सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlok on Truth With Hindi Meaning

sanskrit shlok on truth with hindi meaning
Image: sanskrit shlok on truth with hindi meaning

सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlok on Truth With Hindi Meaning

सत्येन रक्ष्यते धर्मो विद्याऽभ्यासेन रक्ष्यते।
मृज्यया रक्ष्यते रुपं कुलं वृत्तेन रक्ष्यते।।

भावार्थ:
धर्म की रक्षा सत्य से, ज्ञान से अभ्यास से, रूप से स्वच्छता से और परिवार की रक्षा आचरण से होती है।

अग्निना सिच्यमानोऽपि वृक्षो वृद्धिं न चाप्नुयात्।
तथा सत्यं विना धर्मः पुष्टिं नायाति कर्हिचित्।।

भावार्थ:
आग से सिंचित वृक्ष नहीं बढ़ता, जैसे सत्य के बिना धर्म का विकास नहीं होता।

तस्याग्निर्जलमर्णवः स्थलमरिर्मित्रं सुराः किंकराः
कान्तारं नगरं गिरि र्गृहमहिर्माल्यं मृगारि र्मृगः।
पातालं बिलमस्त्र मुत्पलदलं व्यालः श्रृगालो विषं
पीयुषं विषमं समं च वचनं सत्याञ्चितं वक्ति यः।।

भावार्थ:
सत्य बोलने वाले के लिए अग्नि जल बन जाती है, समुद्र भूमि बन जाता है, शत्रु मित्र, देव सेवक, जंगल नगर, पर्वत घर, सर्प पुष्पों की माला, सिंह हिरण, अधोलोक, कमल, सिंह, लोमड़ी, जल का अमृत और विषमताएँ सम हो जाती हैं।

नासत्यवादिनः सख्यं न पुण्यं न यशो भुवि।
दृश्यते नापि कल्याणं कालकूटमिवाश्नतः।।

भावार्थ:
कलाकूट पीने वाले की तरह असत्य बोलने वाले को इस संसार में कोई यश, पुण्य, यश या कल्याण नहीं मिलता।

सत्यहीना वृथा पूजा सत्यहीनो वृथा जपः।
सत्यहीनं तपो व्यर्थमूषरे वपनं यथा।।

भावार्थ:
जिस प्रकार भूमि में बीज बोना व्यर्थ है, उसी प्रकार सत्य के बिना पूजा, जप और तपस्या भी व्यर्थ है।

भूमिः कीर्तिः यशो लक्ष्मीः पुरुषं प्रार्थयन्ति हि।
सत्यं समनुवर्तन्ते सत्यमेव भजेत् ततः।।

भावार्थ:
सत्य का अनुसरण करने वाले से भूमि, कीर्ति, यश और लक्ष्मी प्रार्थना करते हैं। इसलिए सत्य की पूजा करनी चाहिए।

ये वदन्तीह सत्यानि प्राणत्यागेऽप्युपस्थिते।
प्रमाणभूता भूतानां दुर्गाण्यतितरन्ति ते।।

भावार्थ:
जो त्याग की दशा में भी सत्य बोलता है, वह जीवों में प्रत्यक्ष है। वह संकट से गुजरता है।

सत्यधर्मं समाश्रित्य यत्कर्म कुरुते नरः।
तदेव सकलं कर्म सत्यं जानीहि सुव्रते।।

भावार्थ:
हे सुव्रता! एक आदमी जो सच्चे धर्म के सहारे काम करता है कि हर काम सच है, ऐसी समझ।

सत्यं स्वर्गस्य सोपानं पारावरस्य नौरिव।
न पावनतमं किञ्चित् सत्यादभ्यधिकं क्वचित्।।

भावार्थ:
समुद्र के जहाज की तरह सत्य स्वर्ग की सीढ़ी है। सत्य से बढ़कर कुछ भी पवित्र नहीं है।

सत्येन पूयते साक्षी धर्मः सत्येन वर्धते।
तस्मात् सत्यं हि वक्तव्यं सर्ववर्णेषु साक्षिभिः।।

