30+ प्रसिद्ध भारतीय मिठाइयों के नाम

Sweets Name in Hindi: मन में हैं लालच भरा जरा निकाल देते है मीठा खा कर बाहर, शर्मा जी का इतना कहना हुया और वर्मा जी ले आये मिठाई का डिब्बा। मिठाई भारत जैसे देश में बहुतायत में बिकने वाली पहली चीज़, इसे खाने से मन और दिमाग दोनों चाशनी में डूब कर खुश हो जाते है। हाँ जी, आप सही पकड़े आज के इस पोस्ट में बात होने वाली है मिठाइयों की तो अपने चंचल मन को थाम कर बैठना Mithaiyon Ke Naam देख कर कहीं निकल ना जाओ हलवाई की दुकान की ओर।

भारत के प्रत्येक प्रांत में मिठाई खाने वाले बहुत है और विदेशों में भी देश की मिठाइयों के शौकीन भरे हुये है। चलिए कुछ प्रसिद्ध मिठाइयों के नाम के साथ संक्षेप में उसकी विधि के बारे में पढ़ते है।

Best Indian Sweets Name in Hindi

क्र. सं.मिठाई का नाम
1जलेबी
2काजू कतली
3लड्डू
4पेड़ा
5रसगुल्ला
6गुलाब जामुन
7मालपुआ
8बर्फ़ी
9कलाकंद
10चूरमा
11श्रीखंड
12खीर
13रबड़ी
14हलवा
15आगरा का पेठा
16सोन पापड़ी
17घेवर
18लापसी
19गुजिया
20बासुंदी
21रसमलाई
22पतासा
23रेवड़ी
24मूंगफली चिक्की
25फिरनी
26गजक
27इमरती
28मिल्क केक
29मोदक
30कुल्फी
All Indian Sweets Name in Hindi

Mithaiyon Ke Naam

जलेबी: “एक दम जलेबी की तरह सीधा हूँ” ऐसा बोलते हुए आपने कही ना कही तो सुना ही होगा, तो आपको बात देता हूँ जलेबी दिखने में बिल्कुल भी सीधी नहीं होती है। टेढ़ी-मेढ़ी गोल मटोल चाशनी में डूबी रस भरी जलेबी भारत की राष्ट्रीय मिठाई है। पूरे भारत में इसे बड़े ही चाव से खाते है। मैदा और घी या तेल में तल कर जलेबी बनती है फिर उसे शक्कर की चाशनी में डूबा कर रसीली बनाया जाता है।

काजू कतली: सभी भारतीय की पहली पसंद जब घर में या कोई बड़ा त्योहार आता है तो काजू कतली के दर्शन हो जाते है। इसका मुख्य घटक यानि मैन इंग्रीडेन्ट काजू होता है, काजू का पेस्ट बना कर उसमें शक्कर डाल कर घी में भुना जाता है। फिर इसे ठंडा करके चांदी का अर्क लगा कर शेप में काटा जाता है। लो जी काजू कतली तैयार हो गई। इसे काजू बर्फ़ी भी बोल जाता है।

लड्डू: सभी शुभ काम में दिए जाने वाला पहला व्यंजन लड्डू ही होता है। नौकरी लगने की खुशी हो या परीक्षा में पास होने का लड्डू पूरे मोहल्ले में बँट जाती है। एक दम गोल आकार का छोटा सी मिठाई शुभ काम के लिए सबसे पहले ली जाती है, आटा, घी, दूध और शक्कर से बनाया जाता है। लड्डू बहुत प्रकार के होते है जैसे बेसन के लड्डू , मोतीचूर के लड्डू।

पेड़ा: लड्डू का साथी पेड़ा हमारा। एक दम शोले मूवी के जय-वीरू की जोड़ी की तरह मिठाई में लड्डू-पेड़ा है। सबसे सिम्पल मिठाई। केवल खोया और शक्कर का मिश्रण पेड़ा कहलाता है।

Sweets Name in Hindi

रसगुल्ला: पश्चिम बंगाल और असम राज्य की फेवरेट मिठाई जिसे पूरे भारत वासी बड़े ही चाव से खाते है। छेना और शक्कर से रसगुल्ला बनाया जाता है। मीठे-मीठे रस से भरे छोटे-छोटे रसगुल्ले एक अलग ही आनंद देते है।

गुलाब जामुन: रसगुल्ले का लंगोटिया दोस्त गुलाब जामुन है। और कहूँ तो पेड़े का बड़ा भाई, खोया, शक्कर के साथ मैदा उपयोग में लिया जाता है। अच्छे से मिक्स करके छोटे छोटे गोले बना कर घी या तेल में भूनते है फिर चाशनी में डुबो कर सर्व किया जाता है। देश की हर शादी में ये मिठाई नया बने तो शादी का खाना अधूरा-अधूरा लगता है।

