विद्या पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

विद्या पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlok on Vidya With Meaning

Sanskrit Shlok on Vidya
Image: Sanskrit Shlok on Vidya

विद्या पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित | Sanskrit Shlok on Vidya With Meaning

अधिगतपरमार्थान्पण्डितान्मावमंस्था
स्तृणमिव लघुलक्ष्मीर्नैव तान्संरुणद्धि।
अभिनवमदलेखाश्यामगण्डस्थलानां
न भवति बिसतन्तुवरिणं वारणानाम्।।

भावार्थ:
किसी भी बुद्धिमान व्यक्ति को कभी भी काम या अपमान के लिए नहीं आंका जाना चाहिए क्योंकि भौतिक संसार की भौतिक संपत्ति उसके लिए घास की तरह है। जिस प्रकार शराबी हाथी को कमल की पंखुड़ियों से नियंत्रित नहीं किया जा सकता, उसी प्रकार धन से बुद्धिमान को नियंत्रित करना असंभव है।

संयोजयति विद्यैव नीचगापि नरं सरित्।
समुद्रमिव दुर्धर्षं नृपं भाग्यमतः परम्।।

भावार्थ:
जिस प्रकार नीचे की ओर बहने वाली नदी नाव में बैठे व्यक्ति को अगम्य समुद्र में ले जाती है, उसी प्रकार निम्न जाति में पारित ज्ञान भी उस व्यक्ति को राजा से मिलवाता है; और राजा के मिलने के बाद उसकी किस्मत खिल जाती है।

विद्यां ददाति विनयं विनयाद् याति पात्रताम्।
पात्रत्वात् धनमाप्नोति धनात् धर्मं ततः सुखम्।।

भावार्थ:
ज्ञान विनय देता है; विनय से पात्रता, पात्रता से धन, धन से धर्म और धर्म से सुख की प्राप्ति होती है।

कुत्र विधेयो यत्नः विद्याभ्यासे सदौषधे दाने।
अवधीरणा क्व कार्या खलपरयोषित्परधनेषु।।

भावार्थ:
कहाँ प्रयास करें? विद्या, पुण्य और दान में। अनादर कहाँ? दुष्टों में, परदेशी स्त्री और धनी।

विद्याविनयोपेतो हरति न चेतांसि कस्य मनुजस्य।
कांचनमणिसंयोगो नो जनयति कस्य लोचनानन्दम्।।

भावार्थ:
किस आदमी का दिमाग एक विद्वान और विनम्र आदमी को नहीं लूटता है? सोना और रत्न का संयोग किसकी आंखों को सुख नहीं देता?

विद्या रूपं कुरूपाणां क्षमा रूपं तपस्विनाम्।
कोकिलानां स्वरो रूपं स्त्रीणां रूपं पतिव्रतम्।।

भावार्थ:
कुरूप का रूप है, तपस्वी का विधायक, कोकिला का रूप, विद्रोह का विधायक।

रूपयौवनसंपन्ना विशाल कुलसम्भवाः।
विद्याहीना न शोभन्ते निर्गन्धा इव किंशुकाः।।

भावार्थ:
रूप में धनी, यौवन, और भले ही एक विशाल परिवार में पैदा हुए हों, लेकिन जो शिक्षाहीन हैं, वे बिना सुगंध के कसौदा के फूल की तरह सुशोभित नहीं होते हैं।

माता शत्रुः पिता वैरी येन बालो न पाठितः।
न शोभते सभामध्ये हंसमध्ये बको यथा।।

भावार्थ:
जो अपने बच्चे को शिक्षा नहीं देता, ऐसी माँ शत्रु के समान होती है और उसका पिता शत्रुतापूर्ण होता है; क्योंकि हंसों के बीच बगुले की तरह ऐसा आदमी विद्वानों की सभा को शोभा नहीं देता!