भावार्थ:
सत्य के वचन से बुद्धि शुद्ध होती है, सत्य से धर्म की वृद्धि होती है। इसलिए सभी वर्णों में साक्षी को सत्य बोलना चाहिए।

सत्यमेव व्रतं यस्य दया दीनेषु सर्वदा।
कामक्रोधौ वशे यस्य स साधुः – कथ्यते बुधैः।।

भावार्थ:
जिसका व्रत ‘एकमात्र सत्य’ है, जो हमेशा गरीबों की सेवा करता है, जो काम और क्रोध के नियंत्रण में है, उसे बुद्धिमान लोग ‘साधु’ कहते हैं।

नास्ति सत्यसमो धर्मो न सत्याद्विद्यते परम्।
न हि तीव्रतरं किञ्चिदनृतादिह विद्यते।।

भावार्थ:
सत्य के समान दूसरा कोई धर्म नहीं है। सच के सिवाय कुछ नहीं। झूठ से ज्यादा तीव्र कुछ भी नहीं है।

सत्यं मृदु प्रियं वाक्यं धीरो हितकरं वदेत्।
आत्मोत्कर्षं तथा निन्दां परेषां परिवर्जयेत्।।

भावार्थ:
धैर्यवान मनुष्य को चाहिए कि वह सत्य, मृदु, प्रिय, हितैषी और अपने ढंग से बोले। अजनबियों की आलोचना को छोड़ देना चाहिए।

सत्यं सत्सु सदा धर्मः सत्यं धर्मः सनातनः।
सत्यमेव नमस्येत सत्यं हि परमा गतिः।।

भावार्थ:
सत्य अच्छे लोगों के लिए सनातन धर्म है। सत्य को प्रणाम करना चाहिए, सत्य ही सर्वोच्च गति है।

सत्यमेव जयते नानृतम् सत्येन पन्था विततो देवयानः।
येनाक्रमत् मनुष्यो ह्यात्मकामो यत्र तत् सत्यस्य परं निधानं।।

भावार्थ:
जीत सत्य की होती है असत्य की नहीं। परमात्मा का मार्ग सत्य से परे है। जिस पथ पर मनुष्य स्वयं कर्म करता है, वही सत्य का परमधाम है।

सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् न ब्रूयात् सत्यमप्रियम्।
नासत्यं च प्रियं ब्रूयात् एष धर्मः सनातनः।।

भावार्थ:
सच और प्रिय बोलना चाहिए; लेकिन अप्रिय सत्य न बोलना और प्रिय असत्य न बोलना, यही सनातन धर्म है।

न पुत्रात् परमो लाभो न भार्यायाः परं सुखम्।
न धर्मात् परमं मित्रं नानृतात् पातकं परम्।।

भावार्थ:
पुत्र से बढ़कर कोई लाभ नहीं, पत्नी से बढ़कर कोई सुख नहीं, धर्म से श्रेष्ठ कोई मित्र नहीं और असत्य के समान पूर्ण कोई नहीं है।

सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlok on Truth With Hindi Meaning

नानृतात्पातकं किञ्चित् न सत्यात् सुकृतं परम्।
विवेकात् न परो बन्धुः इति वेदविदो विदुः।।

भावार्थ:
वेदों के विद्वानों का कहना है कि असत्य असत्य के अतिरिक्त और कोई बुराई नहीं है; सत्य के अलावा कोई नहीं है, और विवेक के अलावा कोई भाई नहीं है।

विश्वासायतनं विपत्तिदलनं देवैः कृताराधनम्
मुक्तेः पथ्यदनं जलाग्निशमनं व्याधोरग स्तम्भनम्।
श्रेयः संवननं समृद्धिजननं सौजन्य सञ्जीवनम्
कीर्तेः केलिवनं प्रभाव भवनं सत्यं वचः पावनम्।।

