मेरा सपना पर निबंध

Mera Sapna Essay in Hindi: इस दुनिया में हर किसी के पास अपना एक सपना है। किसी के पास एक सपना तो किसी के पास सपनों का सागर होता है। हर कोई अपने सपने को पूरा करना चाहता है और खुद के सपने को पूरा करना भी चाहिए। जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारे सपने भी बढ़ते जाते हैं।

जब हम छोटे होते थे तो हमारे सपने कुछ खिलौने पाने तक ही सिमित हो जाते थे। लेकिन जैसे-जैसे हमारी उम्र और समझ बढ़ती जाती है वैसे-वैसे हमें अपने जीवन की अहमियत का पता चलता है और जीवन में कुछ करने का सपने देखने लगते हैं।

सपना वो नहीं जो हम सोते हुए नींद में देखते हैं। सपने का अर्थ या फिर सपने का मतलब तो वो होता है जो हम अपनी खुली आखों से देखकर उसे पाने की चाहत रखते है। हर किसी का सपना होता है कि वह अपनी लाइफ में सक्सेस हो। वह कुछ ऐसा करें, जिससे उसे पूरी दुनिया याद रखे। एक छोटा-सा सपना हमें कहां से कहां पहुंचा सकता है। हम उसकी उम्मीद भी नहीं कर सकते।

हमें अपने जीवन में कुछ पाने के लिए लक्ष्य तय करना होता है। लक्ष्य के बिना हम कुछ भी हासिल नहीं कर सकते और लक्ष्य तब ही तय होता है जब हम सपने देखते हैं। यदि आपने जीवन में सफ़ल होने का एक सपना देखा है तो उसे एक लक्ष्य के रूप से देखो कि आपको इसे किसी भी हालत में हासिल करना ही है। तभी आप अपने जीवन में कुछ पा सकते हैं।

आप सपने देखने के साथ ही अपने बच्चो को भी यही सिखाएं कि वो भी सपने देखें और ऐसे सपने देखें जो आपने को बेहतर बना सके और आप उन सपनों से सफ़ल जीवन का आनंद ले सके। आज हम यहां परीक्षा में पूछे जाने वाले निबन्ध मेरा सपना (Mera Sapna Nibandh) के बारे में बता रहे हैं।

यह भी पढ़े: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

विषय सूची

मेरा सपना पर निबंध (Mera Sapna Essay in Hindi)

यहाँ पर मेरा सपना निबंध हिंदी में शेयर कर रहे हैं। यहाँ पर अलग-अलग शब्द सीमा में निबंध लिखे है, जिससे हर कक्षा के विद्यार्थियों को मदद मिलेगी।

मेरा सपना हिंदी निबंध 100 शब्दों में (My Dream Essay 100 Words)

किसी ने सही ही कहा है कि यदि हम अपनी हार होने पर भी अपने सपने को पाने की जिद्द को कायम रखते हैं तो हमें अपने जीवन में कामयाब होने से कोई रोक नहीं सकता। मैंने भी अपने जीवन में कुछ करने का सपना देखा है।

हालांकि मैं अभी अपने भविष्य का निर्णय लेने में पूरी तरह से समर्थ नहीं हूं। फिर भी मैं अपने जीवन में कुछ ऐसा करना चाहता हूं कि उससे सभी का फायदा हो। आज के समय में हमारे देश में हर तरह की समस्या बढ़ रही है चाहे वो भ्रष्टाचार हो या फिर गरीबी। मेरा एक ही सपना है कि मैं इन समस्याओं को दूर करने में अपनी विशेष भूमिका रखूं।

मेरे सपने पर निबंध 150 शब्दों (My Dream Essay 150 Words)

जीवन में हर व्यक्ति का कुछ ना कुछ सपना होता है। सपना तो हर कोई देख लेता है लेकिन उस सपने को पूरा करने की क्षमता हर किसी में नहीं होती है। अपने सपने को पूरा वही कर सकता है, जो अपने सपने को पूरा करने के लिए पूरी तरीके से समर्पित हो जाए।

