काले धन पर निबंध

Essay On Black Money In Hindi: आज के आर्टिकल में हम काले धन पर निबंध के बारे में बात करने वाले है। भारत में काले धन की बहुत अधिक समस्या है। आज के आर्टिकल में Essay On Black Money In Hindi के बारे में जानकारी आप तक पहुंचाई जाएगी।

Essay On Black Money In Hindi
Essay On Black Money In Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

काले धन पर निबंध | Essay On Black Money In Hindi

काले धन पर निबंध (200 शब्द)

भारत जनसंख्या की दृष्टि से बहुत बड़ा देश है और काफी करीबी माना जाता है, क्योंकि यहां चोरी और काला धन जैसी समस्याएं निरंतर चल रही है। राजनीति में फंसे हुए ज्यादातर लोग जिनके पास करोड़ों की तादात में काला धन है। काला धन को सफेद करने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सन 2016 में नोटबंदी की थी। 8 नवंबर 2016 में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा की गई, लेकिन उसमें भी कई प्रकार के घोटाले बैंक कर्मचारियों और राजनीति के नेताओं द्वारा किए गए, जिसकी मदद से ब्लैक मनी ज्यादा हाथ नहीं लगी।

लेकिन आपको बताना चाहूंगा, कि सरकार द्वारा काले धन को साफ करने के लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है और आने वाले समय में काले धन के खिलाफ जरूर कानून पारित किया जाएगा, ताकि काला धन सफेद करके गरीबों में बांटा जा सके। काले धन की वजह से अमीर व्यक्ति अमीर बनता जा रहा है और गरीब व्यक्ति गरीबी से जूझता जा रहा है, लेकिन यदि देश को काले धन से छुटकारा दिला दिया, तो जाहिर सी बात है, कि देश में गरीबी काफी कम हो जाएगी। वर्तमान में भी भारत के बाहर भी काला धन लाखों की संख्या में भारतीय लोगों के बड़े हैं।

आज के समय में भी सरकार से छुपकर बहुत सारे काम किए जाते हैं और उसी वजह से काला धन जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। काले धन की फायदे कम और नुकसान बहुत ज्यादा है, क्योंकि इसकी वजह से गरीब व्यक्ति निरंतर गरीब होता जाता है और अमीर व्यक्ति अमीर होता जाता है। सरकार द्वारा जिस प्रकार के प्रयास किए जा रहे हैं, उस प्रकार से अंदाजा लगाया जा सकता है, कि आने वाले समय में देश में काला धन का सफाया हो जाएगा। आपने भी अक्सर देखा होगा, कि सरकार द्वारा निरंतर बड़ी-बड़ी हस्तियों के घरों पर छापे मारे जाते हैं, क्योंकि जहां काला धन जमा होने का अंदेशा है, वहां पर छापा मारकर स्पष्टीकरण किया जाए।

काले धन पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना

काला धन को अगर आसान शब्दों में कहें, तो यह अवैध तरीके से अर्जित की गई राशि होती है। मुख्य रूप से टैक्स को बचाने के लिए इसको बाहर प्रदर्शित नहीं किया जाता है। यह मुद्दा भारत में बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है और सरकार ने इससे निपटने के लिए कई योजनाएं और कार्यक्रम चला रही है। काले धन को एकत्रित करने के कई सारे तरीके हैं, यह अवैध धंधा कई दशकों से चला आ रहा है।

काले धन के स्रोत

अब आपके मन में एक सवाल आया होगा, कि जब काले धन के इतने नकारात्मक प्रभाव होते हैं, तो सरकार इसके लिए कोई विशेष कदम क्यों नहीं उठा रही है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि सरकार इसके लिए कठोर कानून लागू करने वाली है। इस बीमारी से छुटकारा लेने के लिए कई तरह की को अपनी नीतियां बनाई जा रही हैं।

