आयात निर्यात का बिजनेस कैसे शुरू करें?

Import Export Business in Hindi: नमस्कार दोस्तों, आज हम अपने इस लेख के माध्यम से जानेंगे एक्सपोर्ट और इंपोर्ट के बिजनेस के विषय में। वर्तमान समय मे वैश्वीकरण के युग में आयात और निर्यात की महत्वता बहुत ही ज्यादा विकसित हो चुकी है और वर्तमान समय में यदि किसी देश में किसी वस्तु या खाद्य पदार्थों का उत्पादन नहीं हो रहा है, तो वह देश उस वस्तु का आयात किसी अन्य देश से करता है।

वही यदि किसी देश में चीजें या कोई भी उत्पादन पदार्थ अधिक मात्रा में उत्पादित हो रहा है तो वह अपने प्रोडक्ट को दूसरे देश में सेल कर सकते हैं। प्रोडक्ट की इस सेलिंग की इस क्रिया को निर्यात कहते हैं। आयात और निर्यात के बिजनेस को करने के लिए बहुत से नियम होते हैं, जिनका पालन करना होता है और इस बिजनेस को करने के लिए विशेष रूप से पंजीकरण आवश्यक है।

अन्यथा आप अपने प्रोडक्ट को किसी अन्य देश या फिर किसी अन्य देश के प्रोडक्ट को अपने यहां नहीं मगा पाएंगे। आयात और निर्यात के बिजनेस को करने के लिए बहुत सी शर्तें होती है, जैसे कि देश में क्या-क्या वस्तुएं आयात की जा रही हैं और कौन-कौन सी वस्तुएं निर्यात की जा रही हैं। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि लोग प्रतिबंधित वस्तुओं जैसे कि नशीले पदार्थ का निर्यात आयात करते हैं तो उन्हें जेल भी हो सकती है।

Import Export Business in Hindi
Image: Import Export Business in Hindi

आज आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख में आयात निर्यात व्यवसाय (Export Import Business Ideas in Hindi) के विषय में सभी जानकारियां विस्तार पूर्वक से जानने को मिलेगी और इसके साथ-साथ आपको खुद का आयात निर्यात बिजनेस शुरू करने के तरीके के बारे में भी बताया जाएगा।

आज आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखे गए इस महत्वपूर्ण लेख में जानने को मिलेगा कि आयात निर्यात बिजनेस क्या होता है?, आयात निर्यात बिजनेस कैसे शुरू करें? (Import Export Business in Hindi), आयात निर्यात के बिजनेस में होने वाला खर्च, आयात निर्यात के बिजनेस से होने वाला लाभ, आयात निर्यात के बिजनेस का ट्रेड व्यापार, ट्रेड व्यापार करने की प्रक्रिया इत्यादि।

यदि आप सभी लोग आयात निर्यात का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं और उसके विषय में जानकारियां प्राप्त करना चाहते हैं तो आप सभी लोग बिल्कुल ही सही जगह पर आए हैं। आप सभी लोगों को इस लेख में आयात निर्यात के बिजनेस शुरू करने के तरीके बताए गए हैं, जिनका उपयोग करके आप सभी लोग बड़ी ही आसानी से अपना आयात निर्यात का बिजनेस शुरू कर पाएंगे। यदि आप सभी लोग आयात निर्यात व्यापार के विषय में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

आयात निर्यात का बिजनेस कैसे शुरू करें? | Import Export Business in Hindi

आयात निर्यात का बिजनेस क्या है?

यदि हम बात करें आयात निर्यात बिजनेस की तो यह एक ऐसा बिजनेस होता है, जो घरेलू और विदेशी कंपनियों के बीच वस्तुओं के व्यापार की सुविधा प्रदान करता है। आयात निर्यात बिजनेस के माध्यम से हम देश विदेश की बड़ी-बड़ी कंपनियों को अपने द्वारा उत्पादित किए गए प्रोडक्ट को सेल कर सकते हैं या कंपनियों से डायरेक्ट प्रोडक्ट खरीद सकते हैं।

यदि दूसरे शब्दों में कहा जाए तो आयात निर्यात इकाई को हम एक ऐसा बिजनेस कह सकते हैं, जिसमें हम प्रोडक्ट्स को खरीद सकते हैं या फिर उन्हें अन्य देशों में सेल कर सकते हैं। आइए अब हम आयात और निर्यात के विषय में अलग-अलग जानकारी प्राप्त करते हैं।

आयात क्या होता है?