बचपन में हम बहुत सारे सपने देखते हैं कि आगे चलकर हम यह बनेंगे वह बनेंगे लेकिन धीरे-धीरे उम्र बढ़ने के साथ हमारी समझ बढती है और हमें एहसास होता है कि यदि सपने को पूरा करना है तो हमें एक लक्ष्य बनाना पड़ेगा और उसी लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करके आगे बढ़ना पड़ेगा।

मेरा भी बचपन से ही सपना रहा है कि मैं जीवन में एक सफल इंसान बनू। हालांकि बचपन में मैं यह निश्चय नहीं कर सका कि आगे चलकर मुझे क्या बनना है। जिस चीज में मुझे रुचि आती थी, मैं उसी क्षेत्र में अपना करियर बनाने का सोच लेता था। लेकिन धीरे-धीरे उम्र बढ़ने के साथ मुझे एहसास हुआ कि मुझे एक निश्चित लक्ष्य को चूनने की जरूरत है और उसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए लगातार मेहनत करना होगा।

अंत: मैंने निश्चित किया कि मुझे एक अध्यापक बनना है ताकि मैं गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा देकर उन्हें एक अच्छा नागरिक बनाने में अपनी भूमिका निभा सकूं। मैं अपने सपने को पूरा करने के लिए लगातार मेहनत भी कर रहा हूं। मुझे उम्मीद है कि यदि मैं कड़ी मेहनत करूंगा तो 1 दिन में जरूर अच्छा टीचर बन पाऊंगा।

My Dream Essay in Hindi
मेरा सपना पर 150 शब्दों में निबंध

मेरे जीवन का सपना पर निबंध 200 शब्दों में (My Dream Essay 200 Words)

यदि हमें अपने जीवन में कुछ करना है तो सपने देखना बहुत ही जरूरी है। भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम भी सभी बच्चों से ये ही कहते थे कि “अपने जीवन में बड़े सपने देखों और बड़े व्यक्ति बनो।” मेरा सपना भी है कि मैं एक डॉक्टर बनूं। इस सपने को मैंने अपने अध्यापक जी को बताया और इसके लिए उनसे सलाह मांगी।

मेरे अध्यापक जी ने मुझे इसके बारे में पूरी जानकारी दी कि मैं एक सफ़ल डॉक्टर कैसे बनू। उन्होंने मुझे डॉक्टर के महत्व के बारे में विस्तार से बताया और कहा कि आज के समय में देश में बहुत बीमारियां बढ़ रही है। इस समस्या को रोकने के लिए देश को अच्छे डॉक्टरों की बहुत ही ज्यादा जरूरत है।

अध्यापक जी ने ये भी बताया कि मुझे डॉक्टर बनने के लिए जीवविज्ञान का चयन करना होगा और अच्छे अंको के साथ पास भी होना होगा। मुझे सिर्फ मेरा सपना ही दिखाई दे रहा था कि डॉक्टर बनना है। आज मैं हर वो जानकारी जानने की कोशिश करता हूं, जो एक डॉक्टर के पास होनी चाहिए।

आज मैं अपने सपने को पूरा करने की हर संभव कोशिश करता हूं और एक डॉक्टर बनने का सपना रखता हूं। मुझे पूरा विश्वास है कि मैं अपने जीवन में कठिन परिश्रम करके अपने सपने को पूरा करूंगा।

मेरा सपना डॉक्टर पर निबंध 250 शब्दों में (My Dream Essay in Hindi)

हर कोई बचपन से कुछ ना कुछ बनना चाहता है। कोई इंजीनियर बनना चाहता है तो कोई वकील बनना चाहता है, कोई टीचर बनना चाहता है तो कोई गायक बनना चाहता है। कुछ बनने की इच्छा हर एक व्यक्ति में होती है लेकिन कुछ लोग ही अपने सपने को पूरे कर पाते हैं।

कुछ लोग मात्र सपना देखते हैं लेकिन उसे पूरा करने की मेहनत नहीं करते । कुछ लोग अपनी गरीबी के कारण अपने सपने पूरे नहीं कर पाते हैं। मेरा भी एक सपना है कि मैं डॉक्टर बनू। हर कोई किसी उद्देश्य से ही सपना देखता है। मेरा भी डॉक्टर बनने का उद्देश्य है कि मैं गरीब और निस्सहाय लोगों को मुफ्त में अच्छा इलाज दे सकूं।

