लीडरशिप पर निबंध

Essay on Leadership in Hindi: हम यहां पर लीडरशिप पर निबंध पर शेयर कर रहे है। इस निबंध में लीडरशिप के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay-on-Leadership-in-Hindi.

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

लीडरशिप पर निबंध | Essay on Leadership in Hindi

लीडरशिप पर निबंध (200 शब्द)

व्यक्तित्व विकास के गुणों में से एक महान गुण है लीडरशिप। लीडरशिप एक कला है। लीडरशिप ‘Lead’ शब्द से बना है, जिसका शाब्दिक मलतब है मार्गदर्शन करना। लीडरशिप के गुण व्यक्ति में जन्म से ही पाये जाते है और कुछ लोग कड़ी मेहनत के द्वारा इस गुण को विकसित करते है।

लीडरशिप मनुष्य को दूसरों की तुलना में विशेष बनाता है। लीडरशिप व्यक्ति को  ईमानदार,सत्यनिष्ठ, समयनिष्ठ और मेहनती बनाता है। लीडरशिप व्यक्ति में सकारात्मकता और आत्मविश्वास का संचार करता है। अच्छा नेतृत्व से हम किसी भी क्षेत्र में सफलता हांसिल कर सकते है।

एक अच्छे लीडर को अपने निर्णयों और कार्यों में विश्वास होना चाहिए।  एक अच्छे नेता को निश्चित रूप से दूसरों को प्रेरित करना चाहिए। एक नेता को अपने अनुयायियों के लिए एक आदर्श होना चाहिए। महात्मा गांधी,अब्राहम लिंकन,सर विंस्टन चर्चिल और सरदार वल्लभभाई पटेल जैसे कई नेताओं ने लीडरशिप द्वारा लोगों को सही रास्ता दिखाया और देश के सुनहरे भविष्य के लिए अपना पूरा जीवन देश सेवा व्यतीत किया।

गलत लीडरशिप व्यक्ति को बर्बादी के रास्ते पर भी ले जा सकती है। लीडरशिप जैसा विशिष्ट गुण हर व्यक्ति में नहीं होता। लेकिन समाज और राष्ट के उज्ज्वल भविष्य के लिए मेहनत और लगन से हासिल कर यह गुण हमारे अन्दर विकसित कर सकते है।

लीडरशिप पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना

व्यक्तित्व विकास के सभी गुणों में लीडरशिप एक अनोखा कौशल गुण है। लीडरशिप के द्वारा आप अपने कार्यक्षेत्र में सफलता की बुलंदियों तक आसानी से पहुँच सकते है। लीडरशिप की कई परिभाषाएँ हैं। लीडरशिप शब्द का अपने आप में व्यापक अर्थ है। लीडरशिप लोगों के समूह या किसी संगठन को एक सामान्य लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रेरित करने की एक कला है।

एक अच्छा लीडर लोगों में सकारात्मक भावना का संचार करता है। व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों के विकास के लिए लीडरशिप एक महत्वपूर्ण कौशल हैं। लीडरशिप किसी भी मनुष्य की विशिष्ट पहचान होती है, जो दूसरों से अलग बनाती है। जिससे समाज में उन्हें नाम और मान सम्मान मिलता है।

लीडरशिप का महत्व

कोई भी संगठन और समूह बिना लीडरशिप के आस्तित्वहीन होता है। लीडरशिप किसी भी  संगठन और समूह को भविष्य की दिशा और दृष्टि प्रदान करता है। समूह में जीवंत वातावरण को बनाए रखने में लीडरशिप का काफी महत्व है। एक अच्छा नेता लोगों को सही लीडरशिप द्वारा मार्गदर्शन, सहायता और विश्वास प्रदान करता है। लीडरशिप लक्ष्यों को प्राप्त करने और दक्षता बढ़ाने में प्रोत्साहक की भूमिका निभाता है।

