स्लीपिंग ब्यूटी की कहानी

स्लीपिंग ब्यूटी की कहानी | Sleeping Beauty Story In Hindi

एक समय की बात है एक राज्य में एक राजा और उसकी रानी रहते थे। वे दोनों अपनी प्रजा का बहुत सम्मान और उनकी परवाह करते थे। उनके इसी स्नेही स्वभाव के कारण राज्य की प्रजा राजा औऱ रानी को बहुत सारी दुआएं देते थे।

सब कुछ होते हुए भी राजा और रानी के जीवन में बस एक ही कमी थी कि उनके कोई संतान नही थी। और इस कारण दोनों बहुत दुःखी थे। रानी सदैव सूर्यदेवता की पूजा करती थी क्योंकि उसे विश्वास था कि एक दिन सूर्य देवता उसकी श्रद्धा को देख जरूर खुश होंगे। और उन्हें सन्तान की प्राप्ति होगी।

Sleeping-Beauty-Story-In-Hindi
Image: Sleeping Beauty Story In Hindi

एक दिन राजा और रानी दोनों बगीचे में टहलने जाते है। दोनों प्रकृति का आनंद लेते है। उसी बगीचे में एक तालाब था। राजा और रानी टहलते हुए तालाब के किनारे चले जाते है। तालाब में एक बड़े से पत्ते पर उन्हें एक मेंढक दिखाई दिया। वह मेंढ़क उनके पास आता है और भविष्यवाणी करता है कि बहुत जल्द रानी की इच्छा पूरी होगी और उनकी गोद भर जाएगी।

दिन बीते और आखिरकार रानी की गोद हरी हो गई। राजा के यहाँ एक प्यारी सी बेटी का जन्म हुआ। बिटिया के जन्म से पूरे राज्य में खुशी की लहर चल पड़ी। राजा ने कहा कि बेटी का जन्म सूर्य देवता की कृपया से हुआ है तो उसका नाम सनशाइन होगा। सब तरफ खुशियां ही खुशियां थी।

राजा अपनी बेटी के जन्म पर एक भव्य आयोजन रखता है। वह सभी परियों और पूरी प्रजा को महल में आमंत्रित करता है। लेकिन वह काली परी को बुलाना भूल जाता है। सब लोग सनशाइन को आशीर्वाद दे रहे थे, तभी काली परी को यह देख बहुत गुस्सा आता है।

यह भी पढ़े: फूलों की राजकुमारी थंबलीना की कहानी

वह भरी सभा में प्रकट हुई और उसे न बुलाने की वजह से क्रोध में आकर राजा की बेटी को श्राप देती है कि जब सनशाइन 15 साल की होगी तो एक कील चुभने से उसकी मौत हो जाएगी। ऐसा कहकर काली परी गायब हो गई।

ये सुनकर राजा व रानी दोनों बहुत दुःखी हो गए। तब सफेद परी से दोनों की परेशानी देखी नही गई और उसने राजा को सांत्वना देते हुए कहा कि मैं श्राप को हटा तो नही सकती हूँ लेकिन कम जरूर कर सकती हूँ।

इसलिए जब सनशाइन 15 वर्ष की होगी तब कील चुभने से वह 100 साल के लिए गहरी नींद में सो जायेगी और उसके साथ राज्य के सभी लोग भी गहरी नींद में सो जाएंगे। लेकिन जब एक सुंदर राजकुमार महल में आकर सनशाइन का हाथ चुमेगा तो सब वापस जाग जायेंगे। ऐसा कहकर सफेद परी भी गायब हो गई।

अब दिन बीतते है और सनशाइन 15 वर्ष की हुई। उसी दिन राजा और रानी को किसी काम से राज्य से बाहर जाना था। वे दोनों सनशाइन को दासी के भरोसे छोड़कर चले जाते है।

सनशाइन अपनी बॉल के साथ खेल रही थी तभी उसकी बॉल लुढ़कती हुई तहखाने में चली जाती है, वह भी बॉल के पीछे-पीछे चली गई तभी उसे वहाँ पर एक चरखा दिखा। उसने चरखे के पास जाकर अच्छे से देखा और उसे हाथ लगाया तो चरखे की कील उसके हाथ मे चुभ गई और कील के चुभते ही सनशाइन गहरी नींद में सो गई।

यह भी पढ़े: स्नो व्हाइट और सात बौनों की कहानी

दास दासिया सनशाइन को पूरे घर मे ढूंढते है, अंत मे वे तहखाने में जाकर देखते है तो उन्हें वहाँ सनशाइन सोयी हुई मिलती है। वे उसे वहाँ से उठाकर कमरे के पलंग पर लाकर सुला देते है और धीरे-धीरे महल के सभी लोग भी गहरी नींद में चले जाते हैं।

कई साल बीत गए और महल के चारों तरफ घनी कंटीली झाड़िया उग गई। अब वहाँ किसी का भी आना-जाना सम्भव नही था।

महल के बारे में सुनकर बहुत सारे राजकुमार वहाँ आये तो सही पर कभी वापस नही गए। क्योंकि काली परी के श्राप के कारण वे सभी गहरी नींद में सो जाते थे।

एक दिन महल के किस्से सुनकर एक राजकुमार वहाँ आने की योजना बनाता है। सब लोग उसे मना करते है लेकिन वह किसी की नही सुनता है।

और महल की तरफ घोड़ी लेकर चल पड़ता है।

जब वह महल की तरफ आता है तो कांटे और झाड़ियां अपने आप ही हटने लगते है। राजकुमार महल के अंदर पहुंचकर सीधे राजकुमारी के कमरे में प्रवेश करता है तो वह राजकुमारी को देखकर उससे मोहित हो जाता है।

राजकुमारी का हाथ चूमने लगता है, जैसे ही वह ऐसा करता है तो राजकुमारी उठ जाती है और धीरे-धीरे सब लोग जाग जाते है। अब सबने राजकुमार को धन्यवाद दिया और राजकुमारी को भी राजकुमार से प्यार हो गया। उन दोनों की शादी करवा दी गई। अब सब महल में फिर से खुशी-खुशी रहने लगे।

सीख: अगर आप किसी के साथ अच्छा करते हो तो आपके साथ भी अच्छा ही होता है।

यह भी पढ़े:

मेंढक राजकुमार की कहानी

पिनोकियो की कहानी

लाल परी की कहानी

रॅपन्ज़ेल की कहानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here