आज के समय में दवाइयों के दाम बहुत ज्यादा बढ़ चुके हैं। इलाज का भी बहुत ज्यादा पैसा लगता है। जिस कारण बहुत से लोग भयंकर बीमारियों से ग्रसित होने के बावजूद भी इलाज नहीं करवा पाते हैं और अपनी उसी बीमारी के कारण मर जाते हैं। लेकिन मैं चाहता हूं कि मैं डॉक्टर बनके उन तमाम लोगों की सेवा करूं, जो पैसे के अभाव के कारण अपना इलाज नहीं करवा पा रहे हैं।

मैं लोगों को कम कीमत पर अच्छी इलाज देने की कोशिश करूंगा। इतना ही नहीं मैं चाहता हूं कि डॉक्टर बनने के बाद में अपना क्लीनिक गांव में ही शुरू करूं। क्योंकि ज्यादातर गांव में अच्छे अस्पताल नहीं होते हैं और वहां के लोगों को इलाज करवाने के लिए शहर जाना पड़ता है।

मैं डॉक्टर बनकर लोगों को गांव में ही इलाज की सुविधा देना चाहता हूं ताकि लोगों को इलाज करवाने के लिए दूर शहर के धक्के ना खाने पड़े। मुझे पता है कि सपने देख लेने से पूरे नहीं हो जाते हैं। सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की जरूरत पड़ती है। इसीलिए हर दिन में मन लगाकर पढ़ता हूं ताकि मैं अपने सपने को पूरा कर सकूं।

मेरे सपनों का करियर पर निबंध 350 शब्दों में (Essay on My Dream in Hindi)

बिना सपने के जीवन का कोई अर्थ नहीं है। कोई व्यक्ति अपने सपने को हकीकत में बदल सके या ना सके लेकिन सपने तो हर कोई देखता है क्योंकि सपने देखने का अधिकार हर किसी को है। सपने दो तरह के होते हैं एक तो नींद में देखा गया सपना, जो आंख खोलने के बाद एक सपना ही रह जाता है। दूसरा वह सपना जो व्यक्ति को सोने नहीं देता है। उस सपने को हकीकत करने के लिए वह व्यक्ति कुछ भी करने को तैयार हो जाता है।

जब हम बचपन में विद्यालय में पढ़ा करते थे तब अक्सर हमसे हर कोई यही पूछता था कि हम बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं हमारा सपना क्या है? उस समय तो मैं अक्सर जोश में आकर कभी बोल देता था कि इंजीनियर बनूंगा तो कभी बोल देता था कि पुलिस बनूंगा। टेलीविजन में जो देखता था, लगता था वही बनूंगा।

हालांकि उस समय इतनी समझ नहीं थी लेकिन धीरे-धीरे समझ में आया कि बिना सपने के तो जीवन का कोई अर्थ नहीं है। आज हम अध्ययन करके ज्ञान तो अर्जित कर रहे हैं लेकिन यह ज्ञान तब तक सफल नहीं होगा जब तक हम जीवन में एक अच्छे मुकाम पर नहीं होंगें।

जीवन में सपने व्यक्ति अपने कुशलता के हिसाब से देखता है। यदि कोई व्यक्ति गाने में माहिर है तो वह गायक बनना चाहता है, कोई नृत्य करने में माहिर है तो वह नृत्य कार बनना चाहता है। वही कोई कविता लिखने में माहिर है तो वह कवि बनना चाहता है।

हालांकि भले ही मैंने बचपन से कई सारी चीजें बनने के सपने देखे थे। लेकिन, जब मुझे एहसास हुआ कि जीवन में बिना लक्ष्य के जीवन का कोई अर्थ नहीं तब मैंने भी एक निश्चित लक्ष्य निर्धारित किया और आज उस लक्ष्य को प्राप्त करना मेरा सपना बन चुका है। मेरे जीवन में एक ही मकसद है वह है, मेरा लक्ष्य प्राप्त करना। क्योंकि उस लक्ष्य के अतिरिक्त मुझे और कुछ भी नहीं सुझता है और मुझे पता है कि उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मुझे बहुत मेहनत करने पड़ेंगे।

