इंदिरा गांधी पर निबंध

Essay on Indira Gandhi in Hindi: हम यहां पर इंदिरा गांधी पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में इंदिरा गांधी के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay-on-Indira-Gandhi-in-Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

इंदिरा गांधी पर निबंध | Essay on Indira Gandhi in Hindi

इंदिरा गांधी पर निबंध (250 शब्द)

इंदिरा गांधी जी का जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद में हुआ था। उनके पिताजी का नाम जवाहरलाल नेहरू है। जवाहरलाल नेहरू भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। इसीलिए इंदिरा गांधी का संबंध राजनेताओं के परिवार से था। इंदिरा गांधी के दो बच्चे थे राजीव गांधी और संजय गांधी। इंदिरा गांधी ने भारतीय राजनीति में बहुत से साहसिक फैसले लिए थे, इसीलिए उनको आयरन लेडी कहा जाता था।

इंदिरा गांधी जी हमारे देश की पहली महिला प्रधानमंत्री थी। जब श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु हुई, उसके पश्चात इंदिरा गांधी जी प्रधानमंत्री बनी।

इंदिरा गांधी ने श्री रविंद्र नाथ टैगोर द्वारा स्थापित शांतिनिकेतन में अपनी पढ़ाई की। उसके बाद उन्होंने इंग्लैंड के स्विजरलैंड में भी पढ़ाई की, फिर फिरोज गांधी से शादी कर ली। इंदिरा गांधी ने भारत छोड़ो आंदोलन में हिस्सा लिया था, जिसके चलते वह नैनी जेल गई थी।

इंदिरा गांधी जब प्रधानमंत्री बनी, तब 1977 और 1980 के बीच 3 वर्षों को छोड़कर सभी में चार कार्यालय के लिए पद पर रही। वह बहुत ही दृढ़ नेता थी। 17 वर्षों तक इंदिरा गांधी के शासनकाल के दौरान कई उतार-चढ़ाव आए, परंतु उन्होंने सभी मुश्किलों का सामना डटकर किया और सभी समस्याओं को खत्म किया।

प्रधानमंत्री कार्यकाल के दौरान भारत ने 1971 में बांग्लादेश से युद्ध जीता था। उस समय वह एक महान सामाजिक कार्यकर्ता थी और उन्होंने देश के लिए कई योजनाएं भी शुरू की थी। 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी को उनके अंगरक्षको ने बेरहमी से मार डाला था। वह एक महान देशभक्त थी हमें उन पर गर्व है।

इंदिरा गांधी पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

इंदिरा गांधी भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी थी। इंदिरा गांधी के व्यक्तित्व की तारीफ हर कोई करता है। वह अपनी राजनीतिक प्रतिभाओं के लिए राजनीति जगत में इंदिरा जी ने अपनी अलग ही पहचान बनाई है। वह बचपन से ही एक सच्ची देशभक्ति थी और स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए उत्सुक थी।

इंदिरा गांधी जी का जन्म और परिवार

इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर 1917 को उत्तर प्रदेश के एक संपन्न और शिक्षित परिवार में हुआ था। उनका संपूर्ण नाम इंदिरा प्रियदर्शिनी था, मगर उन्हें प्यार से सब ‘इंदु’ कह कर पुकारते थे।

इंदिरा गांधी जी के दादाजी का नाम मोतीलाल नेहरू था। जवाहरलाल नेहरू और मोतीलाल नेहरू इन दोनों का संबंध वकालत से था और उन्होंने देश को स्वतंत्र करवाने में संपूर्ण सहयोग दिया था। इंदिरा गांधी जी की मां का नाम कमला नेहरू था।

इंदिरा गांधी की पढ़ाई

इंदिरा गांधी जी ने रविंद्र नाथ टैगोर द्वारा बनाया गया शांतिनिकेतन था, वहां पर उन्होंने शिक्षा प्राप्त की थी। उनकी आगे की शिक्षा इंग्लैंड में पूरी हुई। इंदिरा गांधी जी ने अलग-अलग स्थानों से शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने अलग-अलग विषयों पर भी अध्ययन किया और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया। इंदिरा गांधी जी को बचपन से ही तरह तरह की किताबें और पत्रिकाएं पढ़ने का शौक था, परंतु उनका अंग्रेजी भाषा की तरफ अधिक रुझान था।

इंदिरा जी का नामकरण उनके दादा जी द्वारा

इंदिरा गांधी जी का नाम उनके दादाजी ने रखा था क्योंकि उनका मानना था कि पुत्री के रूप में उनके घर में लक्ष्मी और दुर्गा माता आई हैं। यही वजह थी कि उन्होंने उनका नाम इंदिरा गांधी रखा।

इंदिरा गांधी जी का विवाह

इंदिरा गांधी जी का विवाह फिरोज गांधी जी से हुआ था। इंदिरा गांधी जी फिरोज से ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी में मिली थी। इसके पश्चात इंदिरा जी ने फिरोज गांधी से विवाह के बारे में सोचा और अपने पिताजी को यह बात बताई। परंतु नेहरु जी इस रिश्ते के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थे। उन्होंने इंदिरा गांधी को बहुत समझाया, परंतु वह नहीं मानी और आखिर में उनका विवाह फिरोज गांधी से हुआ। जिसके पश्चात उनके दो पुत्र हुए।