क्षणशः कणशश्चैव विद्यामर्थं च साधयेत्।
क्षणे नष्टे कुतो विद्या कणे नष्टे कुतो धनम्।।

भावार्थ:
एक क्षण भी गँवाए बिना ज्ञान चाहिए और एक-एक कण को बचाकर धन इकट्ठा करना चाहिए। क्षण को खो देने वाले को ज्ञान कहाँ और कण को क्षुद्र समझने वाले के लिए धन कहाँ है?

अजरामरवत् प्राज्ञः विद्यामर्थं च साधयेत्।
गृहीत एव केशेषु मृत्युना धर्ममाचरेत्।।

भावार्थ:
यह समझते हुए कि बुढ़ापा और मृत्यु नहीं आने वाली है, मनुष्य ने ज्ञान और धन प्राप्त कर लिया है; लेकिन मौत ने हमारे बाल पकड़ लिए हैं, इसे समझें और धर्म का पालन करें।

विद्या नाम नरस्य कीर्तिरतुला भाग्यक्षये चाश्रयो
धेनुः कामदुधा रतिश्च विरहे नेत्रं तृतीयं च सा।
सत्कारायतनं कुलस्य महिमा रत्नैर्विना भूषणम्
तस्मादन्यमुपेक्ष्य सर्वविषयं विद्याधिकारं कुरु।।

भावार्थ:
विद्या एक अतुलनीय प्रसिद्धि है; भाग्य नष्ट होने पर आश्रय देती है, कामधेनु है, वियोग में समान है, तीसरी आंख है, आतिथ्य का मंदिर है, परिवार-महिमा है, रत्नों के बिना आभूषण है; इसलिए अन्य सभी विषयों को छोड़कर ज्ञान के अधिकारी बनो।

श्रियः प्रदुग्धे विपदो रुणद्धि यशांसि सूते मलिनं प्रमार्ष्टि।
संस्कारशौचेन परं पुनीते शुद्धा हि वुद्धिः किल कामधेनुः।।

भावार्थ:
संपत्ति संपत्ति को धोखा देती है, संपत्ति संपत्ति है, पैसा दूसरों को धोखा देता है, और वाचा पवित्र होती है।

हर्तृ र्न गोचरं याति दत्ता भवति विस्तृता।
कल्पान्तेऽपि न या नश्येत् किमन्यद्विद्यया विना।।

भावार्थ:
जो चोरों को दिखाई नहीं देता, जो देने से विस्तारित होता है, जो प्रलय के समय भी नष्ट नहीं होता है, ज्ञान के अलावा और क्या पदार्थ हो सकता है?

ज्ञातिभि र्वण्टयते नैव चोरेणापि न नीयते।
दाने नैव क्षयं याति विद्यारत्नं महाधनम्।।

भावार्थ:
ज्ञान का रत्न एक महान धन है, जिसे विद्वान बांट नहीं सकते, जिसे चोर छीन नहीं सकते, और जिसका दान क्षय नहीं होता।

विद्या शस्त्रं च शास्त्रं च द्वे विद्ये प्रतिपत्तये।
आद्या हास्याय वृद्धत्वे द्वितीयाद्रियते सदा।।

भावार्थ:
शस्त्र और विज्ञान विद्या – ये दो प्राप्य विद्याएं हैं। प्रवेश पुराना है, और हमेशा के लिए सदाबहार है।

सर्वद्रव्येषु विद्यैव द्रव्यमाहुरनुत्तमम्।
अहार्यत्वादनर्ध्यत्वादक्षयत्वाच्च सर्वदा।।

भावार्थ:
ज्ञान का सार सभी पदार्थों में सबसे अच्छा है, क्योंकि इसे किसी के द्वारा पराजित नहीं किया जा सकता है; इसका मूल्य नहीं लिया जा सकता, और यह कभी नष्ट नहीं होगा।

