अदार पूनावाला का जीवन परिचय

Adar Poonawalla Biography in Hindi: अदार पूनावाला को वर्तमान में वैक्सीन किंग कहा जा रहा है, अदार पूनावाला साइरस पूनावाला के बेटे है। यह वर्तमान में वैक्सीन बनाने वाली कम्पनी सीरम इंस्टिट्यूट के सदस्य है। भारत में दो तरह की वैक्सीन बनाई गई है, जिसमें से एक अदार पूनावाला के सीरम इंस्टिट्यूट के द्वारा बनाई गई है।

Adar Poonawalla Biography in Hindi
Adar Poonawalla

कोरोना संक्रमण के बाद से अदार पूनावाला का नाम सामने आया था। इसके साथ ही सीरम इंस्टीट्यूट का नाम भी हर कोई जानने लगा है। भारत दुनिया में सबसे बड़ा वैक्सीन उत्पादक बना है, जिसने अपने देश और दूसरे देशों के लिए वैक्सीन का निर्माण किया है। आइये जानते है अदार पूनावाला के बारे में।

अदार पूनावाला का जीवन परिचय (Adar Poonawalla Biography in Hindi)

नामअदार पूनावाला
जन्म और जन्म स्थान14 जनवरी 1981
पिता का नामसाइरस एस पूनावाला
माता का नामविलू पूनावाला
पेशाव्यवसायी

अदार पूनावाला का करिअर

अदार पूनावाला की स्कूली शिक्षा बिशप स्कूल (पुणे) और सेंट एडमंड स्कूल कैंटरबरी स्कुल से हुई है। उसके बाद हायर एजुकेशन वेस्टमिंस्टर विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। अदार पूनावाला ने अपना ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद अपने करियर की शुरुआत की शुरुआत की और 2001 में अपने पिता Cyrus S. Poonawalla के सीरम इंस्टिट्यूट में शामिल हुए और कार्य करने लगे।

सीरम इंस्टिट्यूट के द्वारा बनाये गए उत्पादों को दुनियाभर के 35 से अधिक देशों में निर्यात करते है। वह अपने व्यापार को अन्तर्राष्ट्रीय बाजार पर केंद्रित करना चाहते थे। अदार पूनावाला ने विश्व स्वास्थ्य संगठन से नए उत्पादों को बनाने लिए लाइसेंस प्राप्त किया। उन्होंने यूनिसेफ और पीएएचओ जैसी संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों को अपनी कंपनी के उत्पादों को निर्यात किया है।

सीरम इंस्टीटूट के CEO अदार पूनावाला

अदार पूनावाला ने सीरम इंस्टीटूट में शामिल होने के बाद उन्होंने अपनी कंपनी के उत्पादों को लगभग 140 देशों में निर्यात किया और 85 प्रतिशत उनके कुल राजस्व का विदेशों से आने लगा है। इसके बाद कंपनी के प्रतिदिन के कार्यो में इनके द्वारा सहयोग किया जाने लगा। वह सीरम इंस्टीटूट के CEO बन गए।

नीदरलैंड स्थित सरकारी वैक्सीन निर्माण कंपनी बिल्थोवेन बायोलॉजिकल्स का 2012 में उनकी कंपनी ने अधिग्रहण (Acquisition) किया और चेक गणराज्य में प्राहा वैक्सीन लिमिटेड का 2017 में अधिग्रहण किया। सीरम इंस्टीट्यूट ने ओरल पोलियो वैक्सीन की शुरुआत सन 2017 में की जब कंपनी ने इसको लॉन्च किया, उसका बेस्टसेलर उत्पाद बन गया।

रिपोर्ट के अनुसार बताया जा रहा है कि उन्होंने अपनी कंपनी उत्पाद पोर्टफोलियो का विस्तार करने की योजना भी बनाई। उन्होने अपनी कंपनी में डेंगू, फ्लू और सर्वाइकल कैंसर के टीकों के उत्पादन में शामिल करने का फैसला लिया। कंपनी के सीईओ के रूप में अदार पूनावाला कार्यरत है और हर साल कंपनी को अपने उत्पाद पोर्टफोलियो का विस्तार करने की योजना बाने में लगे हुए है।

अदार पूनावाला का जन्म और परिवार

अदार पूनावाला का जन्म 14 जनवरी 1981 को हुआ है। इनकी पत्नी नताशा पूनावाला है, जो इन्हें विजयमाल्या की एक पार्टी के दौरान मिली और उसके बाद उन्होंने इनके साथ शादी की। इनके दो बच्चे है। इनके माता-पिता साइरस एस पूनावाला, विलू पूनावाला है। इनके दादा का नाम सोली ए. पूनावाला है।

