः।।

भावार्थ:
यदि पुत्र सुपुत्र है, तो धन का संचय व्यर्थ है, और पुत्र कुपुत्र हो तो भी धन का संचय व्यर्थ है।

अविनीतः सुतो जातः कथं न दहनात्मकः।
विनीतस्तु सुतो जातः कथं न पुरुषोत्तमः।।

भावार्थ:
यदि किसी का पुत्र अविश्वसनीय रूप से दुष्ट और शरारती हो जाता है, तो ऐसे पिता की आत्मा दुःख की आग में जलती है।
और यदि उसका पुत्र विनम्र और आज्ञाकारी है, तो क्या ऐसा पिता श्रेष्ठ पुरुष कहलाएगा?

वरमेको गुणी पुत्रो न च मूर्खशतान्यपि।
एकश्चन्द्रस्तमो हन्ति न च तारागणोऽपि च।।

भावार्थ:
सौ मूर्ख पुत्रों से एक गुणी पुत्र श्रेष्ठ है। केवल चंद्रमा ही अंधकार को दूर करता है, तारा समूह को नहीं।

प्रीणाति य सुचरितैः पितरं स पुत्रो यद्भर्तुरेव हितमिच्छति तत्कलत्रम्।
तन्मित्रमापदि सुखे च समक्रियं यत् एतत् त्रयं जगति पुण्यकृतो लभन्ते।।

भावार्थ:
जो पुत्र अपने अच्छे कर्मों से पिता को प्रसन्न करता है, वह पत्नी जो केवल पति का कल्याण चाहती है, और जो मित्र सुख-दुख में समान व्यवहार करता है – ये तीनों संसार में सदाचारियों को प्राप्त होते हैं।

ऋणकर्ता पिता शत्रुः माता च व्यभिचारिणी।
भार्या रूपवती शत्रुः पुत्रः शत्रुरपण्डितः।।

भावार्थ:
ऋणी पिता, व्यभिचारी माता, सुन्दर स्त्री और अनपढ़ पुत्र शत्रु हैं।

दिग्वाससं गतव्रीडं जटिलं धूलिधूसरम्।
पुण्याधिका हि पश्यन्ति गंगाधरमिवात्मजम्।।

भावार्थ:
गंगा को धारण करने वाले महादेव की तरह दिगंबर, बेशर्म, बाल रहित और धूल-धूसरित बच्चे को केवल एक विशेष गुणी प्राणी ही देख सकता है।

पात्रं न तापयति नैव मलं प्रसूते स्नेहं न संहरति नैव गुणान् क्षिणोति।
द्रव्यावसानसमये चलतां न धत्ते सत्पुत्र एष कुलसद्मनि कोऽपि दीपः।।

भावार्थ:
कुलवां के घर में जो पुत्र प्रकट हुआ वह एक अद्भुत दीपक के समान है। दिया जाता है तो वह बर्तन को गर्म करता है, लेकिन पुत्र परिवार को नहीं गर्म करता है; दीया तो जाल बनाता है, परन्तु पुत्र मैल नहीं हटाता; दीया तेल पीता है, परन्तु पुत्र प्रेम का नाश नहीं करता; दी गई गुणवत्ता (वाट) को कम करती है लेकिन बेटा गुणवत्ता को कम नहीं करता है; दी गई सामग्री कम होने पर समझा जाता है, लेकिन सामग्री कम होने पर पुत्र परिवार नहीं छोड़ता।

विद्याविहीना बहवोऽपि पुत्राः कल्पायुषः सन्तु पितुः किमेतैः।
क्षयिष्णुना वापि कलावता वा तस्य प्रमोदः शशिनेव सिन्धोः।।

भावार्थ:
चन्द्रमा क्षय रोग से पीड़ित है, फिर भी समुद्र को बुद्धिमान होने का सुख मिलता है। उसी प्रकार गुणवान पुत्र से पिता को सुख तो मिलता है, परन्तु बिना शिक्षा के अनेक दीर्घजीवी पुत्रों के होने से पिता का क्या होता है?

