लोहड़ी पर कविता

Poem on Lohri in Hindi: विश्व में भारत एक ऐसा देश है, जहां पर सबसे अधिक त्यौहार मनाये जाते हैं। इसलिए भारत को त्योहारों का देश भी कहा जाता है। भारत के त्योहारों में लोहड़ी का त्यौहार भी अपने आप में विशेष पहचान रखता है। यह त्यौहार विशेष रूप से भारत के उतर भाग में मनाया जाता है जिनमें पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, उतराखंड, उतरप्रदेश आदि राज्य मुख्य है।

इस दिन सभी एक दूसरे को लोहड़ी की बधाई देते हैं, एक दूसरे को मिठाई बांटते है और कई बड़े कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते हैं।

Poem on Lohri in Hindi

हमने यहां पर लोहड़ी त्यौहार पर कविताएं शेयर की है। जिन्हें आप अपने परिवारजनों, रिश्तेदारों, दोस्तों और पहचान वालों के साथ शेयर करके उन्हें लोहड़ी की बधाई भेज सकते हैं।

Read Also: लोहड़ी पर शायरी व स्टेटस

लोहड़ी पर कविता – Poem on Lohri in Hindi

Short Poem on Lohri in Hindi

आज है फिर से लोहरी आयी
सभी जनों को खूब बधाई
आज लकड़ी खूब जलेंगी
आग संग महफ़िल सजेंगी
खान पान संग होगा गाना बजाना
लोहरी के पंजाबी गीत गुनगुनाना
फुल्ले रेवड़ी मूंगफली होगी अग्नि को अर्पित
हर्ष और उल्लास को होगा त्यौहार समर्पित!

Lohri Short Poem in Hindi

मक्की दी रोटी ते सरसों दा साग,
नाचेंगे सारे ते बीच लगाके आग,
ढोल दी आवाज ते नाचेंगे सारी रात,
मुबारक होवे नवे-नवे जोड़े क लोहड़ी की सोहगात…
ओ बल्ले… बल्ले…
लोहड़ी कि आपको और आपके परिवार को लख-लख बधाईयाँ…
Wish you a very Happy Lohri…

लोहड़ी उत्सव पर कविता (Lohri Par Kavita)

Hindi Poem on Lohri Festival

लोहड़ी आई–लोहड़ी आई
सर्दी खत्म होने को आई
दिन बड़े होने की ख़ुशी में
सब ने मिलकर लोहड़ी मनाई।

13 जनवरी का दिन है आया
खुशियों ने हैं डेरा डाला
सुंदरी-मुंदरी के गीतों से
हम सब ने लोहड़ी का है त्योहार मनाया।

लोहड़ी आई लोहड़ी आई
मिलकर हम सब
एक दूजे को दे बधाई
जात-पात का भेद मिटाकर
मिलकर हम सब ने ढांड जलाई।

मूंगफली रेवड़ी अग्नि में डालकर
लोहड़ी के गीतों से
इस त्योहार की शोभा बढाई।

कुछ दिन पहले से बच्चों ने
घर घर जाकर लोहड़ी मांगी
दे नी माएं लोहड़ी
तेरे द्वारे सारी टोली है आई
दे नी माएं लोहड़ी
तेरे द्वारे सारी टोली है आई।

लोहड़ी आई- लोहड़ी आई
सबने इसे दिल से मनाई।

लोहड़ी पर कविता पंजाबी में

Poem on Lohri Festival in Punjabi

कंडा कंडा नी लकडियो कंडा सी
इस कंडे दे नाल कलीरा सी
जुग जीवे नी भाबो तेरा वीरा सी,
पा माई पा, काले कुत्ते नू वी पा
कला कुत्ता दवे वदायइयाँ,
तेरियां जीवन मझियाँ गईयाँ,
मझियाँ गईयाँ दित्ता दुध,
तेरे जीवन सके पुत्त,
सक्के पुत्तां दी वदाई,
वोटी छम छम करदी आई।

Lohri Poem in Punjabi Language

ਲੋਹਾਡੀ-ਲੋਹਦੀ ਆਈ,
ਸਰਦੀ ਦਾ ਅੰਤ ਹੋ ਗਿਆ,
ਦਿਨ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਵਿੱਚ,
ਹਰ ਕਿਸੇ ਦੇ ਨਾਲ ਮਿਲਕੇ ਲਾਬਿੰਗ ਕਰੋ
13 ਜਨਵਰੀ ਦਿਨ ਹੈ,
ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਦਾ ਕੈਂਪ ਹੈ,
ਸੁੰਦਰੀ-ਮੁੰਦਰੀ ਦੇ ਗਾਣੇ ਵਿਚੋਂ,
ਅਸੀਂ ਲੋਹੜੀ ਦੇ ਤਿਓਹਾਰ ਦਾ ਜਸ਼ਨ ਮਨਾਇਆ.
ਲੋਹੜੀ ਲੋਹੜੀ ਆਈ,
ਇਕੱਠੇ ਅਸੀਂ ਸਾਰੇ,
ਦੂਜਾ ਦੇਣ ‘ਤੇ ਵਧਾਈਆਂ,
ਜਾਤੀਵਾਦ ਨੂੰ ਖਤਮ ਕਰਕੇ,
ਇਕੱਠੇ ਅਸੀਂ ਸਾਰੇ ਜਨਤਾ ਨੂੰ ਸਾੜ ਦਿੱਤਾ.
ਮੂੰਗਫਲੀ ਲੋਹਰੀ ਗਾਣੇ ਨਾਲ,
ਇਸ ਤਿਉਹਾਰ ਦਾ ਤਿਉਹਾਰ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਹੈ!
ਕੁਝ ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ ਦੇ ਬੱਚੇ
ਘਰ ਜਾਓ ਅਤੇ ਲੋਹਾਡੀ ਤੋਂ ਪੁੱਛੋ,
ਡੀ ਨੀ ਮਾਂ ਲੋਹਰੀ,
ਤੁਹਾਡੇ ਦੁਆਰਾ ਇੱਕ ਪੂਰੀ ਗੈਂਗ ਹੈ,
ਡੀ ਨੀ ਮਾਂ ਲੋਹਰੀ,
ਤੁਹਾਡੇ ਦੁਆਰਾ ਇੱਕ ਪੂਰੀ ਗੈਂਗ ਹੈ!
ਲੋਹੜੀ ਮੈਂ ਲੋਹਾਦੀ ਆਇਆ,
ਇਸ ਦੇ ਸਾਰੇ ਪਾਬੰਦੀ!

******

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा शेयर की गई यह “लोहड़ी पर कविता (Poem on Lohri in Hindi)” पसंद आई होगी, इन्हें आगे शेयर जरूर करें। आपको यह कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

यह पोस्ट आपके लिए कितनी उपयोगी रही?

कृपया स्टार पर क्लिक करके रेटिंग दें

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले आप पहले व्यक्ति बनें!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

हमें इस पोस्ट में सुधार करने दें!

कृपया हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here