अदार पूनावाला द्वार प्राप्त पुरुस्कार

  • अदार पूनावाला को सार्वजनिक स्वाथ्य के लिए कोई पुरुस्कारों से पुरुस्कृत किया गया।
  • अदार पूनावाला को साल 2016 में परोपकारी व्यक्ति का भी पुरस्कार मिला था। ये जीक्यू पत्रिका की 50 सबसे प्रभावशाली युवा भारतीयों की सूची में भी शामिल हो चुके हैं।
  • साल 2017 में इन्हें कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी बिजनेस कैटेगरी में इंडियन ऑफ द ईयर से नवाजा गया था।
  • अदार पूनावाला को हॉल ऑफ फेम अवार्ड्स 2017 में ह्यूमैनिटेरियन एंडेवर अवार्ड भी मिला। यह अवार्ड उन्हें स्वास्थ्य योजनाओ में उनका महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए दिया गया है। सन 2019 में ही cnn न्यूज़ 18 ने न्यूज़ सीएसआर की बिजनेस कैटेगरी में उन्हें इंडियन ऑफ द ईयर के रूप में भी सम्मानित किया गया था।
  • महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस द्वारा 2018 में, उन्होंने एज महाराष्ट्र अचीवर्स अवार्ड्स समारोह में प्रस्तुत बिजनेस लीडर ऑफ द ईयर अवार्ड जीता, जो कि सबसे अच्छे बिज़नेस मेंन को दिया जाता है। इसके साथ ही उन्होंने वर्ष की कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के लिए बाद में इंडियन बिजनेस लीडर अवार्ड्स में CNBC TV18 द्वारा CNBC एशिया का पुरस्कार जीता।
  • अदार पूनावाला को साल 2020 में फॉर्च्यून पत्रिका की वैश्विक ’40 अंडर 40 ‘ सूची में भी नामित किया गया था।
  • इसके अतिरिक्त कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में भी उनकी अहम भूमिका के कारण एशियन ऑफ द ईयर के रूप में भी इन्हें नामित किया गया था।

घोड़ों के व्यापार से शुरुआत की

यह कहा जाता है कि पूनावाला का परिवार ब्रिटिश राज के दौरान 19वीं शताब्दी में भारत के पुणे में आया था। यह पारसी परिवार ब्रिटिशों के शासन काल के दोर्णा भारत आकर रहने लगे है। स्वतंत्रता से पहले दौर में इनके परिवार का कारोबार कंस्ट्रक्शन में था। लेकिन उससे ज़्यादा फायदा उनको घोड़ों के व्यापर से हुआ है।

आज भी इन्हें लोग घोड़ों के कारोबार से लोग जानते हैं। घोड़ों का कारोबार अदार के दादा सोली पूनावाला ने शुरू किया था। इनके द्वारा कई किस्में के रेस घोड़े खरीदे और बेचे जाते थे। इस तरह से आज यह वैक्सीन किंग के रूप में जाने जाते है, इनके परिवार का सफर काफी लम्बा है।

अदर पूनावाला से जुड़े विवाद

अदार पूनावाला से संबंधित कुछ खास विवाद तो नहीं है लेकिन एक बार वे विवादों में तब घिर गए जब 4 जनवरी 2021 को एनडीटीवी के साथ एक साक्षात्कार दे रहे थे। इंटरव्यू के दौरान अदार पूनावाला ने भारत बायोटेक के कोवैक्सिस पर एक व्यंग करते हुए कहा कि दुनिया में केवल तीन ही कोविड-19 के टीके फाइजर बायोएनटेक, मॉडर्ना और ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका (सीरम संस्थान द्वारा निर्मित) है, जो विश्वसनीय है।

क्योंकि इन टीको ने नैदानिक प्रभावकारिता परीक्षण को पास कर लिया है। बाकी टीके तो पानी की तरह सुरक्षित है। अदार पूनावाला की इस टिप्पणी के बाद भारत बायोटेक के अध्यक्ष कृष्णा एला ने भी एक बयान जारी करते हुए कहा वे कि 100% ईमानदार क्लीनिकल परीक्षण करते हैं। लेकिन कुछ कंपनियां उन्हें पानी का ब्रांड बताती है, जिस बात को लेकर उन्होंने इनकार जताया।