मेरे लक्ष्य तक पहुंचने की राह पर हो सकता है बहुत सी बाधाएं भी आएगी। लेकिन जीवन में ऐसा कोई भी सफल व्यक्ति नहीं हुआ, जिसके लक्ष्य के राह पर बाधाएं ना आए हो। लेकिन जो उन बाधाओं का सामना करते हुए सतत अपने राह पर चलते रहता है, वही एक समय अपने लक्ष्य को प्राप्त कर पाता है।

इसीलिए मैं अक्सर अपने आपको प्रेरित करने की कोशिश करते रहता हूं ताकि कोई भी बाधाएं मुझे कमजोर ना कर सके और मैं अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सतत मेहनत कर सकूं।

मेरा एक अनोखा सपना निबंध हिंदी 500 शब्दों में

प्रस्तावना

सपने से बहुत सारे होते हैं। उनसे ऐसा सपना जिसे पूरा करने के लिए आप पूरी तरीके से समर्पित हो जाओ, वही तो एक अनोखा सपना होता है। अन्य लोगों की तरह मेरा भी एक अनोखा सपना है मैं एक आईएएस अधिकारी बनना चाहता है। बचपन से ही मैं समाज में सुधार लाने की इच्छा रखता था।

जब भी मैं समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार, समाज में व्याप्त कई प्रकार की कुरितियां एवं महिलाओं एंव गरीबों के ऊपर हो रहे शोषण के बारे में खबरों में सुनता था तो मुझे बहुत दुख होता था। हमेशा ही में सोचता था कि काश मेरे पास इतनी शक्ति होती कि मैं निस्सहाय लोगों की मदद कर सकता, काश में गरीबों को भी सपने देखने के पंख दे पाता, औरतों को जागृत कर पाता जो अपने आपको कमजोर समझते हैं और समाज की कुरीतियों के सामने घुटने टेक देती हैं।

बाद में मुझे पता चला कि एक आईएएस अधिकारी के पास ये तमाम शक्तियां होती है, जिससे वे समाज के विकास में अपना पूरा योगदान दे सकते हैं। मुझे पता है कि इस सपने को पूरा करने के लिए मुझे बहुत मेहनत करना होगा क्योंकि आईएएस अधिकारी बनने के लिए भारत के बहुत कठिन परीक्षा यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन से गुजरना पड़ता है, जिसके लिए हर साल लाखों बच्चे आवेदन करते हैं लेकिन केवल उनमें हजारों बच्चे ही चयनित हो पाते हैं।

आईएएस अधिकारी बनने की प्रेरणा मुझे किनसे मिली?

हर व्यक्ति जो आज जीवन में एक अच्छे मुकाम पर है या अच्छे मुकाम पर होना चाहता है, उस मुकाम तक पहुंचने का सपना देखने के लिए वह किसी न किसी व्यक्ति से जरूर प्रेरित हुआ होता है। मैं एक आईएएस अधिकारी बनना चाहता हूं, इसकी प्रेरणा भी मुझे किसी दूसरे आईएएस अधिकारी से ही मिली है।

सातवीं कक्षा में था, उस समय हमारे विद्यालय में बच्चों को प्रेरित करने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जिसमें मुख्य अतिथि उसी क्षेत्र के एक आईएएस अधिकारी थे। हालांकि हमें तो पता था कि इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एक आईएएस अधिकारी है लेकिन मुझे आईएएस अधिकारी के बारे में उस समय कुछ भी जानकारी नहीं थी कि आईएएस अधिकारी क्या होता है, उनके कर्तव्य क्या होते हैं।

बचपन से ही बस में डॉक्टर, इंजीनियर, पोलिस यही सब के बारे में सुनता था। इसलिए इससे पहले मैं कभी डॉक्टर तो कभी इंजीनियर बनने का सपना देख लिया था। लेकिन मेरा यह सपना तब बदल गया जब मैंने आईएएस अधिकारी को देखा।

एक बड़ी सी कार में आईएएस अधिकारी के कारण का दरवाजा खोला गया और कार से उतर कर स्टेज की ओर बढ़ने लगे, उनके आगे और पीछे कॉन्स्टेबल भी थे। आईएएस अधिकारी को देखते ही मानो सभी की सांसें थम गई थी। उनको दिए जा रहे सम्मान को देख मुझे भी उनकी तरह बनने की इच्छा मन में आई।

