शहरीकरण पर निबंध

Essay on Urbanization in Hindi: आज हम बात करने जा रहे हैं शहरीकरण के बारे में। शहरीकरण वह प्रक्रिया है, जिसमें गांव क्षेत्र के लोग अपने गांव को छोड़कर शहर की ओर रुख करते हैं और वहां की आबादी बढ़ा देते हैं। वर्तमान समय में यह बहुत ही अधिक देखने को मिल रहा है,कि लोग काम धंधे की वजह से, पढ़ाई की वजह से शहरों की तरफ रुख कर देते हैं। आज का हमारा यह आर्टिकल जिसमें शहरीकरण पर निबंध के बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाने वाले हैं। यदि आप भी शहरीकरण के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं। तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Essay on Urbanization in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

शहरीकरण पर निबंध | Essay on Urbanization in Hindi

शहरीकरण पर निबंध (250 शब्द)

गांव के लोग शहरी क्षेत्रों में आकर बस रहे हैं, इसी को शहरीकरण कहा गया है। इसी के चलते दिन प्रतिदिन शहरों में रहने वालों की संख्या बढ़ती ही जा रही है और यह लोगों की बहुत ही अधिक लोकप्रिय प्रवृत्ति हो गई है क्योंकि हर कोई यही चाहता है कि वह अपना जीवन बेहतर तरीके से जिए। जिसकी वजह से वह गांव को छोड़कर शहर की ओर रुख कर देते हैं। लोग ज्यादातर काम के अवसरो और बेहतर जीवन की वजह से शहरीकरण में रूख कर रहे हैं। ऐसा मानना है, कि 2050 तक दुनिया का लगभग 64% हिस्सा शहरीकरण हो जाएगा।

शहरी करण के कई लाभ है, तो वहीं इसके कई नुकसान भी हैं। इसको समझ पाना बहुत ही मुश्किल और कठिन कार्य होता जा रहा है। इसमें सबसे बड़ा लाभ यह है, कि शहरी क्षेत्र ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में संसाधन प्रदान करने में बहुत ही अधिक प्रगतिशील प्रवृत्ति के होते हैं। शहरों में सभी सुविधाएं बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं। जैसे कि स्वच्छ पानी, बिजली और भी कई बुनियादी सुविधाएं बहुत ही आराम से मिल जाती है। शहरो में बहुत अच्छी शिक्षा स्वास्थ्य सेवाएं बहुत ही अच्छी उपलब्ध होती हैं।

आजकल देखा जाए तो कुछ-कुछ सुविधाएं ग्रामीण क्षेत्रों में भी उपलब्ध हो गई हैं, लेकिन इतनी बेहतर नहीं है, जितनी कि शहरों में है। शहरी क्षेत्र में रोजगार भी आराम से उपलब्ध हो जाते हैं। चाहे वह औद्योगिकरण में हो चाहे व्यवसाई कारण में। शहर में कई प्रौद्योगिकी लागू होती हैं। इसके अलावा शहरी लोग तकनीकी जीवन जीते हैं। इसके विपरीत कई ग्रामीण व्यक्ति कई प्रकार की तकनीकों से आज भी वंचित है। उन्हें यह ज्ञात नहीं होता है, कि किस तकनीक का किस तरह से प्रयोग किया जाता है।

शहरीकरण पर निबंध (1200 शब्द)

प्रस्तावना

शहरी क्षेत्रों में लगातार जनसंख्या की वृद्धि हो रही है, जिसे शहरीकरण कहा जाता है। शहरीकरण इसलिए अधिक बढ़ रहा है, क्योंकि बढ़ती जनसंख्या बुनियादी सुविधाएं जैसे कि भोजन, स्वास्थ्य, परिवहन और आश्रय इत्यादि सेवाओं के चलते शहरीकरण की तरफ रुख हो रहा है। यह आवास आर्थिक सहायता संसाधनों व्यवसायीकरण परिवहन और भूमि के विकास में भी अत्यधिक योगदान दे रहा है। शहरीकरण बहुत ही तेजी से वृद्धि कर रहा है।

कारण

  • सबसे पहले इसमें राजनीतिक कारण आता है, जो कि शहरीकरण में बहुत ही बड़ी भूमिका निभाता है। कई लोग राजनीतिक और शांति के कारण शहरी क्षेत्रों के लिए ग्रामीण क्षेत्रों को छोड़ने पर मजबूर हो जाते हैं। कई परिवार भोजन और रोजगार की तलाश में शहर आ जाते हैं।
  • सबसे बड़ा इसका आर्थिक कारण यह है, कि ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत गरीबी है और अधिक गरीबी बढ़ती ही जा रही है। किसान के पास पर्याप्त आय नहीं है, जिससे वह अपना जीवन यापन कर सकें और इसके लिए ग्रामीण लोग बेहतर रोजगार की तलाश में शहरों की तरफ रुख करते हैं।
  • शिक्षा जो कि सबसे महत्वपूर्ण है, गांव में आज भी शिक्षा इतनी सफल नहीं है, जितनी शहरों में हो चुकी है। इसीलिए शिक्षा की वजह से लोग शहरों की तरफ रुख करते हैं। वहां पर उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त हो जाती है। शहरीकरण में विश्वविद्यालय और तकनीकी कॉलेज में बहुत ही अच्छा अध्ययन कराया जाता है।
  • पर्यावरण भी शहरी करण में बहुत ही अहम भूमिका निभाता है। वनों की कटाई की वजह से कई किसान परिवारों के प्राकृतिक आवास को नष्ट कर देती है। जिसकी वजह से खनन और औद्योगिक को बहुत ही अधिक नुकसान पहुंच रहा है। जिसकी वजह से वहां के लोग शहर की तरफ रुख करने पर मजबूर हो गए हैं।
  • सामाजिकरण शहरीकरण का बहुत ही मुख्य कारण है। कई युवा ग्रामीण लोग बेहतर जीवन जीने की तलाश में शहरों में निकल जाते हैं, परंतु अधिक लोग यही चाहते हैं, कि उनकी जीवनशैली बहुत ही अच्छी हो और शहरों में युवाओं को आकर्षित करने वाली बहुत सी चीजें देखी जाती हैं। जिसकी वजह से युवा गांव की ओर से रुक कर जाते हैं।

