नारी पर संस्कृत श्लोक

Sanskrit Sloka on Nari Shakti With Hindi Meaning

Sanskrit Sloka on Nari Shakti With Hindi Meaning
Image: Sanskrit Sloka on Nari Shakti With Hindi Meaning

नारी पर संस्कृत श्लोक | Sanskrit Sloka on Nari Shakti With Hindi Meaning

माता गुरुतरा भूमेरू।
भावार्थ:
माँ इस धरती से बहुत भारी है।

नारी माता अस्ति नारी कन्या अस्ति नारी भगिनी अस्ति
भावार्थ:
नारी ही माँ है, नारी ही पुत्री है, नारी ही बहन है, नारी ही सब कुछ है।

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गदपि गरीयसी।
भावार्थ:
माता और जन्म स्थान आकाश से भी बड़े हैं।

नारी पर श्लोक (sanskrit slokas on nari)

नारी अस्य समाजस्य कुशलवास्तुकारा अस्ति।
भावार्थ:
महिलाएं समाज की आदर्श शिल्पकार होती हैं।

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:।
यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफला: क्रिया:।

भावार्थ:
जिस परिवार में स्त्री की पूजा की जाती है, अर्थात् दैवीय गुण, दैवीय सुख और उत्तम संतान होती है और जिस परिवार में स्त्री की पूजा नहीं होती है, वह जानता है कि उसके सभी कार्य निष्फल हैं।

नास्ति मातृसमा छाया, नास्ति मातृसमा गतिः।
नास्ति मातृसमं त्राण, नास्ति मातृसमा प्रिया।।

भावार्थ:
माँ के समान कोई छाया नहीं, माँ के समान कोई सहारा नहीं। माँ के समान कोई रक्षक नहीं है और माँ के समान कोई प्रिय वस्तु नहीं है।

स्वर्ग से भी श्रेष्ठ जननी जन्मभूमि कही गई।
सेवनिया है सभी को वहा महा महिमामयी।।

भावार्थ:
कहा जाता है कि माता और पितृभूमि स्वर्ग से भी श्रेष्ठ है। सभी लोगों को इस महान और राजसी माता और जन्मस्थान की सेवा करनी चाहिए।

अथ शिक्षा प्रवक्ष्यामः
मातृमान् पितृमानाचार्यवान पुरूषो वेदः।

भावार्थ:
जब तीन सर्वश्रेष्ठ शिक्षक होंगे, अर्थात् एक माँ, दूसरा पिता और तीसरा शिक्षक, केवल मनुष्य के पास ज्ञान होगा।

रजतिम ओ गुरु तिय मित्रतियाहू जान।
निज माता और सासु ये, पाँचों मातृ समान।।

भावार्थ:
अर्थात, जिस प्रकार संसार में पाँच प्रकार के पिता होते हैं, उसी प्रकार पाँच प्रकार की माँ होती हैं। जैसे, राजा की पत्नी, गुरु की पत्नी, मित्र की पत्नी, अपनी स्त्री की माता और अपनी मूल जननी माता।

sanskrit slokas on women

मातृवत् परदारेषु य: पश्यति स: एव पंडित
भावार्थ:
वह जो अन्य स्त्री को माँ के रूप में देखता है, वह वास्तव में महान है।

अथ शिक्षा प्रवक्ष्यामः
मातृमान् पितृमानाचार्यवान पुरूषो वेदः।

भावार्थ:
जब तीन उत्तम शिक्षक अर्थात एक माता, दूसरा पिता और तीसरा आचार्य हो तो तभी मनुष्य ज्ञानवान होगा।

नारी राष्ट्रस्य अक्शि अस्ति
भावार्थ:
महिलाएं देश की आंख होती हैं।

माँ’ के गुणों का उल्लेख करते हुए आगे कहा गया है
‘प्रशस्ता धार्मिकी विदुषी माता विद्यते यस्य स मातृमान।

भावार्थ:
धन्य है वह माता जो गर्भाधान से लेकर पूर्ण विद्या प्राप्ति तक भलाई का उपदेश देती है।

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता
भावार्थ:
जहां नारी की पूजा होती है वहां देवता प्रसन्न होते हैं।

यह भी पढ़े

परिश्रम पर संस्कृत में श्लोक

परिवार पर संस्कृत श्लोक

ज़िन्दगी से जुड़े संस्कृत श्लोक

सुंदरता पर संस्कृत श्लोक

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here