विद्या नाम नरस्य रूपमधिकं प्रच्छन्नगुप्तं धनम्
विद्या भोगकरी यशः सुखकरी विद्या गुरूणां गुरुः।
विद्या बन्धुजनो विदेशगमने विद्या परं दैवतम्
विद्या राजसु पूज्यते न हि धनं विद्याविहीनः पशुः।।

भावार्थ:
ज्ञान मनुष्य का विशेष रूप है, यह छिपा हुआ धन है। वह भोग की दाता, यश की दाता और उपकारी है। विद्या गुरुओं की गुरु है, विदेश में वह मनुष्य की भाई है। विद्या महान देवता हैं; राजाओं में ज्ञान की पूजा होती है, धन की नहीं। इसलिए वह बिना शिक्षा वाला जानवर है।

मातेव रक्षति पितेव हिते नियुंक्ते
कान्तेव चापि रमयत्यपनीय खेदम्।
लक्ष्मीं तनोति वितनोति च दिक्षु कीर्तिम्
किं किं न साधयति कल्पलतेव विद्या।।

भावार्थ:
विद्या माता के समान रक्षा करती है, पिता के समान लाभ करती है, पत्नी के समान थकान दूर करती है, मन को प्रसन्न करती है, सौन्दर्य को प्राप्त करती है और चारों दिशाओं में यश फैलाती है। वास्तव में यह विज्ञान कल्पवृक्ष के समान क्या सिद्ध नहीं करता?

सद्विद्या यदि का चिन्ता वराकोदर पूरणे।
शुकोऽप्यशनमाप्नोति रामरामेति च ब्रुवन्।।

भावार्थ:
यदि आपके पास अच्छा ज्ञान है, तो पेट भरने के बारे में चिंता करने का कोई कारण नहीं है। तोते को “राम राम” कहने से भी भोजन मिलता है।

न चोरहार्यं न च राजहार्यं न भ्रातृभाज्यं न च भारकारी।
व्यये कृते वर्धते एव नित्यं विद्याधनं सर्वधन प्रधानम्।।

भावार्थ:
ज्ञान का धन कोई चुरा नहीं सकता, राजा उसे नहीं ले सकता, वह भाइयों में बाँटा नहीं जाता, बोझ नहीं होता, खर्च करने से बढ़ता है। वास्तव में शिक्षा ही धन है।

अपूर्वः कोऽपि कोशोड्यं विद्यते तव भारति।
व्ययतो वृद्धि मायाति क्षयमायाति सञ्चयात्।।

भावार्थ:
हे सरस्वती! आपका खजाना वास्तव में अवर्णनीय है; यह खर्च के साथ बढ़ता है, और संभालने से घटता है।

यह भी पढ़े: सत्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

विद्या पर श्लोक (Shlok in Sanskrit on Vidya)

नास्ति विद्यासमो बन्धुर्नास्ति विद्यासमः सुहृत्।
नास्ति विद्यासमं वित्तं नास्ति विद्यासमं सुखम्।।

भावार्थ:
विद्या जैसा कोई मित्र नहीं है, विद्या जैसा कोई मित्र नहीं है, (और) विद्या के समान कोई धन या सुख नहीं है।

अनेकसंशयोच्छेदि परोक्षार्थस्य दर्शकम्।
सर्वस्य लोचनं शास्त्रं यस्य नास्त्यन्ध एव सः।।

भावार्थ:
जो व्यक्ति अनेक शंकाओं को दूर करता है, परोक्ष वस्तु को दिखाता है, और सभी नेत्रों के शास्त्रों का अध्ययन नहीं किया है, वह आंख होते हुए भी अंधा है।

सुखार्थिनः कुतोविद्या नास्ति विद्यार्थिनः सुखम्।
सुखार्थी वा त्यजेद् विद्यां विद्यार्थी वा त्यजेत् सुखम्।।

भावार्थ:
सुख की इच्छा हो तो दुःख न हो तो ज्ञान कहाँ से प्राप्त होता है? और विद्यार्थी को सुख कहाँ से मिलता है? जो सुख चाहता है उसे सीखने की आशा छोड़ देनी चाहिए और विद्यार्थी सुख भोगता है।

