सोने के आम (तेनालीराम की कहानी)

सोने के आम (तेनालीराम की कहानी) | Sone Ke Aam Tenali Rama ki Kahani

विजयनगर साम्राज्य के राजा कृष्णदेव राय की माता वृद्ध अवस्था में होने के कारण बहुत ही बीमार रहती थी। महाराजा कृष्ण देव राय अपनी मां को बीमार देखकर उदास रहते थे, अगले दिन उनकी मां ने खाना पीना छोड़ दिया।

जब उनको पता चला की अब उनकी उम्र ज्यादा नहीं है, तब अपने पुत्र कृष्ण देव राय को अपने पास बुलाया और कहा बेटा मेरी इच्छा है की मैं मरने से पहले सभी ब्राह्मणों को आम दूं। इतना कहने के बाद उनकी सांसे रुक गई और इसी के साथ उनका स्वर्गवास हो गया।

Sone Ke Aam Tenali Rama ki Kahani
Images:-Sone Ke Aam Tenali Rama ki Kahani

महाराज बहुत दुखी हुए। क्योंकि वह अपनी मां की अंतिम इच्छा पूरी ना कर सके। महाराज ने दो दिन तक कुछ भी नहीं खाया और हमेशा चिंता में ही रहते। अगले दिन उन्होंने का उपाय करने के लिए ब्राह्मणों को बुलाया। राजा ने ब्राह्मणों को अपनी पूरी बात बताई।

राजा की बात सुनकर ब्राह्मणों ने मंत्र उच्चारण शुरू किए और बोले ”हे राजन! आपकी माता ने मृत्यु से पहले सभी ब्राह्मणों को आम देने की इच्छा आपके सामने प्रकट की लेकिन भगवान ने यह नहीं चाहा और आपकी मां उससे पहले ही गुजर गई। ऐसे में आपकी मां की इच्छा पूरी ना होने के कारण उनकी आत्मा इधर उधर भटकती रहेगी। राजा ने ब्राह्मणों से इसका उपाय मांगा।

महाराज ब्राह्मणों से बोले मैं अपनी मां की शांति के लिए कुछ भी करने को तैयार हूं। आप बस उपाय बताइए। ब्राह्मणों ने महाराज की हामी को देखते हुए बोले महाराज आपकी मां की शांति के लिए आपको मां की पुण्यतिथि के दिन सभी ब्राह्मणों को भोजन करवाना होगा और उसके साथ ही उन्हें एक एक सोने का आम देना होगा।

यह भी पढ़े: शिकारी झाड़ियां (तेनालीराम की कहानी)

महाराज ने ब्राह्मणों की बात मान ली। सभी ब्राह्मणों को पुण्य तिथि के दिन स्वादिष्ट भोजन करवाया गया और सबको एक-एक सोने का आम भी दिया गया। यह सारा दृश्य तेनाली रामा देख रहे थे। तेनाली रामा को भनक लग गई कि जरूर यह ब्राह्मण बेईमानी कर रहे हैं। तेनाली रामा ने उस वक्त अपने आप को चुप रहना ही समझा। लेकिन उन्होंने ठान ली कि ब्राह्मणों को सबक जरूर सिखाऊंगा।

अब तेनाली रामा ने भी अपनी मां की शांति के लिए उन सभी ब्राह्मणों को पुण्यतिथि पर घर बुलाया। तेनाली रामा ने उन ब्राह्मणों का स्वागत बहुत अच्छी तरीके से किया। सभी ब्राह्मणों को उन्होंने स्वादिष्ट भोजन करवाया। जब सभी ब्राह्मणों ने भोजन कर लिया तब तेनाली रामा ने अपने नौकर से गर्म सलाखें लाने को कहा। सलाखों की बात सुनकर सभी ब्राह्मण चकित रह गए। सभी ब्राह्मण तेनाली रामा से पूछते हैं गरम सलाखें….. किस लिए! उनका क्या करोगे?

विधि में गर्म सलाखों का कोई कार्य नहीं है। तेनाली रामा मन ही मन मुस्कुराते हुए बोले की मेरी मां के शरीर पर फोडे हो चुके थे, मेरी मां की इच्छा थी कि मैं उन फोटो पर गर्म सलाखों से सिकाई करूं। लेकिन उससे पहले मेरी मां चल बसी। यही उनके आखिरी इच्छा थी तो अब मैं आपको गर्म सलाखों से दागुंगा, जिससे मेरी मां का दर्द कम हो और उनकी आत्मा को शांति मिल जाए। सभी ब्राह्मण तेनाली रामा की बातें सुनकर कांपने लगे। ब्राह्मण बोले हमें गर्म सलाखों से दागने पर तेरी मां को शांति कैसे मिलेगी?

तेनाली रामा ने जवाब दिया जब महाराज के सोने के आम देने पर उनकी मां को शांति मिल सकती है तो आपको दागने पर मेरी मां को शांति कैसे नहीं मिल सकती। सभी ब्राह्मणों को समझ में आ गया था कि तेनालीरामा क्या कहना चाहता है। सभी ब्राह्मणों ने तेनाली रामा के सामने अपनी गलती मान ली और उनसे क्षमा भी मांगी।

ब्राह्मणों ने जो सोने के आम महाराज से लिए थे सभी ने तेनाली रामा को वापस लौटा दिए। सारे सोने के आम लेकर तेनाली रामा दरबार पहुंच गया । तेनाली रामा की इस हरकत को देखकर महाराज बहुत क्रोधित हुए। बोले कि अगर आपको आम ही चाहिए थे तो मुझसे मांग लेते, ब्राह्मणों से छीनने की क्या आवश्यकता थी, इतना लालच ठीक नहीं।

तेनाली बोले महाराज मैं लालची नहीं हूं और ना ही यह आम मैंने ब्राह्मणों से छीने हैं, उन्होंने खुद मुझे यह आम दिए हैं। दरसल यह सभी ब्राह्मण आपकी मजबूरी का फायदा उठा रहे थे। तो मैं इनकी लालची प्रवृत्ति को रोकने के लिए यह उपाय किया और इन सबको सबक सिखाया।

उन्होंने खुद अपनी गलती मानी और मुझे यह आम आपको वापस लौट आने के लिए दे दिए। राजा को तेनाली रामा की सारी बातें समझ में आ गई थी। उन्होंने सभी ब्राह्मणों को राज दरबार में बुलाया और ऐसा काम ना करने की सलाह दी।

कहानी की सीख

हमें कभी भी लालच नहीं करना चाहिए, और इस तरह दूसरों की मजबूरी का फायदा नहीं उठाना चाहिए।

तेनाली रामा की सभी मजेदार कहानियां पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here