कुम्भःपरिमितम्भः पिबत्यसौ कुम्भसंभवोऽम्भोधिम्।
अतिरिच्यते सुजन्मा कश्चित् जनकं निजेन चरितेन।।

भावार्थ:
घड़ा जितना पानी पीता है, उतना पानी पीता है, लेकिन घड़े से पैदा हुए अगस्त्य मुनि समुद्र को पीते हैं। उसी प्रकार पुत्र अपने चरित्र में पिता से कहीं अधिक श्रेष्ठ होता है।

कुले कलङ्कः कवले कदन्नता
सुतः कुबुद्धिः र्भवने दरिद्रता।
रुजः शरीरे कलहप्रिया प्रिया
गृहागमे दुर्गतयः षडेते।।

भावार्थ:
घर में आने पर कलंकित परिवार, अन्न का अन्न, दुराचारी पुत्र, दरिद्रता, शरीर में रोग और कलह पत्नी – ये छह दुर्भाग्य का बोध कराते हैं।

एकेनापि सुपुत्रेण विद्यायुक्तेन भासते।
कुलं पुरुषसिंहेन चन्द्रेणेव हि शर्वरी।।

भावार्थ:
जिस प्रकार चन्द्रमा ही रात्रि को सुशोभित करता है, उसी प्रकार ज्ञानियों और मनुष्यों में सिंह के समान परिवार उसे सुशोभित करता है।

अत्यासन्ने चातिदूरे अत्याढ्ये धनवर्जिते।
वृत्ति हीने च मूर्खे च कन्यादानं न शस्यते।।

भावार्थ:
बहुत करीब, बहुत दूर, बहुत अमीर या बहुत गरीब, आजीविका का कोई साधन नहीं है, और मूर्ख हैं – उन्हें लड़की नहीं दी जानी चाहिए।

पितृभिः ताडितः पुत्रः शिष्यस्तु गुरुशिक्षितः।
धनाहतं सुवर्णं च जायते जनमण्डनम्।।

भावार्थ:
पिता द्वारा मारा गया पुत्र, गुरु द्वारा पढ़ाया जाने वाला शिष्य और हथौड़े से ठोका गया सोना लोगों के लिए आभूषण बन जाता है।

यं मातापितरौ क्लेशं सहेते सम्भवे नृणाम्।
न तस्य निष्कृतिः शक्या कर्तुं वर्षशतैरपि।।

भावार्थ:
मनुष्य के जन्म के बाद माता-पिता ने उसके लिए जो कष्ट सहे हैं, उसका सौ वर्ष बाद भी चुकाना संभव नहीं है।

यह भी पढ़े: ज़िन्दगी से जुड़े संस्कृत श्लोक

कार्येषु मन्त्री करणेषु दासी
भोज्येषु माता शयनेषु रम्भा।
धर्मानुकूला क्षमया धरित्री
भार्या च षाड्गुण्यवतीह दुर्लभा।।

भावार्थ:
कार्य के संदर्भ में मंत्री, गृहकार्य में दासी, भोजन प्रदान करने वाली मां, रति के संदर्भ में रंभा, धर्म में सनुकुल और क्षमा करने में धृति; इन छह गुणों वाली पत्नी मिलना दुर्लभ है।

श्रावयेद् मृदुलां वाणीं सर्वदा प्रियमाचरेत्।
पित्रोराज्ञानुकारी स्यात् स पुत्रः कुलपावनः।।

भावार्थ:
जो धीरे से सुनता है, हमेशा प्रिय व्यवहार करता है, माता-पिता की आज्ञा का पालन करता है, पुत्र के परिवार को शुद्ध करता है।

लोकयात्रा भयं लज्जा दाक्षिण्यं त्यागशीलता।
पञ्च यत्र न वर्तन्ते न कुर्यात् तत्र संस्थितिः।।

भावार्थ:
जहाँ लोगों की आवाजाही न हो, कुकर्मों का भय न हो, लज्जा, चतुराई और शील न हो, वहाँ निवास नहीं करना चाहिए।

आचारो विनम्रो विद्या प्रतिष्ठा तीर्थदर्शनम्।
निष्ठावृत्तिस्तपो ज्ञानं नवधा कुल लक्षणम्।।

