कूप मंडूक होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

कूप मंडूक होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य में प्रयोग (Kup Manduk Hona Muhavare Ka Arth Aur Vakya Pryog)

कूप मंडूक मुहावरे का अर्थ (Kup Manduk Hona Muhavare ka Arth) – सिमित ज्ञान या सिमित अनुभव होना या संकुचित विचार वाला होना।

दिए गए मुहावरे का हिंदी वाक्य में प्रयोग

वाक्य प्रयोग: छाप डॉक्टरों पर अधिक विश्वास मत करो, ये तो कूप मंडूक होते हैं।

वाक्य प्रयोग: समुद्र पार करने का निषेध करके हमारे पुरखों ने हमें कूप मंडूक बना रहने दिया।

ऐसा व्यक्ति जो अपना स्थान छोड़ कर कहीं बहार न गया हो या किसी एक क्षेत्र का ही ज्ञान हो जिससे उसके पास सिमित ज्ञान ही होता है और वो अपने आप को सर्वज्ञानी समझता हैl ऐसे लोगों को “कूप मंडूक होना” कहते हैंl

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here