हालांकि बाद में यह विवादित धीरे काफी बढ़ने लगा, जिसके बाद फिर आगे यह दोनों कंपनियां एक साथ आई और पहले हुए गलत संचार को दूर करने के लिए दोनों ने हीं संयुक्त रूप से बयान जारी किया। जिसमें इन दोनों कंपनियों ने कहा कि यह दोनों ही कंपनियां कोविड-19 से लड़ने के लिए एक दूसरे के द्वारा किए गए कार्यों का सम्मान करती है।

अदार पूनावाला से जुडी खास बातें

  • लन्दन में ग्रोसवेनर हाउस में 550 मिलियन यूरो की बोली 2014 में उन्होंने और उनके पिता के द्वारा लगाई गयी, जो एक बहुत बड़ी राशि थीहै।
  • प्रधनमंत्री द्वारा 2017 में उन्हें स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर के रूप में नामिनित कियाहै।
  • 2020 में उनके द्वारा बताया गया कि सीरम इंस्टिट्यूट COVID-19 की वैक्सीन बनाने के लिए ऑक्सफ़ोर्ड और एक ब्रिटिश कंपनी के साथ साझेदारी में है।
  • अदार पूनावाला अपनी लाइफ स्टाइल के लिए चर्चा में बने रहते है।
  • साल 2010 में अदर पूनावाला की माता विल्लू पूनावाला की मृत्यु हो गई, जिसके बाद अदार पूनावाला ने चैरिटी पर ध्यान दिया। साल 2012 में उन्होंने अपनी मां की याद में विल्लू पूनावाला फाउंडेशन की भी शुरुआत की, जो भारत में वंचित लोगों की शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी और स्वच्छता सुविधा कम किमतो पर प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त इस फाउंडेशन के पास कुछ उप परियोजना भी है जैसे कि 10000 से भी अधिक छात्रों के लिए एक अस्पताल, केई जल उपचार संयंत्र और 8 स्कूल आदिहै।
  • उनके पास अपना खुद का जेट है, जो उनके मुंबई स्थति ऑफिस में रहता है और यह उसी को अपने ऑफिस के रूप में कार्य में लेते हैहै।
  • साल 2021 में जब पूरे दुनिया में कोरोना मरीज फैली हुई थी, उस समय भारत में कोविड-19 वैक्सीन को भी सेंड की तत्काल आपूर्ति के लिए भारत के कई मंत्री, व्यापारी और शक्तिशाली लोगों से धमकी भरे फोन आ रहे थे, जिसके कारण वे अपने परिवार सहित लंदन चले गए। उन्होंने लंदन जाने की भी बात जाहिर करते हुए कहा था कि वह कुछ समय तक लंदन में ही रहेंगे। क्योंकि यहां पर उनके और उनके परिवार पर खतरा है जब स्थिति सामान्य हो जाएगी तब वह वापस आएंगे।
  • अदार पूनावाला के पास 35 क्लासिक कारो का कलेक्शन है, उन्हें कारो का काफी शोक है।
  • साल 2015 में पर्यावरण की रक्षा के लिए आधार पूनावाला ने क्लांस सिटी नामक स्थाई पहल शुरू की, जिसका उद्देश्य भारत के शहरी इलाकों में ठोस कचरे का प्रबंध करने के तरीकों में सुधार लाना है ताकि पर्यावरण शुद्ध रहे। अदार पूनावाला ने इस पहल की शुरुआत सबसे पहले पुणे शहर से की थी। विभिन्न शहरों में यह परियोजना का विस्तार हो सके, इसके लिए उन्होंने स्वयं से 100 करोड़ रुपए का दान भी दिया था। इस परियोजना की सराहना भारत के प्रधानमंत्री सहित देश के अन्य कई प्रसिद्ध हस्तियों ने किया थाहै।
  • सीरम इंस्टिट्यूट का कैंपस 100 एकड़ में फैला हुआ है।
  • उनके द्वारा यह भी कहा गया है वैक्सीन का 50 प्रतिशत का हिस्सा भारत के लिए होगा बाकि का वे अन्य जीएवीआई देशों में वितरित करेंगेहै।
  • सायरस ने सीरम इंस्टीट्यूट की शुरुआत पाँच लाख रुपये से की थी जो आज अरबों रूपए तक पहुंच गयी है।
  • अदार पूनावाला दुनिया के 165वें नंबर के अमीर शख़्स हैं।
  • आज उनका कारोबार 165 देशों में फैला हुआ है।
  • यह भारत के छठे सबसे अमीर आदमी बन चुके है।
  • 2015 में उन्होंने मुंबई में समुद्री तट मकान ख़रीदा था, जो पहले अमेरिकी वाणिज्यिक दूतावास हुआ करता था। उस समय इसकी कीमत 11 करोड़ अमेरिकी डॉलर थी।