भावार्थ:
आस्था का पालन करने वाला, विपत्ति का नाश करने वाला, भगवान द्वारा पूजित, मोक्ष के लिए भोजन, अग्नि को शांत करने वाला जल, सांपों को रोकने वाले शिकारी की तरह, परोपकारी, समृद्ध, कृपा देने वाला, प्रसिद्धि देने वाला और घर को प्रभावित करने वाला, ऐसा ही एक सच्चा शब्द है पवित्र।

सदयं ह्रदयं यस्य भाषितं सत्यभूषितम्।
कायः परहिते यस्य कलिस्तस्य करोति किम्।।

भावार्थ:
जिसका हृदय दयालु है, जिसकी वाणी सत्य से भरी है, और जिसका शरीर दूसरों के हित के लिए है, कलि क्या कर सकता है?

सत्येन धार्यते पृथ्वी सत्येन तपते रविः।
सत्येन वायवो वान्ति सर्वं सत्ये प्रतिष्ठितम्।।

भावार्थ:
सत्य पृथ्वी को धारण करता है, सत्य सूर्य को गर्म करता है, सत्य हवा को उड़ाता है। सब कुछ सत्य पर आधारित है।

सत्यमेव परं ब्रह्म सत्यमेव परं तप:।
सत्यमेव परो यज्ञ: सत्यमेव परं श्रुतम्।।

भावार्थ: सत्य ही सर्वोच्च ब्रह्म है, सत्य ही सर्वोच्च तप है, सत्य परम बलिदान है।

सत्यं सुप्तेषु जागर्ति सत्यं च परमं पदम्।
सत्येनैष धृता पृथ्वी सत्ये सर्वं प्रतिष्ठितम्।।

भावार्थ: सोये हुए पुरुषों में सत्य जागता है, सत्य ही सर्वोच्च अवस्था है। सत्य ने पृथ्वी पर कब्जा कर लिया है, इसलिए सब कुछ सत्य में स्थापित है।

सत्येन रक्ष्यते धर्मो विद्याऽभ्यासेन रक्ष्यते।
मृज्यया रक्ष्यते रुपं कुलं वृत्तेन रक्ष्यते।।

भावार्थ :
धर्म की रक्षा सत्य से, ज्ञान से अभ्यास से, रूप से स्वच्छता से और परिवार की रक्षा आचरण से होती है।

सत्येन धार्यते पृथ्वी सत्येन तपते रविः।
सत्येन वायवो वान्ति सर्वं सत्ये प्रतिष्ठितम्।।

भावार्थ:
सत्य पृथ्वी को धारण करता है, सत्य सूर्य को गर्म करता है, सत्य हवा को उड़ाता है। सब कुछ सत्य पर आधारित है।

नास्ति सत्यसमो धर्मो न सत्याद्विद्यते परम्।
न हि तीव्रतरं किञ्चिदनृतादिह विद्यते।।

भावार्थ:
सत्य के समान दूसरा कोई धर्म नहीं है। सच के सिवाय कुछ नहीं। झूठ से ज्यादा तीव्र कुछ भी नहीं है।

सत्यमेव व्रतं यस्य दया दीनेषु सर्वदा।
कामक्रोधौ वशे यस्य स साधुः – कथ्यते बुधैः।।

भावार्थ:
‘सत्य’ वही है जिसका उपवास, जो सदैव गरीबों की सेवा करता है, जो काम और क्रोध को वश में रखता है, उसे ज्ञानी ‘साधु’ कहते हैं।

सत्यमेव जयते नानृतम् सत्येन पन्था विततो देवयानः।
येनाक्रमत् मनुष्यो ह्यात्मकामो यत्र तत् सत्यस्य परं निधानं।।

भावार्थ:
जीत सत्य की होती है असत्य की नहीं। परमात्मा का मार्ग सत्य से परे है। जिस पथ पर मनुष्य स्वयं कर्म करता है, वही सत्य का परमधाम है।

सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् न ब्रूयात् सत्यमप्रियम्।
नासत्यं च प्रियं ब्रूयात् एष धर्मः सनातनः।।