आपको तो पता ही होगा, कि राज कर, सीमा कर, उत्पाद कर,निगम कर और भी अन्य प्रकार के करो से काले धन की चोरी की जाती है। काले धन की बात करें, तो यह समस्या हमारे देश में सबसे ज्यादा है। यह समस्या आर्थिक समानता की सूची में पहले नंबर पर है। इस बीमारी को बढ़ाने वाले कई सारे कारक है।

सबसे अधिक काला धन कमाने वाले अधिकारी वर्ग के लोग होते हैं। कभी कभी बहुत सी कंपनियों के लोग भी काले धन को एकत्रित करते हैं, जिससे वह अधिक टैक्स ना जमा करें, यह सारा फंडा टैक्स को बचाने के लिए किया जाता है, यदि यह लोग समय पर टैक्स अदा कर दें, तो सरकार उनसे कई प्रकार की नई योजनाओं बना सकती है।

सबसे अधिक अगर काला धन की बात करें, तो यह फैक्ट्रियों में देखने को मिलती है, क्योंकि इनके मालिक अधिक टैक्स देने से बचते हैं। वैसे फैक्ट्री के अलावा बड़े बड़े अधिकारी वर्ग के लोग भी इसमें शामिल होते है, वह लोग जो इल्लीगल कार्य करते हैं। वह अपना पैसा सरकार की नजरों में बचाते हैं, जिससे उन्हें किसी प्रकार का टैक्स सरकार को ना देना पड़े।

काले धन की समस्या को नियंत्रित कैसे करें?

काले धन की समस्या को रोकना बहुत ही जरूरी है, क्योंकि यह किसी भी देश की आर्थिक और प्रगति के विकास में बाधा उत्पन्न करती है। हमने कुछ ऐसे ही तरीके यहां पर बताए हैं, जिनसे आप काले धन की समस्या को रोक सकते हैं। सबसे पहले जो बड़ी हस्तियां, मशहूर कलाकार, राजनेता और अधिकारी वर्ग के लोग अपना कर के जमा करने के बारे में सभी लोगों को जानकारी दें, जिससे पारदर्शिता बढ़ेगी और लोग अधिक से अधिक कर जमा करेंगे, जिससे देश का विकास होगा। हमें उन लोगों को प्रसारित करना चाहिए, जो कर का खुलासा अपने स्वैच्छिक रूप से करते हैं। प्रशासनिक भ्रष्टाचार को विभिन्न स्तर पर नियंत्रित करना चाहिए।

यदि सबसे अधिक भ्रष्टाचार होता है, तो वह ऑफिस में होता है, क्योंकि जब बड़े अधिकारी भ्रष्टाचार करने लगते हैं, तो अन्य पदों पर विराजमान लोग भी भ्रष्टाचार की शुरुआत कर देते हैं। ऐसे में अगर इन लोगों पर पाबंदी लगाई जाए, तो भ्रष्टाचार बहुत ही कम हो सकता है। सरकार को उन लोगों खिलाफ कड़े से कड़े कानून बनाना चाहिए, जो अपना टैक्स जमा नहीं करते हैं।

ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जो अपने घरों में रुपए छुपा कर रखते हैं। यह अधिकतर किसी बड़े फैक्ट्री के मालिक या अन्य कोई कार्य करते हैं। जिसको यह काले धन के रूप में अपने घरों या अन्य किसी जगह पर छिपा देते हैं। सबसे पहले हमें अपने अंदर ही सुधार लाना होगा, तभी हम दूसरों को भ्रष्टाचार करने से रोक तथा काला धन को एकत्रित करने से मना व उनके ऊपर कार्रवाई करवा सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों! हमें कभी भी किसी प्रकार का काला धन एकत्रित नहीं करना चाहिए। यदि हमारे आसपास ऐसा होता है, तो हमें तुरंत इसकी सूचना पुलिस विभाग को देनी होगी, जिससे हम सरकार की मदद कर सकते हैं।

अंतिम शब्द

आज के आर्टिकल में हमने काले धन पर निबंध (Essay On Black Money In Hindi) के बारे में बात की है। उम्मीद करता हूं, कि हमारे द्वारा दी गई है, जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल है, तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैै।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here