व्यवसायिक शिक्षा पर निबंध

Essay on Vocational Education in Hindi: शिक्षा हमारे जीवन में काफी महत्वपूर्ण रोल निभाती हैं। अगर वो ही शिक्षा अगर हम व्यवसयिक शिक्षा के तौर पर ले तो वो शिक्षा हमारे लिए एक रामबाण के तौर पर काम करती हैं जो हमारे भविष्य के लिए अच्छी रहती हैं।

Essay on Vocational Education in Hindi
Essay on Vocational Education in Hindi

हम यहां पर अलग-अलग शब्द सीमा में व्यवसायिक शिक्षा पर निबंध (Essay on Vocational education in Hindi) शेयर कर रहे हैं। यह निबन्ध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होंगे।

व्यवसायिक शिक्षा पर निबंध | Essay on vocational education in Hindi

व्यवसायिक शिक्षा पर निबंध (250 शब्द) 

शिक्षा जिस तरह से हमारे जीवन और भविष्य के लोए महत्वपूर्ण हैं, उसी तरह हैं से एक अच्छी शिक्षा का भी हमारे जीवन में होना अच्छा रहता हैं। व्यवसायिक शिक्षा एक एसिया हथियार है जो हमें भविष्य में हमे आगे बढ़ने के लिए मदद करती है।

व्यवसायिक शिक्षा भी कई अलग-अलग प्रकार की होती हैं, जो हमारे के लिए महत्वपूर्ण होती हैं। शिक्षा के साथ तकनिकी शिक्षा का होंना भी बेहद जरुरी हैं। तकनीकी विषय का आज के समय में काफी क्रेज हैं। तकनिकी शिक्षा के अलावा व्यवसायिक शिक्षा में कंप्यूटर और डिजिटल मार्केटिंग से जुडी शिक्षा के बारे में पढ़ना जरुरी होता हैं।

व्यवसायिक शिक्षा का महत्त्व भी काफी ज्यादा हैं। अगर हम स चीज़ को आज से करीब 4 साल पहले से कम्पेयर करते हैं। एक व्यवसायिक शिक्षा का महत्त्व वो ही जान सकता हैं, जो इस शिक्षा के बारे में जानकारी जुटाना पसंद करता हैं और इस प्रकार की शिक्षा का लाभ लेना चाहता हैं।

व्यवसायिक शिक्षा के इस दौर में अगर कोई अपने करियर को एक नई राह देना चाहते हैं तो वो भी एक व्यवसायिक शिक्षा के बारे में सोचने के लिए स्वंत्र हैं। देश में बढती बेरोजगारी की वजह से लोग व्यवसायिक शिक्षा की और अपना रूख कर रह हैं। व्यवसायिक शिक्षा ही आज वर्तमान के हालातों में हर व्यक्ति के काम आ रही हैं। व्यवसायिक शिक्षा की सूची में कई कोर्स हैं जिसे हम करते हैं और अपने व्यवसायिक शिक्षा को बूस्ट करते है। व्यवसायिक शिक्षा आज के समय एम् सबसे ज्यादा पोपुलर शिक्षा हैं।

व्यवसायिक शिक्षा पर निबंध (800 शब्द) 

प्रस्तावना

व्यवसायिक शिक्षा हमारे लिए एक महत्वपूर्ण योगदान निभाता हैं, जब हम किसी ऐसे क्षेत्र में काम करने जाते हैं जो हमारी डिग्री से नही हमारे टेलेंट से देखी जाती हैं। व्यवसायिक शिक्षा का महत्त्व आज काफी बढ़ गया हैं, जिसका कारण हैं देश में बढती बेरोजगारी हैं। व्यवसायिक शिक्षा का अपना अलग क्षेत्र हैं। व्यवसायिक शिक्षा के जरिये आप ऐसे काम को भी करने में सक्षम हो जाते हैं जिसे हर कोई नहीं कर सकता हैं। 

व्यवसायिक शिक्षा के अपने मायने है जो एक महत्वपूर्ण कार्य हैं। व्यवसायिक शिक्षा को अगर सही मायनों में देखा जाए तो इस शिक्षा के महत्त्व के साथ इस शिक्षा का दायरा भी वास्तव में काफी बढ़ रहा हैं और इसके पैरो तले कई ऐसी शिक्षा दब रही हैं जो एक वक़्त में शिखा के क्षेत्र में राजा थी। व्यवसायिक शिक्षा में कई अलग-अलग कार्य करने के मौका मिलता हैं। 