विदेशों से प्रोडक्ट्स को मंगा कर उन प्रोडक्ट्स को अपने घरेलू बाजार में बेचने की प्रक्रिया आयात कहलाती है। यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसमें हमें काफी ज्यादा मुनाफा हो सकता है। क्योंकि विदेशों से बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने प्रॉडक्ट्स को अलग-अलग देशों में सेल करने के लिए देती है और यदि हम कंपनी के साथ पंजीकृत हो जाते हैं और अपनी आवश्यकता के अनुसार प्रोडक्ट्स की ऑर्डर दे देते हैं तो प्रोडक्ट्स आने के बाद हम उन्हें बड़ी ही कम कीमतों में उठा सकते हैं और उन्हीं प्रोडक्ट्स को मार्केट में आकर अच्छे दामों में सेल कर सकते हैं।

आइए एक उदाहरण के द्वारा समझते हैं। जैसे यदि आप एक सेलर है तो आपको अलग-अलग कंपनियों या फिर किसी अन्य नई कंपनियों के प्रोडक्ट्स को लेकर होलसेलर आते हैं, जो आपको अपने प्रोडक्ट सेल करते हैं। वह सभी होलसेलर जो भी प्रोडक्ट्स आप को बेचने के लिए लाते हैं। वह आयात के द्वारा दूसरे देशों से ही मंगाया हुआ रहता है तो आप समझ सकते हैं कि यदि आप इन प्रोडक्ट्स को खुद से मन गाएंगे तो आपको कितनी ज्यादा प्रॉफिट होगी।

निर्यात क्या होता है?

कई बार ऐसा होता है कि बहुत से देशों में बहुत सी ऐसी चीजें होती है, जो कि आवश्यक मात्रा में नहीं हो पाती और उन्हें दूसरे देशों से लेने पड़ते हैं तो ऐसे में जो भी देश उन्हें अपने प्रोडक्ट देता है तो यह निर्यात कहलाती है। यदि हम दूसरे शब्दों में कहें तो यदि हम अपने घरेलू प्रोडक्ट्स को किसी दूसरे देशों या फिर दूसरे लोगों को बेचते हैं तो इसे निर्यात कहा जाता है।

निर्यात बिजनेस में भी उतना ही फायदा होता है, जितना कि आयात के बिजनेस में यू कहे तो निर्यात बिजनेस में हमें आयात बिजनेस की तुलना में ज्यादा ही फायदा होता है। क्योंकि निर्यात करने से हमारे प्रोडक्ट ज्यादा बिकते हैं और जब हमारे प्रोडक्ट्स अधिक मात्रा में बिकेंगे तो उनका लाभ हमें ही होगा।

यदि हम निर्यात के बिजनेस का उदाहरण देखें तो हमारे देश में ही जम्मू और कश्मीर के द्वारा सेब का उत्पादन किया जाता है और सेब को भारत के अन्य क्षेत्रों में निर्यात किया जाता है। इतना ही नहीं सेब को भारत के साथ-साथ अन्य देशों में भी बेचा जाता है। इस प्रकार के बिजनेस की प्रक्रिया को निर्यात बिजनेस प्रक्रिया कहते हैं।

यह भी पढ़े: कम खर्च और अधिक मुनाफे वाले बिजनेस

आयात निर्यात के बिजनेस को शुरू करते समय ध्यान रखने योग्य नियम

  • आप सभी लोग सदैव समय का पालन करें। क्योंकि बहुत से देश ऐसे हैं, जहां पर समय की काफी कीमत है। यदि आप का प्रोडक्ट समय से लेट पहुंचता है तो आप सभी लोगों को नुकसान भारी मात्रा में देखने को मिलेगा।
  • आयात निर्यात के बिजनेस में आप सभी लोगों को पंजीकरण प्रक्रिया और टैक्स प्रक्रिया पर पूरी तरह से ध्यान देना है।
  • आपको प्रत्येक प्रोडक्ट सेल करते समय उसकी कानूनी कार्यवाही पूरी तरह से कर लेनी होगी। यदि इस बिजनेस में कभी आपके साथ कोई भी धोखा होता है और आपके पास कोई भी प्रूफ नहीं होता है तो आप कुछ भी नहीं कर पाएंगे।
  • आपको इस बिजनेस को शुरू करने के लिए ऑफिस का प्रबंध करना बहुत ही जरूरी होता है। क्योंकि यदि किसी भी विदेशी व्यक्ति को आपके प्रोडक्ट की आवश्यकता हुई तो आपसे आपके ऑफिस पर ही मिलेगा न की आपके घर पर।
  • प्रोडक्ट की स्पेलिंग करते समय प्रत्येक प्रोडक्ट के बॉक्स पर विशेष रुप से अपना नाम, मोबाइल नंबर और भेजने वाले के एड्रेस को अवश्य लिखें, ताकि आपका प्रोडक्ट सही वक्त पर सही व्यक्ति के पास पहुंच जाए।

आयात निर्यात बिजनेस कैसे शुरू करें?