विद्या पर संस्कृत में श्लोक अर्थ सहित:
ज्ञानवानेन सुखवान् ज्ञानवानेव जीवति।
ज्ञानवानेव बलवान् तस्मात् ज्ञानमयो भव।।

भावार्थ:
ज्ञानी सुखी होता है, और ज्ञान हिंदी में मतलब (मीनिंग) होता है, जो ज्ञानी है, इसलिए तुम बुद्धिमान हो जाते हो। वशिष्ठ ने राम को कहा

कुलं छलं धनं चैव रुपं यौवनमेव च।
विद्या राज्यं तपश्च एते चाष्टमदाः स्मृताः।।

भावार्थ:
कुल, छल, धन, रुप, यौवन, विद्या, अधिकार, और तपस्या – ये आठ मद हैं।

सालस्यो गर्वितो निद्रः परहस्तेन लेखकः।
अल्पविद्यो विवादी च षडेते आत्मघातकाः।।

भावार्थ:
आलसी, अभिमानी, बहुत अधिक सोना, अजनबियों के साथ लिखना, थोड़ा सीखना और बहस करना ये छह आत्महत्याएं हैं।

स्वच्छन्दत्वं धनार्थित्वं प्रेमभावोऽथ भोगिता।
अविनीतत्वमालस्यं विद्याविघ्नकराणि षट्।।

भावार्थ:
स्वतन्त्रता, धन का मोह, प्रेम में पड़ना, तल्लीन होना, मोह में पड़ना – ये छह भी शिक्षा प्राप्ति में बाधक हैं।

गीती शीघ्री शिरः कम्पी तथा लिखित पाठकः।
अनर्थज्ञोऽल्पकण्ठश्च षडेते पाठकाधमाः।।

भावार्थ:
गाकर पढ़ना, जल्दी पढ़ना, पढ़ते समय सिर हिलाना, लिखा हुआ पढ़ना, बिना अर्थ जाने पढ़ना और धीमी आवाज में बोलना पाठक के छह दोष हैं।

माधुर्यं अक्षरव्यक्तिः पदच्छेदस्तु सुस्वरः।
धैर्यं लयसमर्थं च षडेते पाठके गुणाः।।

भावार्थ:
माधुर्य, स्पष्ट उच्चारण, मार्ग, मधुर स्वर, धैर्य और तप – ये एक पाठक के छह गुण हैं।

विद्या वितर्को विज्ञानं स्मृतिः तत्परता क्रिया।
यस्यैते षड्गुणास्तस्य नासाध्यमतिवर्तते।।

भावार्थ:
ज्ञान, तर्क, विज्ञान, स्मृति, तत्परता और दक्षता, जिसके पास ये छह हैं, उसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

द्यूतं पुस्तकवाद्ये च नाटकेषु च सक्तिता।
स्त्रियस्तन्द्रा च निन्द्रा च विद्याविघ्नकराणि षट्।।

भावार्थ:
जुआ, वाद्य, नाट्य (कहानी/फिल्म), महिलाओं (या पुरुषों) से लगाव, नींद और नींद – ये सीखने में गड़बड़ी के छह रूप हैं।

आयुः कर्म च विद्या च वित्तं निधनमेव च।
पञ्चैतानि विलिख्यन्ते गर्भस्थस्यैव देहिनः।।

भावार्थ:
आयुष, (स्थिर) कर्म, विद्या (शाखा का), वित्त (गौरव का), और मृत्यु, ये पांचों शरीर के गर्भ में स्थित हैं।

आरोग्य बुद्धि विनयोद्यम शास्त्ररागाः।
आभ्यन्तराः पठन सिद्धिकराः भवन्ति।।

भावार्थ:
स्वास्थ्य, बुद्धि, विनय, उद्यम और शास्त्रों के प्रति प्रेम ये पाँच आंतरिक गुण हैं जो पढ़ने के लिए आवश्यक हैं।