व्यवसायिक शिक्षा का महत्त्व

व्यवसायिक शिक्षा के बारे में काफी जानकारी लेने की जरुरत हैं। इस शिक्षा की स्तिथि तब महत्वपूर्ण हो जाती हैं। इस पढाई की बात जब गरीबो के स्तर पर बात करें तो उनके पास इतने पैसे नहीं होते हैं कि वो इस प्रकार की पढाई कर सकते हैं। अगर कोई सामान्य विद्यार्थी किसी पराक्र की विशेष पढ़ी नहीं कर पता हैं तो उसके पास एक ही विकल्प रह जाता हैं कि वो इस प्रकार के व्यवसायिक शिक्षा पढ़ सकता हैं और एक अच्छे प्रकार का व्यवसाय कर सकता हैं। 

व्यवसायिक शिक्षा का अपना अलग ही क्षेत्र होता हैं। आज के समय में व्यवसायिक शिक्षा ने शिक्षा के क्षेत्र में अलग ही पैर पछार चूका हैं। व्यवसायिक शिक्षा के कई अलग-अलग मायने हैं। अगर कोई कंप्यूटर में अपनी पढ़ाई कर सकता हैं तो वो कोई भी व्यवसायिक कोर्स कंप्यूटर के क्षेत्र में कर सकता हैं। पढाई के मामले में व्यवसायिक शिक्षा का अपना एक अलग भाग बन चूका हैं।

व्यवसायिक शिक्षा देते हैं रोजगार के नये आयाम

व्यवसायिक शिक्षा के बाद अब देश में रोजगार के कई और नए अवसर प्राप्त होते हैं। इस प्रकार की शिक्षा से कई नये रोजगार मिलने लगे हैं जैसे कंप्यूटर केवल क्षेत्र में भी कई प्रकार के रोजगार की आपूर्ति देखने को मिलती हैं। व्यवसायिक शिक्षा के महत्त्व से मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक, तकनीकी इतियादी क्षेत्रो में रोजगार के नये  नये अवसर देखने को मिलते हैं। 

इन सब के अलावा होटल मैनेजमेंटम, फोटो एडिटिंग और कैप्चरिंग इत्यादि इस व्यवसायिक शिक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग बन चूका हैं। इस प्रकार की शिक्षा का अपना क्षेत्र तो हैं बल्कि इसके अपने अलग मायने भी हैं। शिक्षा के क्षेत्र में इस प्रकार की शिक्षा को आज काफी महत्त्व दिया जाता है वही यह शिक्षा काफी सस्ती ही होती हैं, सस्ती से मतलब हैं कि यह शिक्षा किसी प्रोफेशनल कोर्स जितनी महंगी नहीं होती हैं।

भारत में व्यवसायिक शिक्षा

देश में भी समय के अनुसार काफी बदलाव देखने को मिले हैं। देश में भी कई प्रकार की व्यवसायिक शिक्षा को बढ़ावा मिला हैं। भारत में लोग अब ट्रेडिशनल शिक्षा को छोड़ कर व्यवसायिक शिक्षा की और अग्रसर हो रहे हैं। देश में वर्तमान में शिक्षा के क्षेत्र में काफी बदलाव देखने को मिलता हैं। हमारे देश में भी वर्तमान में मानव संसाधनों पर काफी जोर दिया जा रहा हैं। लोगों की नई तकनिकी और शिक्षा के बारे में बताया जा रहा है। 

देश में हमें कई नये-नये स्टार्टअप भी देखने को मिलते हैं। हम इस प्रकार की खबरे रोज सुनते हैं कि देश में आज एक नई कंपनी का शुभारम्भ किया गया। नई शिक्षा प्रणाली का विकास किया गया। शिक्षा के क्षेत्र में काफी बदलाव दिखे हैं।

निष्कर्ष

देश में अब काफी बदलाव आ रहा हैं। लोग अब नई-नई शिक्षा की और बढ़ रहे हैं। देश में कई प्रकार की व्यवसायिक शिक्षा का विकास देखने की मिल रहा हैं। वर्तमान में भारत में व्यवसायिक शिक्षा को काफी बढ़ावा दिया जा रहा हैं। हम इस बात की उम्मीद करते हैं अब लोग इस नई शिक्षा प्रणाली को अपनाएंगे और देश को नई रह पर ले जायेगे।

अंतिम शब्द 

हमने यहां पर “व्यवसायिक शिक्षा पर निबंध (Essay on Vocational Education in Hindi)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here