आयात निर्यात के बिजनेस को शुरू करने में थोड़ी परेशानियां आप सभी लोगों को उठानी ही पड़ेंगे। परंतु यह एक ऐसे बिजनेस के लिस्ट में आता है, जोकि आपको ज्यादा इनकम कमा कर दे सकता है। आयात निर्यात का बिजनेस एक ऐसा बिजनेस होता है जो कि अलग-अलग देशों के प्रोडक्ट्स को मंगाने और अपने प्रोडक्ट्स को अलग-अलग देशों में बेचने से जुड़ा होता है, इसीलिए यह बिजनेस फॉरेन ट्रेड पॉलिसी के तहत विनिमय किया जाता है।

आयात निर्यात के बिजनेस को विदेशी व्यापार नीति कहा जाता है। यह एक ऐसा बिजनेस होता है, जिसमें समय और परिस्थितियों के आधार पर निरंतर बदलाव आते रहते हैं। क्योंकि अन्य देशों के साथ व्यापारिक राजनैतिक संबंध घरेलू मांग एवं उत्पादन इत्यादि पर निर्भर करता है।

आयात निर्यात के बिजनेस को शुरू करने में आप सभी लोगों को ज्यादा कुछ नहीं करना है। अब आप सोच रहे होंगे कि इस बिजनेस में ज्यादा कुछ नहीं करना है तो यह बिजनेस कैसे कठिन हुआ तो हम आपको बताना चाहेंगे कि इस बिजनेस में आपको बहुत सारे नियमों का पालन करना पड़ता है, जिसके कारण इस बिजनेस को कठिन बताया गया है।

यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसके नियमों का पालन यदि आप नहीं कर पाते या फिर आपसे थोड़ी सी भी गलती हो जाती है तो आपके बिजनेस में काफी हानि आपको देखने को मिलेगी। तो इस बिजनेस को शुरू करने में आपको ऊपर बताई गई सावधानियों को विशेष रुप से ध्यान में रखना है। चलिए शुरू करते हैं, आयात निर्यात बिजनेस के प्रोसेस को।

उत्पादन प्रोडक्ट का चयन करें

आयात निर्यात के बिजनेस में आप सभी लोगों को विशेष रूप से अपने उत्पादक प्रोडक्ट का चयन कर लेना है। यदि उद्यमी आयात निर्यात बिजनेस को शुरू करते समय अच्छे उत्पादों का चयन नहीं करता है तो उसके बिजनेस में सफलता पाने की संभावना काफी कम होगी और यदि वही व्यक्ति अपने बिजनेस में ऐसे प्रोडक्ट का चयन करता है, जिसकी मार्केट डिमांड और क्वालिटी अच्छी है तो उसके बिजनेस में सफलता पाने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ जाएगी।

उत्पादों का चयन करने के लिए सभी उद्यमियों को अनेकों बातों पर रिसर्च करनी चाहिए परंतु जो सबसे प्रमुख बात है, वह यह है कि घरेलू बाजार में कौन-कौन सी चीजें ऐसी हैं, जिनका मांग अधिक है और हमें ना केवल घरेलू बाजार बल्कि अंतरराष्ट्रीय क्षेत्रों पर भी इस बात पर ध्यान देना चाहिए। आपको ऐसे ही प्रोडक्ट का चयन करना चाहिए, जिसका दिमाग तो बहुत ज्यादा है, परंतु सप्लाई कम है। यदि आप ऐसे प्रोडक्ट का चयन करते हैं तो आप सभी लोगों को लाभ होने के काफी सारे अवसर देखने को मिल जाएंगे।

आयात निर्यात के बिजनेस के लिए लाइसेंस और पंजीकरण

आप सभी लोगों को आयात निर्यात का बिजनेस करने के लिए विशेष रुप से लाइसेंस और पंजीकरण कराने की आवश्यकता पड़ेगी। पंजीकरण कराने के लिए आप सभी लोगों को निम्न बातों का ध्यान रखना होगा।