वे खड़े हुए और आईएएस बनने की अपनी सफर के बारे में हमें बताया। उनकी सफलता की इस कहानी को सुनकर मुझे उनसे काफी प्रेरणा मिली। लेकिन, मुझे तब तक नहीं पता था कि आईएएस बनने के लिए मुझे क्या करना होगा। लेकिन मैंने ठान लिया था कि मुझे बनना तो आईएएस अधिकारी ही है।

जैसे ही कार्यक्रम खत्म हुआ मैं सीधे अपने घर पर आया और रात भर यही सोचता रहा कि मैं आईएएस अधिकारी कैसे बन सकता हूं। उस समय मेरे पास स्मार्टफोन नहीं था और ना ही इंटरनेट थी। इसीलिए दूसरे दिन विद्यालय जाने के बाद सबसे पहले तो मैं अपने कंप्यूटर के अध्यापक से मिला और उनसे उनके बारे में पूछा।

उन्होंने मुझे कंप्यूटर में इसकी जानकारी इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त करने की सलाह दी। उस समय मैंने इंटरनेट पर आईएएस अधिकारी बनने की पूरी प्रक्रिया के बारे में जाना और उसी समय से ठान लिया कि मुझे आगे भविष्य में आईएएस अधिकारी ही बनना है, जिसकी शुरूआत मुझे आज से ही करनी है।

आईएएस अधिकारी के कर्तव्य

एक आईएएस अधिकारी के कर्तव्य बहुत ही कठिन होते हैं। क्योंकि उन्हें बहुत सारे जिम्मेदारियों को निभाना होता है। मात्र आईएएस अधिकारी बनना ही बड़ी बात नहीं होता है, जिम्मेदारियों को अच्छी तरीके से वहन करना भी आना चाहिए और जरूरी नहीं इसके लिए हर कोई सक्षम हो।

एक आईएएस अधिकारी को समाज के सुधार और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना होता है। समाज के सुधार में और विकास में नए नियम भी बना सकते हैं। उनके पास शक्ति होता है कि वे गरीबों की मदद कर सकते हैं, गरीबों के बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने में मदद कर सकते हैं, गरीबों को अच्छी इलाज दिलाने में मदद कर सकते हैं।

यूं कहें कि एक आईएएस अधिकारी के पास इतनी शक्ति है कि वे एक गरीब की जिंदगी को सुधार सकते हैं। मैं एक आईएएस अधिकारी के कर्तव्य से बहुत ज्यादा प्रभावित हुआ हूं और मैं भी चाहता हूं कि आईएएस अधिकारी बनकर मैं अपने देश और समाज के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाऊं।

निष्कर्ष

सपने चाहे छोटे हो या बड़े सपने को पूरा करने के लिए यदि लगातार कड़ी मेहनत की जाए तो एक दिन सपने जरूर पूरे होते हैं। बस हर किसी को यह ध्यान रखना चाहिए कि सपने बंद आंखों से नहीं खुली आंखों से देखने चाहिए और सपने ऐसे होने चाहिए जो सोने ना दें।

जब सपने को पूरा करना आपकी जरूरत बन जाती है तो उसे पूरा करने के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं। भले ही आपको कई रातो तक जागना पड़ेगा लेकिन आप उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए और कड़ी मेहनत करते हैं और जो कड़ी मेहनत करता है, उसकी मेहनत कभी भी निसफल नहीं जाती हैं। क्योंकि कल करे सो आज कर आज करे सो अब पल में प्रलय होएगी बहुरि करेगा कब।

मेरा जीवन स्वप्न पर निबंध 600 शब्दों में (Mere Jeevan ka Sapna Essay in Hindi)

प्रस्तावना

हम जिससे भी मिलते हैं, सबसे पहले हमसे यही पूछा जाता है कि कौनसी क्लास में पढ़ते हो और इसके बाद आप क्या करना चाहते हो या फिर क्या बनना चाहते हो। अपने जीवन में हर कोई सफ़ल होना चाहता है। हर किसी का सपना होता है कि वह बड़ा आदमी बने और एक सफ़ल जीवन जीये।