आचार्य पुस्तक निवास सहाय वासो।
बाह्या इमे पठन पञ्चगुणा नराणाम्।।

भावार्थ:
आचार्य, पुस्तक, निवास, मित्र और वस्त्र – ये पाँच बाह्य गुण हैं जो पढ़ने के लिए आवश्यक हैं।

दानानां च समस्तानां चत्वार्येतानि भूतले।
श्रेष्ठानि कन्यागोभूमिविद्या दानानि सर्वदा।।

भावार्थ:
कन्यादान, गोदान, भूमिदान और विद्यादान सभी दानों में सर्वश्रेष्ठ हैं।

तैलाद्रक्षेत् जलाद्रक्षेत् रक्षेत् शिथिल बंधनात्।
मूर्खहस्ते न दातव्यमेवं वदति पुस्तकम्।।

भावार्थ:
पुस्तक कहती है, तेल से मेरी रक्षा करो, जल से मेरी रक्षा करो, मेरे बंधन को ढीला मत होने दो, और मुझे मूर्ख के हाथों में मत डालो।

दानं प्रियवाक्सहितं ज्ञानमगर्वं क्षमान्वितं शौर्यम्।
वित्तं दानसमेतं दुर्लभमेतत् चतुष्टयम्।।

भावार्थ:
प्रेम वचन से दिया हुआ दान, अहंकार रहित ज्ञान, क्षमाशील वीरता और दान की इच्छा से धन-ये चारों दुर्लभ हैं।

अव्याकरणमधीतं भिन्नद्रोण्या तरंगिणी तरणम्।
भेषजमपथ्यसहितं त्रयमिदमकृतं वरं न कृतम्।।

भावार्थ:
बिना व्याकरण के पढ़ना, टूटी हुई नाव से नदी पार करना और अनुपयुक्त आहार के साथ दवा लेना – ऐसा करने से बेहतर है कि इसे न करें।

यथा काष्ठमयो हस्ती यथा चर्ममयो मृगः।
तथा वेदं विना विप्रः त्रयस्ते नामधारकाः।।

भावार्थ:
लकड़ी के हाथी की तरह, और चमड़े से ढके हिरण की तरह, ब्राह्मण जिसने वेदों का अध्ययन नहीं किया है, वह भी केवल एक नामहीन व्यक्ति है।

गुरुशुश्रूषया विद्या पुष्कलेन धनेन वा।
अथवा विद्यया विद्या चतुर्थी नोपलभ्यते।।

भावार्थ:
केवल गुरु की सेवा करके, बहुत सारा पैसा देकर, या सीखने के बदले में, यह ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है; ज्ञान प्राप्त करने का कोई चौथा तरीका नहीं है।

विद्याभ्यास स्तपो ज्ञानमिन्द्रियाणां च संयमः।
अहिंसा गुरुसेवा च निःश्रेयसकरं परम्।।

भावार्थ:
विद्या, तप, ज्ञान, इन्द्रिय-संयम, अहिंसा और गुरुसेवा-ये परम कल्याण हैं।

पठतो नास्ति मूर्खत्वं अपनो नास्ति पातकम्।
मौनिनः कलहो नास्ति न भयं चास्ति जाग्रतः।।

भावार्थ:
पाठक मूर्ख नहीं है; जप करने वाले को बुरा नहीं लगता; जो चुप रहता है वह झगड़ा नहीं करता; और जो जाग रहा है उसे कोई भय नहीं है।

विद्या पर संस्कृत में श्लोक (Vidya Shlok in Sanskrit)

अर्थातुराणां न सुखं न निद्रा कामातुराणां न भयं न लज्जा।
विद्यातुराणां न सुखं न निद्रा क्षुधातुराणां न रुचि न बेला।।