मालपुआ: मालपुआ को गर्मागर्म खाने से इसके स्वाद में चार चाँद और लग जाते है, इसे बनाने में केवल दो इंग्रीडेंट्स मैदा और शक्कर लगता है। कुछ जगह खोया भी डाला जाता है। ये दिखने में छलनी नुमा लगता है।

बर्फ़ी: ये मिठाई भी हर खुशी के मौके पर घर में देखने को मिल जाती है। बर्फ़ी खोया और शक्कर से बनाई जाती है, इसकी वैरायटी भी बहुत सारी होती है जैसे पिस्ता बर्फ़ी, नारियल बर्फ़ी।

कलाकंद: दूध, चीनी और छेना से बनी मिठाई को कलाकंद कहते है। छेने से बनी मिठाइयों में लोकप्रिय मिठाई है।

चूरमा: राजस्थान राज्य का प्रिय व्यंजन केवल राजस्थान में ही नहीं बल्कि पूरे देश भर में प्रसिद्ध है। मोटे अनाज को पीस कर उसके आटे में चीनी और घी मिलाकर खाया जाता है। इसके अंदर काजू पिस्ता बादाम भी डाल सकते है, इसको लड्डू बना कर भी खा सकते है। चूरमे को दाल के साथ खाने पर एक अलग आनंद की अनुभूति होती है।

श्रीखंड: दही और चीनी से बनी यह मिठाई होती है, जो केसर के पानी में भीगी होती है। श्रीखंड एक स्वादिष्ट मिठाई है जो गुजरात, महाराष्ट्र राज्य में अधिक पसंद है।

खीर: खीर पुरे देश में प्रसिद्ध है। दूध से खीर बनाई जाती है जिसमें बादाम, काजू, किशमिश भी डाला जाता है। खीर को मिठास शक्कर से मिलती है। खीर बनाने की मुख्य सामग्री में चावल/सेवइयाँ और दूध होता है। ईद पर मुस्लिम भाइयों की पसंदीदा मिठाई खीर ही है। त्योहारों पर अक्सर खीर पूड़ी बनाने का चलन है।

रबड़ी: रबड़ी का नाम सुनकर ही मुँह में पानी आ जाता है। दूध से रबड़ी बनाई जाती है। दूध को इतना ज्यादा उबाले की वो गाढ़ा हो जाये। इसमें शक्कर मिलाकर स्वाद मीठा किया जाता है। रबड़ी को ठंडा करके खाया जाता है।

हलवा: हलवा की कई किस्में होती है। उनमें से कुछ लोकप्रिय हलवे – गाजर का हलवा – सर्दियों में गाजर का बना हलवा वाकई में लाजवाब होता है। गाजर और दूध से गाजर का स्वादिष्ट हलवा तैयार होता है। दूध की जगह मावे का भी उपयोग किया जा सकता है। मिठास के लिए शक्कर का इस्तेमाल किया जाता है।

बादाम का हलवा: नाम से स्पष्ट है कि यह हलवा बादाम से बनाया जाता है। बादाम के हलवे में शक्कर और घी मिला होता है।

सूजी का हलवा: सूजी का हलवा सूजी से बनाया जता है। इसमें घी, सूजी और शक्कर होती है। भारत देश में सूजी का बना हलवा काफी लोकप्रिय है। शादी समारोह में यह अक्सर बनता है।

आगरा का पेठा: आगरे के पेठे का आविष्कार आगरा शहर में हुया था, इसलिए इस मिठाई का नाम शहर के नाम के साथ लिया जाता है। यह मिठाई सफेद लौकी (एक प्रकार की पेठा सब्जी) और शक्कर से बनाई जाती है। सफेद रेशेदार मिठाई में शक्कर की चाशनी होती है।

सोन पापड़ी: सोन पपड़ी भी एक प्रसिद्ध भारतीय मिठाई है। बाजार में खुली या पेकिंग में यह मिठाई मिल जाती है। सोन पपड़ी परतदार मिठाई होती है। बेसन, आटा, चीनी, दूध और घी से मिलकर सोन पपड़ी बनती है। बादाम और काजू भी इस मिठाई में मिलाएं जाते है। अक्सर दीपावली के समय इसकी आवक ज्यादा होती है।

घेवर: बारिश के मौसम में आप सभी ने घेवर का आनंद तो लिया ही होगा। स्वादिष्ट घेवर भारत में बड़े ही चाव से खाया जाता है। यह मिठाई एक मधुमक्खी के छत्ते के समान होती है। इसे शक्कर की चाशनी में डुबोकर बनाया जाता है। मैदे और घी से यह मिठाई बनती है। घेवर पर रबड़ी की परत भी लगाते है जिससे इसका स्वाद कई गुना बढ़ जाता है। घेवर मिठाई सबसे अधिक राजस्थान में पसंद की जाती है।