सपने के प्रति प्रेरित रहना – Motivate रहें

जब भी हम किसी काम को करते हैं तो उसके लिए हमें मोटिवेट रहना बहुत ही जरूरी है। बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जिनके सामने थोड़ी सी कोई समस्या आती है तो वह थक जाते हैं और उदास हो जाते हैं। फिर उनके मन में ये ही विचार आता रहता है कि “मैं ये नहीं कर सकता।”

उस समय आपको सिर्फ अपने सपने पर ही फोकस करना है उदास नहीं होना है। क्योंकि आप सपने देख सकते हैं तो उसे हासिल भी कर सकते हैं। ये आपको खुद को याद दिलाना होगा कि मैं कर सकता हूं और पुनः कोशिश करें। आप एक दिन जरूर अपने सपने को हासिल करने में कामयाब होंगे।

महत्वपूर्ण काम नहीं भूलें

कई लोग अपने सपने पूरे करने के लिए इतनी पढ़ाई करते हैं कि वह बाकि के कार्यों को इतना महत्व नहीं देते जैसे समय पर मनोरंजन, खेलना, टहलना आदि। हमें अपने जीवन में कुछ हासिल करने के लिए पढाई तो करनी ही पड़ेगी। लेकिन इसके साथ ही हमें वो सब भी काम करना जरूरी है, जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए जरूर हो।

आप ये तय कर लें कि मैं इतना पढ़कर ही खेलने जाऊंगा, इतने घंटे पढ़ाई के बाद ही मोबाइल का उपयोग करूंगा। क्योंकि इन सभी का हमारे जीवन के विकास के लिए बहुत योगदान है। निश्चित समय के लिए खेल खेलें, निश्चित समय टीवी देखें, निश्चित समय के लिए मोबाइल प्रयोग करें और भी ऐसे ही काम के लिए समय निश्चित कर लें। शिक्षा के महत्व को ध्यान में रखते हुए इन सभी का प्रयोग करें। क्योंकि ये हमारे लिए सबकुछ नहीं है।

सकारात्मक वातावरण में रहे

आप हमेशा ऐसे ही लोगों के साथ रहे, जो आपको एक सकारात्मक सोच देते हो, जिनसे आपको कुछ सीखने के लिए मिलता हो। ऐसे लोगों से आपको अपने सपने पूरे करने में बहुत मदद मिलेगी और आपको हमेशा मोटिवेशन मिलता रहेगा।

आप ऐसे लोगों से दूरी बनाएं रखे जिनमें नकारात्मकता भरी हो। क्योंकि वे लोग हमेशा आपको Demotivate ही करेंगे। आप जो भी काम करेंगे ये लोग आपको उसके बारे में बुरा ही कहेंगे।

खुद से सीखें

असफ़लता हमारे जीवन का एक हिस्सा है। यदि हमारे जीवन में असफलता नहीं होगी तो हम कभी सफ़लता का महत्व जान ही नहीं पाएंगे। कई बार हम अपने काम में अपनी ही गलतियों से सफ़ल नहीं हो पाते है और वही पर हार मान लेते हैं।

हमें हार नहीं मान कर उन गलतियों से सबक लेना चाहिए और उन्हीं गलितयों को सुधार कर वापस कोशिश करनी चाहिए। ऐसा करने से आपको निश्चित ही दुगुनी सफ़लता हासिल होगी।

उपसंहार

आपको अपने सपने को हासिल करने के लिए आप निरंतर प्रयत्न करना चाहिए। इस रास्ते में आपको कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ेगा और कई मुश्किलें आपका रास्ता रोकेगी। इन्हीं का सामना करते हुए आपको अपने सपने को हासिल करने के लिए अटल रहना होगा। अपने सपने को हकीकत में बदलने के लिए हर वो संभव प्रयत्न करें जो आप कर सकते हैं। जरूर एक दिन मेरे सपनो की दुनिया का सपना आपके पैरों में होगा।

अंतिम शब्द

यहाँ पर हमने मेरा सपने पर निबंध शेयर किये है। उम्मीद करते हैं आपको पसंद आये होंगे, इन्हें आगे शेयर जरुर करें। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं।

यह भी पढ़े

समय का सदुपयोग पर निबंध

मेरी प्रिय पुस्तक पर निबंध

नशे के दुष्प्रभाव पर निबंध

नशा और युवा वर्ग पर निबंध

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here