  • अपने कंपनी का नाम विशेष रूप से सर्च कर ले आप ऐसा नाम चयन करें, जो सबसे यूनिक हो और किसी भी व्यक्ति ने अपने कंपनी का नाम ऐसा ना रखा हो।
  • आप सभी लोगों को अपने बिजनेस का रजिस्ट्रेशन करते समय यदि आपका कोई बिजनेस पार्टनर है तो उसका भी नाम लिंक करें और उसके शेयर को भी दर्शाएं।
  • सभी उद्यमियों को इस बिजनेस को शुरू करते समय अपने बिजनेस को प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, वन पर्सन कंपनी इत्यादि में से किसी एक के तहत रजिस्टर्ड करना चाहिए।
  • आप सभी लोगों को जीएसटी रजिस्ट्रेशन के बाद पेन और व्यवसाय के नाम से नजदीकी बैंक में चालू खाता खोलने की आवश्यकता पड़ सकती है।
  • आपको स्थानीय प्राधिकरण नगर निगम से शॉप्स एंड एस्टेब्लिशमेंट रजिस्ट्रेशन करने के लिए आग्रह करना है।

अपने बिजनेस के लिए ऑफिस का प्रबंध करें

आयात निर्यात के बिजनेस में आप सभी लोगों को एक ऑफिस और एक गोदाम की आवश्यकता पड़ेगी, जिसका प्रबंध आप सभी लोगों को विशेष रुप से करना होगा। आप सभी लोग अपने आयात निर्यात के बिजनेस में अपने ऑफिस को किसी स्थानीय मार्केट में स्थापित कर सकते हैं और यह बिल्कुल भी आवश्यक नहीं है कि आप शुरुआती समय में अपने बिजनेस को बड़ी तरीके से शुरू करें आप एक छोटे से ऑफिस के माध्यम से अपने बिजनेस को शुरू कर सकते हैं।

आप सभी लोगों को अपने गोदाम के लिए भी जगह देने की आवश्यकता पड़ सकती है। आप सभी लोग ऐसे स्थानों का चयन करें, जहां पर यातायात साधनों का आवागमन काफी आसानी से हो सके और याद रहे आपको गोदाम बड़ा ही रखना पड़ेगा। क्योंकि प्रोडक्ट ज्यादा होंगे तो गोदाम तो बड़ा रखना ही पड़ेगा।

शुरू करें आयात निर्यात का बिजनेस

इन सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद आप सभी लोग आयात निर्यात का बिजनेस बड़ी ही आसानी से शुरू कर सकते हैं। परंतु ध्यान रहे क्या आप सभी लोगों को ऊपर बताए गए रूल्स को हमेशा फॉलो करने हैं, तभी आप आयात निर्यात का बिजनेस अच्छे तरीके से कर पाएंगे अन्यथा नहीं। यदि आप अपने आयात निर्यात के बिजनेस को सही समय पर नहीं करते तो आपको हनी के अलावा और कुछ भी नहीं मिलेगा।

आयात निर्यात के बिजनेस में होने वाला खर्च

आप सभी लोगों को आयात निर्यात के बिजनेस में खर्च तो करना ही पड़ेगा। आप सभी लोगों के पास यह बिजनेस करने के लिए कंटेनर होना चाहिए। यदि आपका इतना वजन नहीं है कि आप एक कंटेनर खरीद सकें तो आप सभी लोग 20 फीट का एक कंटेनर पोर्ट टो पोर्ट के लिए किराए पर ले सकते हैं।

आप सभी लोगों को एक कंटेनर का किराये का खर्च करना पड़ सकता है। इसके अलावा आप सभी लोगों को अन्य खर्च भी करने पड़ सकते हैं।

आयात निर्यात बिजनेस से होने वाला लाभ

यदि हम बात करें आयात निर्यात के बिजनेस से होने वाले लाभ के विषय में तो आयात निर्यात के बिजनेस में आप सभी लोग शुरुआती समय से ही 20% से लेकर 25% तक कमाई करना शुरू कर देंगे। आप सभी लोगों का यह प्रॉफिट आपके द्वारा लगाए गए खर्च को छोड़कर के है।

निष्कर्ष

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं कि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख आयात निर्यात का बिजनेस शुरू कैसे करें? (Import Export Business in Hindi) अवश्य ही पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख वाकई में पसंद आया हो तो कृपया इसे अवश्य शेयर करें और यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी भी प्रकार का कोई सवाल या फिर सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

यह भी पढ़े

कम पैसे में ज्यादा कमाई कैसे करें?

सबसे ज्यादा कमाई वाला बिजनेस कौनसा है?

रोज पैसे कैसे कमाए?

बिना पैसे लगाए घर बैठे बिजनेस कैसे करें?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here