भावार्थ:
सच और प्रिय बोलना चाहिए; लेकिन अप्रिय सत्य न बोलना और प्रिय असत्य न बोलना, यही सनातन धर्म है।

नानृतात्पातकं किञ्चित् न सत्यात् सुकृतं परम्।
विवेकात् न परो बन्धुः इति वेदविदो विदुः।।

भावार्थ:
वेदों के विद्वान कहते हैं कि अनृत (असत्य) के अलावा और कोई बुराई नहीं है; सत्य के अलावा कोई अच्छा नहीं है और विवेक के अलावा कोई भाई नहीं है।

अग्निना सिच्यमानोऽपि वृक्षो वृद्धिं न चाप्नुयात्।
तथा सत्यं विना धर्मः पुष्टिं नायाति कर्हिचित्।।

भावार्थ:
अग्नि से सींचा हुआ वृक्ष नहीं बढ़ता, जैसे सत्य के बिना धर्म का विकास नहीं होता।

ये वदन्तीह सत्यानि प्राणत्यागेऽप्युपस्थिते।
प्रमाणभूता भूतानां दुर्गाण्यतितरन्ति ते।।

भावार्थ:
जो त्याग की दशा में भी सत्य बोलता है, वह जीवों में प्रत्यक्ष है। वह संकट से गुजरता है।

सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlok on Truth With Hindi Meaning

सत्यहीना वृथा पूजा सत्यहीनो वृथा जपः।
सत्यहीनं तपो व्यर्थमूषरे वपनं यथा।।

भावार्थ:
जिस प्रकार वीरान भूमि में बीज बोना व्यर्थ है, उसी प्रकार सत्य के बिना पूजा, जप और तपस्या भी व्यर्थ है।

भूमिः कीर्तिः यशो लक्ष्मीः पुरुषं प्रार्थयन्ति हि। सत्यं समनुवर्तन्ते सत्यमेव भजेत् ततः।।
भावार्थ:
सत्य का अनुसरण करने वाले से भूमि, कीर्ति, यश और लक्ष्मी प्रार्थना करते हैं। इसलिए सत्य की पूजा करनी चाहिए।

सत्यं स्वर्गस्य सोपानं पारावरस्य नौरिव।
न पावनतमं किञ्चित् सत्यादभ्यधिकं क्वचित्।।

भावार्थ:
समुद्र के जहाज की तरह सत्य स्वर्ग की सीढ़ी है। सत्य से बढ़कर कुछ भी पवित्र नहीं है।

सत्येन पूयते साक्षी धर्मः सत्येन वर्धते।
तस्मात् सत्यं हि वक्तव्यं सर्ववर्णेषु साक्षिभिः।।

भावार्थ:
सत्य के वचन से बुद्धि शुद्ध होती है, सत्य से धर्म की वृद्धि होती है। इसलिए सभी वर्णों में साक्षी को सत्य बोलना चाहिए।

तस्याग्निर्जलमर्णवः स्थलमरिर्मित्रं सुराः किंकराः कान्तारं नगरं गिरि र्गृहमहिर्माल्यं मृगारि र्मृगः।
पातालं बिलमस्त्र मुत्पलदलं व्यालः श्रृगालो विषं पीयुषं विषमं समं च वचनं सत्याञ्चितं वक्ति यः।।

भावार्थ :
सत्य बोलने वाले के लिए अग्नि जल बन जाती है, समुद्र भूमि बन जाता है, शत्रु मित्र, देव सेवक, जंगल नगर, पर्वत घर, सर्प पुष्पों की माला, सिंह हिरण, अधोलोक, कमल, सिंह, लोमड़ी, जल का अमृत और विषमताएँ सम हो जाती हैं।

यह भी पढ़े

सफलता पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

स्वास्थ्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

संस्कृत सुभाषितानि हिंदी अर्थ सहित

भगवत गीता के प्रसिद्ध श्लोक हिंदी अर्थ सहित

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here