महात्मा गांधी, अब्राहम लिंकन, सर विंस्टन चर्चिल और सरदार वल्लभभाई पटेल जैसे कई नेता अच्छी लीडरशिप का जीवंत उदहारण है।

लीडरशिप के गुण

वैसे तो लीडरशिप के गुण किसी भी मनुष्य में जन्म से ही होते है लेकिन कुछ लोग जीवन में कड़ी मेहनत और लगन से इस गुण को प्राप्त भी करते है। लीडरशिप में मुख्य गुण आत्मविश्वास और अनुशासन है। लीडरशिप के लिए व्यक्ति को जीवन के हर पहलू से अवगत होना चाहिए।

ईमानदारी, धैर्य, पारदर्शिता जैसे गुण की वजह से लीडर को लोग काफी पसंद करते है। लीडर रचनात्मकता और सकारात्मक दृष्टिकोण से भरपूर होना चाहिए। जिम्मेदारी को सौंपने की क्षमता और प्रभावी ढंग लीडरशिप को मजबूत बनाता है।

लीडर में सहानुभूतिपूर्ण के साथ साथ मजबूत, साहसिक और आवश्यक निर्णय लेने की क्षमता भी होनी चाहिए। एक नेता अपने भाषणों, विचारधाराओं, पृष्ठभूमि या सिर्फ अपने व्यक्तित्व से किसी को भी प्रेरित कर सकता है। अच्छे लीडरशिप में नेता के पास दीर्घकालिक दृष्टि और अच्छे इरादे होते है।

लीडरशिप के प्रकार

लीडरशिप के अनेक प्रकार होते है। लेकिन उसे तीन मुख्य विभाग में बांटा गया है। जब कोई व्यक्ति किसी क्षेत्र में विशिष्ट ज्ञान होने के आधार पर लोगों को दिशा निर्देश करता है उसे योग्यता पर आधारित लीडरशिप कहते है।

जब कोई व्यक्ति अपने व्यक्तित्व और कार्यों के आधार पर उदेश्यों की प्राप्ति के क्रियाशील रहता है उसे व्यक्तित्व पर आधारित लीडरशिप कहते है।

जब कोई व्यक्ति समूह सदस्यों को कार्य करने की ओर प्रवृत करता है उसे पद पर आधारित लीडरशिप कहते है।

लीडरशिप के कार्य

वैसे तो लीडरशिप के के नीचे कई कार्य होते है। उन्हें अपने साथ एक पूरा समूह या संगठन लेकर चलना होता है। परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेना लीडरशिप का पहला कर्तव्य है। निर्णय के साथ साथ कार्य का निदेशन करना भी बहुत जरुरी होता है।

अपने समूह को आज्ञा देना भी एक तकनीक है। कार्यों को सही दिशा देना और संगठन पर नियंत्रण बनाये रखने का काम एक लीडर का होता है। समूह या संगठन में एकता बनाए रखना और लोगों में आत्मविश्वास संचार करने की जिम्मेदारी भी लीडर की होती है।

निष्कर्ष

प्रभावी नेतृत्व से हम उच्च मनोबल हांसिल कर सकते है। नेतृत्व क्षमता की सच्ची परीक्षा कठिन समय में होती है। लीडर में मानवता की वृद्धि और प्रगति के लिए खुद को समर्पित करने की भावना होनी चाहिए। एक महान नेता में उत्कृष्टता का प्रेम पाया जाता है।

एक सच्ची लीडरशिप आपको सर्वोत्तम शिखर पर ले जाएंगी और एक गलत लीडरशिप आपको बर्बादी के रास्ते पर ले जाएंगी। लीडरशिप को अपने जीवन का अंग बनाने के लिए बचपन से ही आशा और आत्मविश्वास से आगे बढ़ना चाहिए।

अंतिम शब्द

हमने यहां पर “लीडरशिप पर निबंध(Essay on Leadership in Hindi)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here