राजनीतिक सोच वाला परिवार

इंदिरा गांधी जी का परिवार राजनीतिक सोच और विचार रखने वाला परिवार था। इंदिरा गांधी 1941 को भारत वापस लौट आई थी।  उनका सिर्फ एक ही लक्ष्य था कि भारत को स्वतंत्रता दिलाना। जब 1947 को भारत आजाद हुआ, तब भारत का बंटवारा भी हुआ था। वहां लाखों लोगों को चिकित्सा इत्यादि की सहायता उन्होंने दी थी। इसीलिए राजनीतिक पार्टी में उनके प्रति विश्वास और अधिक बढ़ गया।

कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष

इंदिरा गांधी सिर्फ 42 वर्ष की थी, जब वह पार्टी के अध्यक्ष बन गई थी।  अचानक से 1964 को पंडित जवाहरलाल नेहरू जी की मृत्यु हो गई। इसके पश्चात इंदिरा गांधी जी ने चुनाव जीता और मंत्री बनी।

राष्ट्रीय कांग्रेस की सदस्य से देश की प्रधानमंत्री

इंदिरा गांधी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की सदस्य रही हैं। इसके अलावा उन्होंने 1959 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पार्टी अध्यक्ष के रूप में चुना गया। जब लाल बहादुर शास्त्री जी की अचानक से मृत्यु हो गई तब, 1966 में इंदिरा गांधी देश के प्रधानमंत्री बनाई गई थी। इंदिरा गांधी जी ने 17 वर्ष तक प्रधानमंत्री का कार्यकाल संभाला था। वह भारत की तीसरी महिला प्रधानमंत्री चुनी गई।

देश को बुलंदी तक पहुंचाया

इंदिरा गांधी जब भारत की प्रधानमंत्री बनी, तब उन्होंने देश को काफी ऊंचाइयों तक पहुंचाया। 1971 में इंदिरा गांधी के नेतृत्व में पाकिस्तान को युद्ध में हराया। इसके अलावा 1970 में बैंकों का राष्ट्रीयकरण भी किया। उन्होंने 2 कदमों में ही भारत के प्रधानमंत्री के रूप को परिभाषित कर दिया था। उन्होंने देश की रक्षा में प्रधानमंत्री के तौर पर अपने कर्तव्य को निभाया और संपूर्ण सहयोग दिया।

इंदिरा गांधी जी के शासनकाल में मुश्किल

इंदिरा गांधी जी को अपने शासनकाल में बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ा। उन्हें सब के तीखे व्यंग्य का शिकार होना पड़ा, परंतु उन्होंने संयम के साथ निर्णय लिया और पाकिस्तान को हराया व बांग्लादेश को आजादी दिलवाई।

मजबूत और बेहतरीन नेतृत्व

इंदिरा गांधी जी के नेतृत्व में बहुत काबिलियत थी। वह हर कार्य को बखूबी निभाती थी। उसके पश्चात उनके कार्यकाल का एक सबसे बड़ा फैसला अभी बाकी था। जब 1975 में विपक्षी दलों ने जस्टिस सिन्हा के ऐतिहासिक फैसले के खिलाफ विद्रोह किया था। देश के विपक्ष के प्रभाव को कम करने के लिए इंदिरा जी ने उस समय आपातकालीन स्थिति की घोषणा की थी, परंतु यह उनके लिए 1977 में हार का कारण बना।

प्रधानमंत्री के रूप में इतिहास रचा

इंदिरा गांधी बहुत ही साहसी, दृढ़ निश्चय, निडर और दूरदर्शिता रखने वाली महिला थी। साथ ही, उन्होंने गरीबों की समृद्धि लाने के लिए 20 सूत्रीय कार्यक्रम जैसा कदम उठाया। वह एकमात्र ऐसी महिला थी, जिन्होंने भारत के प्रधानमंत्री के रूप में इतिहास रचा और सभी के दिलों में अपनी जगह बनाई।

खालिस्तान की मांग

इसी दौरान लगातार खालिस्तान की मांग बढ़ रही थी। जिसकी वजह से खालिस्तान ने स्वर्ण मंदिर पर हमला किया। इस तरह इंदिरा गांधी जी ने सेना के द्वारा मंदिर को आतंकवादियों से मुक्त करने का आदेश दिया। अचानक 31 अक्टूबर 1984 को उनके ही दो सुरक्षा गार्डो ने उनकी गोली मारकर हत्या कर दी थी।

निष्कर्ष

इंदिरा गांधी जी ने अपने शासनकाल को बहुत ही बखूबी निभाया और उन्होंने भारत की स्थिति को ठीक करने का प्रयास किया। वह देश को सटीक और व्यवस्थित तौर पर चलाना चाहती थी। इंदिरा गांधी जी ने अपने बेहतरीन प्रतिभाओं के दम पर प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया। आज भी उन्हें गुणों, आकर्षक और बेजोड़ व्यक्तित्व के कारण याद किया जाता है। भारत को ऐसे प्रधानमंत्री पर गर्व है।

अंतिम शब्द

हमने यहां पर “ इंदिरा गांधी पर निबंध ( Essay on Indira Gandhi in Hindi)  ” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also :

कल्पना चावला पर निबंध

रानी लक्ष्मी बाई पर निबंध

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here