परिणाम

शहरीकरण बहुत ही तेजी से बढ़ रहा है जिसके दो अहम पहलू हैं। शहरीकरण स्वस्थ और अस्वस्थ पहलू आइए इन पर नजर डालते हैं, इनके बारे में आपको अधिक जानकारी देते हैं।

स्वास्थ्य पहलू के बारे में

  • तेजी से चलती औद्योगिकरण से कई औद्योगिक शहरों की भी स्थापना हो चुकी है, और इनका विकास भी होता रहता है। विनिर्माण इकाइयों के साथ-साथ उन शहरी क्षेत्रों में सहायता भी बढ़ने लगी है और अधिक सेवा के क्षेत्र भी बढ़ने लगे हैं।
  • शहरी क्षेत्रों में नए अवसर विनिर्माण और सेवा की इतनी ज्यादा जगह होती जा रही है, कि इसका प्रभाव ग्रामीण औद्योगीकरण प्रक्रिया पर लगातार बढ़ता ही जा रहा है।
  • शेरों का विकास बाहरी अर्थव्यवस्थाओं को भी जन्म देता है, ताकि विभिन्न सेवाएं और गतिविधियों के लिए कुछ अर्थव्यवस्था का लाभ उठाया जा सके।

अस्वास्थ्य पहलू के बारे में

  • अर्थव्यवस्था का विकास शहरीकरण से बहुत ही अत्यधिक जुड़ा हुआ है, लेकिन इसकी वजह से कई गंभीर समस्याएं भी पैदा होती जा रही है। शहरी करें क्षेत्रों में भीड़ बहुत हद तक बढ़ गई है। जिसकी वजह से ट्रैफिक भी बढ़ता जा रहा है। आबादी की बहुत अधिक जमावट हो गई है, और महंगाई भी अत्यधिक बढ़ गई है।
  • अधिक जनसंख्या शहरीकरण का एक और स्वास्थ्य पहलू हो सकता है, क्योंकि शहरों में आवास, शिक्षा, चिकित्सा, सुविधाओं मलिन बस्तियों के विकास बेरोजगारी हिंसा भीड़ भाड़ इन सभी समस्याओं को पैदा कर रहा है। इन सभी के परिणाम स्वरुप जीवन की गुणवत्ता में बहुत भारी गिरावट आ गई है।

नियंत्रित करने के तरीके

  • रोजगार के लिए जिस तरह से ग्रामीण लोग शहरों में पलायन कर रहे हैं, उसी तरह से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने चाहिए। कृषि और ग्रामीण उद्योगों के विकास से ही ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकते हैं।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में ढांचागत विकास होना बहुत ही आवश्यक है, जैसे कि सड़कों, भवनों, अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों इत्यादि का निर्माण बहुत ही आवश्यक हो चुका है। इससे लोगों को स्थानीय स्तर पर रहने के लिए बेहतर सुविधा प्राप्त हो सकती है, क्योंकि उन्हें अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य में मदद मिलती है। इससे नौकरी के अवसर भी मिल पाएंगे और इसके जरिए सरकार और जनता का नेटवर्क और भी मजबूत हो पाएगा।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में औद्योगिक और निजी क्षेत्र का विकास बहुत ही आवश्यक है. सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए और देशव्यापी शहरीकरण गांव में भी होना चाहिए। गांव में योजना और निवेश बहुत ही अधिक आवश्यक हो गया है।
  • शहरीकरण का मुख्य कारण बढ़ती हुई जनसंख्या भी है। लोगों को परिवार नियोजन के बारे में शिक्षा देनी चाहिए और ग्रामीण समुदायों के बीच इसके लिए जागरूकता भी फैलानी चाहिए।
  • तेजी से बढ़ते शहरीकरण की वजह से ग्लोबल वार्मिंग बहुत ही अधिक तेजी से दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, जल विद्युत ऐसे स्रोतों का अतिरिक्त इस्तेमाल हो रहा है। कौशल उद्योग और प्रौद्योगिकी में निवेश से स्वच्छ अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा मिल रहा है। वनों की लगातार कटाई की बजाय पेड़ लगाने पर जोर देना चाहिए।

निष्कर्ष

वर्तमान समय में शहरीकरण बहुत ही तेजी से बढ़ रहा है। हालांकि यह अच्छी बात है, कि हमारा देश विकास कर रहा है, परंतु इससे लोगों के जीवन में कई परेशानियां सामने आ रही हैं। आधुनिक जीवन जीना बहुत ही अच्छा है। बेहतर शिक्षा अच्छे रोजगार सभी को मिलने चाहिए, परंतु शहरीकरण होने के साथ-साथ इसमें नकारात्मक नतीजे भी बहुत अधिक बढ़ रहे हैं, इसीलिए हमे शहरीकरण को नियंत्रित करना बहुत ही आवश्यक है।

अंतिम शब्द

दोस्तों, आज हमने इसमें आपको शहरीकरण पर निबंध ( Essay on Urbanization in Hindi) के बारे में कुछ बातें बताई हैं। उसकी हानियां और नुकसान भी और उसके प्रभाव भी और किस तरह से अच्छा है। यह सब भी बताया है। आशा करते हैं, आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपको इससे संबंधित कोई भी प्रश्न पूछना है तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here