लापसी: लापसी बनाने में दलिया मुख्यत: उपयोग में आता है। दलिये में घी और गुड़ मिला होता है। इसका स्वाद बढ़ाने के लिए काजू पिस्ता भी मिलाया जाता है। यह गर्म ही खाई जाती है। भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में शादी समारोहों में लापसी बनाने का चलन है।

गुजिया: यह एक भारतीय पकवान है जो खोया, आटा या मैदा से बनता है। दीवाली जैसे उत्सवों पर गुजिया बनाने की परंपरा रही है। गुजिया मिठाई उत्तर भारत में काफी पसंद की जाती है।

बासुंदी: बासुंदी भारत के गुजरात और महाराष्ट्र राज्य की लोकप्रिय मिठाई है। दूध और शक्कर से यह मिठाई बनती है। दूध को गाढ़ा होने तक उबालते है। इसमें इलायची और केसर डालकर स्वाद बढ़ाया जाता है।

रसमलाई: रसगुल्ला की तरह रस से भरी मिठाई होती है। इसी कारण इसे रसमलाई भी कहते है। रसमलाई को छेने और शक्कर से बनाया जाता है। रसमलाई में रसगुल्ला की तरह की मिठाई केसर युक्त रस में डूबी होती है। इस मिठाई में काजू, बादाम भी डाले जाते है। रसमलाई शादी समारोह में अक्सर बनाई जाती है। यह मिठाई मूलतः पश्चिम बंगाल की है लेकिन पूरे दक्षिण एशिया में लोकप्रिय है।

पतासा: यह भारत की पौराणिक मिठाइयों में से एक है जिसको सिर्फ चीनी के घोल को गर्म करके गोल-गोल छोटे-छोटे आकार में बांट दिया जाता है और ठंडा होने पर यह मिठाई का रूप ले लेता है। स्वाद में उम्दा होती है।

रेवड़ी: यह मिठाई चीनी को पानी में मिलाकर पिघला दिया जाता है फिर उसको छोटे-छोटे हिस्सों में बांट दिया जाता है और थोड़ा सा ठंडे होने पर उस पर तिलहन लगा दिया जाता है।

मूंगफली चिक्की: मूंगफली चिक्की की मिठाई मूंगफली को पीसकर और शक्कर मिलाकर बनाई जाती है जो कि खाने में अत्यधिक स्वादिष्ट लगती हैं।

फिरनी: फिरनी धागे के रेशे जैसी दिखाई देती है इसे बेसन, चीनी और घी मिलाकर बनाया जाता है यह बहुत ही स्वादिष्ट लगती है।

गजक: गजक मिठाई बनाने के लिए गुड को पिघलाकर उसमें मूंगफली मिलाकर बनाया जाता है. यह मिठाई सर्दियों में बहुत अधिक खाई जाती है।

इमरती: जलेबी की तरह दिखने वाली मिठाई है, बस अंतर इतना सा होता है कि मैदे की जगह उड़द डाल को पीस कर उसके घोल से इस मिठाई का निर्माण होता है।

मिल्क केक: दूध को गाढ़ा करके उसमें चीनी मिलाने से यह मिठाई तैयार हो जाती है। इसे खाने पर रोम-रोम खुल जाता है।

मोदक: मोदक महाराष्ट्र राज्य में सबसे ज्यादा बिकने वाली मिठाई है। ये आटा, घी और नारियल से बनाई जाती है।

कुल्फी: बच्चों से लेकर बुड्ढों तक सबको पसंद आनी वाली मिठाई कुल्फी ही है। दूध को गाढ़ा करके उसमे काजू पिस्ता बादाम डाल कर साँचे में भर कर ठंडा होने के लिए रख दे। आपकी कुल्फी तैयार है।

Sweets Name in Hindi: अब बस अब और नहीं लिख सकता है, लिखते-लिखते मिठाई खाने का मन हो गया। इसके अलावा भी बहुत सारी मिठाई भारत में खायी जाती है। जैसे नानखटाई, चम-चम, संदेश, बालूशाही, बूंदी, शीर खुरमा, राजभोग, काला जामुन, मिष्टी दोई, दूध पाक, शक्कर पारा, खोपरा पाक, पूरण पोली, मैसूर पाक, इत्यादि।

यह भी पढ़ें:

मैं उम्मीद करता हूँ, यह लेख Sweets Name in Hindi आपको जरुर पसंद आया होगा। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो अपने मित्रों और परिवारजनों के साथ अवश्य शेयर करें। साथ ही अपने सुझाव नीचे कमेन्ट बॉक्स में लिखना न भूलें।

मेरा नाम सवाई सिंह हैं, मैंने दर्शनशास्त्र में एम.ए किया हैं। 2 वर्षों तक डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी में काम करने के बाद अब फुल टाइम फ्रीलांसिंग कर रहा हूँ। मुझे घुमने फिरने के अलावा हिंदी कंटेंट लिखने का शौक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here