भावार्थ:
यानानूर को सुख और नींद नहीं आती; कामतुर को कोई डर और शर्म नहीं है। विद्यातुर के पास रुचि और समय की कोई भावना नहीं है और भूख से पीड़ित व्यक्ति को रुचि या समय की कोई भावना नहीं है।

अनालस्यं ब्रह्मचर्यं शीलं गुरुजनादरः।
स्वावलम्बः दृढाभ्यासः षडेते छात्र सद्गुणाः।।

भावार्थ:
उदासीनता, ब्रह्मचर्य, विनय, शिक्षकों के प्रति सम्मान, आत्मनिर्भरता और दृढ़ अभ्यास – ये एक छात्र के छह गुण हैं।

अलसस्य कुतो विद्या अविद्यस्य कुतो धनम्।
अधनस्य कुतो मित्रममित्रस्य कुतः सुखम्।।

भावार्थ:
आलसी के लिए ज्ञान कहाँ है? अशिक्षितों के लिए पैसा कहां है? कहाँ है ग़रीब का दोस्त? और मित्रहीन के लिए सुख कहाँ है?

पुस्तकस्या तु या विद्या परहस्तगतं धनं।
कार्यकाले समुत्पन्ने न सा विद्या न तद्धनम्।।

भावार्थ:
दूसरों को दी किताबें और पैसा! जब सही समय आता है तो ऐसी कोई शिक्षा नहीं होती है और न ही धन होता है, यानी वे काम नहीं करते हैं।

दुर्जन:परिहर्तव्यो विद्यालंकृतो सन।
मणिना भूषितो सर्प:किमसौ न भयंकर:।।

भावार्थ:
दुष्ट व्यक्ति भले ही ज्ञान से सुशोभित हो अर्थात् विद्वान भी हो, उसे त्याग देना चाहिए। रत्नों से सुशोभित सर्प की तरह क्या भयानक नहीं है?

यस्य नास्ति स्वयं प्रज्ञा, शास्त्रं तस्य करोति किं।
लोचनाभ्याम विहीनस्य, दर्पण: किं करिष्यति।।

भावार्थ:
जिस व्यक्ति के पास अपनी (प्रज्ञा) अंतरात्मा नहीं है, उसके शास्त्रों का क्या फायदा, जैसे कि दर्पण अंधे व्यक्ति के लिए बेकार है।

अभिवादनशीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविन:।
चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशोबलं।।

भावार्थ:
जो व्यक्ति बड़ों का सम्मान करता है और नियमित रूप से बड़ों की सेवा करता है, उसकी आयु, ज्ञान, प्रसिद्धि और शक्ति में चार चीजें बढ़ती हैं।

हस्तस्य भूषणम दानम, सत्यं कंठस्य भूषणं।
श्रोतस्य भूषणं शास्त्रम, भूषनै:किं प्रयोजनम।।

भावार्थ:
हाथ का आभूषण (गहना) दान है, गले का आभूषण सत्य है, कान की सुंदरता शास्त्रों को सुनने से है, अन्य आभूषणों की क्या आवश्यकता है।

ज्ञातिभिर्वण्टयते नैव चोरेणापि न नीयते।
दाने नैव क्षयं याति विद्यारत्नं महाधनम्।।

भावार्थ:
ज्ञान का रत्न (ज्ञान) एक महान धन है, जिसे विभाजित नहीं किया जा सकता है, जिसे चोर चोरी नहीं कर सकता, और जिसे देने से कम नहीं होता है।

श्रियः प्रदुग्धे विपदो रुणद्धि यशांसि सूते मलिनं प्रमार्टि।।
संस्कारशौचेन परं पुनीते शुद्धा हि वुद्धिः किल कामधेनुः।।

भावार्थ:
विद्या वास्तव में कामधेनु है, क्योंकि यह धन का पोषण करती है, विपत्ति (परेशानी) को रोकती है, प्रसिद्धि (प्रसिद्धि) लाती है, गंदगी (गरीबी) को धोती है, दूसरों को संस्कार रूप से पवित्र करती है।