अदार पूनावाला आज के समय में एक सफल प्रसिद्ध व्यक्ति है, जिन्होंने दवाइयों के उत्पादन में अपने देश का नाम आगे रखा है। उनके द्वारा बनाई जाने वाली वैक्सीन का उपयोग आज पूरे देश के साथ-साथ विदेशों में भी किया जा रहा है।

उन्होंने अपने इंस्टिट्यूट में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी को भी आमंत्रित किया था और उन्हें वेक्सिनेशन के कार्यो की रुपरेखा बताई है। वर्तमान में यह अखबारों की सुर्खियों में अपने कार्यो और लाइफ स्टाइल के कारण बने रहते है।

अदर पूनावाला के शौक

  • पूनावाला को कई चीजों का शौक है, उन्हें घुड़दौड़ करने का शौक है और इसके लिए पुणे में उनके स्टड फार्म हाउस में कई सारे घोड़े भी हैं, जहां पर भी घुड़सवारी का आनंद लेते हैं।
  • आधार पुणे वाले को घूमने फिरने का भी काफी शौक है। यह खाली समय में अपने परिवार के साथ छुट्टियों पर जाना पसंद करते हैं। इटली और फ्रांस की यात्रा बेहद पसंद है।
  • अदर पूनावाला को कारों का संग्रह करना काफी पसंद है। इनके पास पुरानी कारें और क्लासिक तारों का संग्रह है। मर्सिडीज एसएलएस एएमजी, लेम्बोर्गिनी गैलार्डो, पोर्श केयेन, बीएमडब्ल्यू 760 ली, रोल्स रॉयस फैंटम, बेंटले कॉन्टिनेंटल फ्लाइंग स्पर, बैटमोबाइल (मर्सिडीज एस 350 पर आधारित), फेरारी 458 इटालिया, फेरारी 488 पिस्ता स्पाइडर और फेरारी 360 स्पाइडर जैसे मंहगे कार उनके पास है।
  • अदर पूनावाला तारों को संग्रह करने के अतिरिक्त एक शांत भरा उड़ान करने का भी काफी शौक है। इसके लिए उनके पास गल्फस्ट्रीम G550 विमान भी है। यह विमान काफी तेज गति के लिए जाना जाता है, जो मात्र 13 घंटे में दुनिया के किसी भी देश की यात्रा पूरी करवा सकता है।

FAQ

अदर पूनावाला ने अपनी पढ़ाई कहां से पूरी की है?

अदर पूनावाला ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा महाराष्ट्र के पुणे में द बिशप स्कूल से की। आगे की शिक्षा पूरी करने के लिए उन्हें लंदन भेज दिया गया, जहां पर आधार पूर्णा वाले ने साल 2002 में यूनिवर्सिटी आफ वेस्टमिंस्टर से बिजनेस मैनेजमेंट में बीए ऑनर्स स्नातक की डिग्री हासिल की।

अदर पूनावाला की करियर कहां से शुरु हुई?

अदार पूनावाला ने अपनी स्नातक की डिग्री लंदन से प्राप्त करने के बाद भारत वापस आ गए और यहां साल 2002 में टिके बनाने के लिए पारिवारिक व्यवसाय में शामिल हुए। जहां पर इन्होंने अपने पिता के देखरेख में काम किया और उसके बाद फिर साल 2005 में सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के निदेशक मंडल से जुड़ गए। साल 2011 में इन्हें सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर बनाया गया।

अदार पूनावाला कौन से धर्म के हैं?

अदर पूनावाला पारसी धर्म के हैं।

अदार पूनावाला कौन है?

अदर पूनावाला एक भारतीय उद्योगपति हैं। यह वैश्विक वैक्सीन गठबंधन, GAVI एलायंस के बोर्ड सदस्य हैं। यह सिरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया के सीईओ भी है। यह इंस्टिट्यूट इनके पिता डॉक्टर साइरस.एस पूनावाला द्वारा स्थापित है, जिसे 1996 में स्थापित किया गया था। यह इंस्टिट्यूट भारत के वैक्सिंग किंग के रूप में जाना जाता है।

निष्कर्ष

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी अदार पूनावाला का जीवन परिचय (Adar Poonawalla Biography in Hindi) पसंद आई होगी, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

एलन मस्क का जीवन परिचय

बिल गेट्स का जीवन परिचय

निर्मल गहलोत का जीवन परिचय

बायजू रवींद्रन का जीवन परिचय

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here