भावार्थ:
नैतिकता, नम्रता, शास्त्रों का ज्ञान, सामाजिक प्रतिष्ठा, पवित्रता, आस्था, व्यवसाय, उपवास और अनुभव ज्ञान – ये नौ कुलों (परीक्षा) के लक्षण हैं।

अतिथि बालकः पत्नी जननी जनकस्तथा।
पञ्चैते गृहिणीः पोष्या इतरे च स्वशक्तितः।।

भावार्थ:
अतिथि, संतान, पत्नी, माता और पिता-परिवार को इन पांचों का पालन-पोषण करना चाहिए।

कुलं च शीलं च वयश्च रुपम् विद्यां च वित्तं च सनाथता च।
तान् गुणान् सप्त परीक्ष्य देया कन्या बुधैः शेषमचिन्तनीयम्।।

भावार्थ:
इन सात चीजों- परिवार, शील, आयु, रूप, शिक्षा, धन और पालन-पोषण को देखने के बाद, एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी बेटी को बिना कुछ सोचे समझे देना चाहिए।

अनुकूलां विमलाङ्गीं कुलीनां कुशलां सुशीला सम्पन्नाम्।
पञ्चलकारां भार्यां पुरुषः पुण्योदयात् लभते।।

भावार्थ:
मिलनसार, शुद्ध, कुलीन, कुशल और सौम्य – ऐसी पत्नी पांच लकार वाली तभी मिलती है जब पुरुष पुण्य प्राप्त करता है।

राजपत्नी गुरोः पत्नी भ्रातृपत्नी तथैव च।
पत्नीमाता स्वमाता च पञ्चैते मातरः स्मृतः।।

भावार्थ:
ये पांच माताएं शाही पत्नी, गुरु पत्नी, भाभी, सास और सास हैं।

कुले कलङ्कः कवले कदन्नता सुतः कुबुद्धिः र्भवने दरिद्रता।
रुजः शरीरे कलहप्रिया प्रिया गृहागमे दुर्गतयः षडेते।।

भावार्थ:
घर में आने पर, कलंकित परिवार, अन्न, दुर्बुद्धि पुत्र, दरिद्रता, शरीर में रोग और पत्नी से कलह – ये छह व्यक्ति को दुर्भाग्य का भाव देते हैं।

प्रीणाति य सुचरितैः पितरं स पुत्रो
यद्भर्तुरेव हितमिच्छति तत्कलत्रम्।
तन्मित्रमापदि सुखे च समक्रियं यत्
एतत् त्रयं जगति पुण्यकृतो लभन्ते।।

भावार्थ:
जो पुत्र अपने अच्छे कर्मों से पिता को प्रसन्न करता है, वह पत्नी जो केवल पति का कल्याण चाहती है, और जो मित्र सुख-दुख में समान व्यवहार करता है – ये तीनों संसार में सदाचारियों को प्राप्त होते हैं।

त्रयः कालकृताः पाशाः शक्यन्ते न निवर्तितुम्।
विवाहो जन्म मरणं यथा यत्र च येन च।।

भावार्थ:
विवाह, जन्म और मृत्यु – ये अस्थायी, अपरिहार्य हैं। वे जैसे हैं, कहां हैं, और किसके साथ हैं।

त्यागाय समृतार्थानां सत्याय मिभाषिणाम्।
यशसे विजिगीषूणां प्रजायै गृहमेधिनाम्।।

भावार्थ:
जो लोग सतपात्र को दान देने के लिए धन एकत्र करते थे, जो प्रसिद्धि के लिए जीत चाहते थे, सत्य के लिए मितभाषी और बच्चों के लिए शादी करते थे, वे कहते हैं कि प्रजनार्थ एक घरेलू संगठन था।

कोऽर्थः पुत्रेण जातेन यो न विद्वान न धार्मिकः।
काणेन चक्षुषा किं वा चक्षुःपीडैव केवलम्।।

भावार्थ:
जो विद्वान और धार्मिक नहीं है, ऐसे पुत्र को जन्म देने से क्या लाभ? एक आंख का क्या उपयोग है? केवल दर्द होता है!

यह भी पढ़े

सुंदरता पर संस्कृत श्लोक

विद्या पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

सफलता पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here