माता शत्रुः पिता वैरी येन बालों ने पाठितः।।
न शोभते सभामध्ये हंसमध्ये बको यथा।।

भावार्थ:
जो माता-पिता अपने बच्चों को शिक्षित नहीं करते हैं, माता शत्रु के समान होती है और पिता शत्रु के समान, ऐसा व्यक्ति हंसी के बीच बगुले की तरह विद्वानों के जमावड़े को नहीं शोभा पाता है।

विद्या नाम नरस्य रूपमधिकं प्रच्छन्नगुप्तं धनम्।
विद्या भोगकरी यशः सुखकरी विद्या गुरूणां गुरुः।
विद्या बन्धुजनो विदेशगमने विद्या परं दैवतम्।
विद्या राजसु पुज्यते न हि धनं विद्याविहीनः पशुः।।

भावार्थ:
विद्या मनुष्य का विशेष रूप है, विद्या गुप्त धन है। वह भोग की दाता, यश की दाता और उपकारी है। विद्या गुरुओं की गुरु है विद्या विदेश में भाई है। ज्ञान एक महान देवता है, राजाओं में ज्ञान की पूजा होती है, धन की नहीं, बिना शिक्षा वाला व्यक्ति पशु है।

विद्या वितर्का विज्ञानं स्मति: तत्परता किया।
यस्यैते षड्गुणास्तस्य नासाध्यमतिवर्तते।।

भावार्थ:
ज्ञान, तर्क, विज्ञान, स्मृति, तत्परता और दक्षता, जिसके पास ये छह हैं, उसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

5 Slokas on Vidya in Sanskrit with Hindi Meaning

दुयतं पुस्तकवाद्ये च नाटकेषु च सक्तिता।।
स्त्रियस्तन्द्रा च निन्द्रा च विद्याविघ्नकराणि षट्।।

भावार्थ:
खेल में अष्टक, वाडो, नाट्य (बाधा), (पुरुष), तंद्रा और निंद्रा – येंद्र शास्त्री में।

विद्या वितर्का विज्ञानं स्मति: तत्परता किया।
यस्यैते षड्गुणास्तस्य नासाध्यमतिवर्तते।।

भावार्थ:
ज्ञान, तर्क शक्ति, विज्ञान, स्मृति शक्ति, तत्परता और दक्षता, जिसके पास ये छह हैं, उसके लिए कुछ भी लाइलाज नहीं है।

दुयतं पुस्तकवाद्ये च नाटकेषु च सक्तिता।।
स्त्रियस्तन्द्रा च निन्द्रा च विद्याविघ्नकराणि षट्।।

भावार्थ:
जुआ, वाद्य, नाट्य (फिल्म), स्त्री (या पुरुष) से लगाव, नींद और नींद – ये छह बाधाएं हैं।

तैलाद्रक्षेत् जलाद्रक्षेत्रक्षेत् शिथिल बंधनात्।
मूर्खहस्ते न दातव्यमेवं वदति पुस्तकम्।।

भावार्थ:
पुस्तक कहती है, तेल से मेरी रक्षा करो, जल से मेरी रक्षा करो, मेरे बंधन को ढीला मत होने दो, और मुझे मूर्ख के हाथों में मत डालो।

दानानां च समस्तानां चत्वार्यतानि भूतले।
श्रेष्ठानि कन्यागोभूमिविद्या दानानि सर्वदा।।

भावार्थ:
कन्यादान, गोदान, भूमिदान और विद्यादान सभी दानों में सर्वश्रेष्ठ हैं।

यह भी पढ़े

सफलता पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

स्वास्थ्य पर संस्कृत श्लोक हिंदी अर्थ सहित

संस्कृत सुभाषितानि हिंदी अर्थ सहित

श्री राम के सरल मंत्र हिंदी अर्थ सहित

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here