शिव का पर्यायवाची शब्द

शिव का पर्यायवाची शब्द (Shiva ka Paryayvachi Shabd in Hindi)

शिव – शंकर, शम्भू, महादेव, विश्वनाथ, नीलकंठ, रूद्र, महेश, महेश्वर, पशुपति, उमापति, कैलाशपति, गिरिजापति, गौरीपति, आशुतोष, उमेश, औढरदानी, कपर्दी, काशीनाथ, कैलाशनाथ, गंगाधर, गिरीश, गौरीनाथ, चंद्रचूड़, चंद्रभाल, चंद्रमौलि, चंद्रशेखर, त्रिनेत्र, त्रिपुरारि, त्रिलोचन, नटनागर, नटराज, पंचानन, पिनाकी, भूतनाथ, भूतेश, भूतेश्वर, भैरव, भोलेनाथ, विरूपाक्ष, हर, हारा, मृदा, रुद्र, पुष्कर, पुष्पलोकन, अर्थिगम्य, सदाकार, सर्व, महेश्वर, चंद्रपिदा, चंद्रमौली, विश्व, विश्वम्भरेश्वर, वेदांतसारसंदोह, कपलिन, निलालोहिता, ध्यानाधार, गवारिछात्र, गवारिछात्र, ज्ञानगम्य, दृष्टिप्रज्ञा, देवदेव |

Shiva- shankar,shambhoo, mahaadev, vishvanaath, neelakanth,roodr, mahesh, maheshvar, pashupati, umaapati, kailaashapati, girijaapati, gaureepati, aashutosh , umesh, audharadaanee, kapardee, kaasheenaath, kailaashanaath, gangaadhar, gireesh, gaureenaath, chandrachood, chandrabhaal, chandramauli, chandrashekhar, trinetr, tripuraari, trilochan, natanaagar, nataraaj, panchaanan, pinaakee, bhootanaath , bhootesh, bhooteshvar,bhairav, bholenaath,viroopaaksh ,har, haara, mrda, rudr, pushkar, pushpalokan, arthigamy, sadaakaar, sarv, maheshvar, chandrapida, chandramaulee, vishv, vishvambhareshvar, vedaantasaarasandoh, kapalin, nilaalohita, dhyaanaadhaar, gavaarichhaatr, gavaarichhaatr, gyaanagamy, drshtipragya, devadev |

शिवा के पर्यायवाची शब्द (Synonyms of Shiva in Hindi) और उनके अर्थ में थोड़ा अंतर हो सकता है। इसीलिए एक वाक्य में सभी पर्यायवाची शब्दों का प्रयोग हो जाए, यह जरूरी नहीं है। स्थिति के आधार पर वाक्य में अलग अलग पर्यायवाची का प्रयोग अलग अलग स्थान पर किया जा सकता है।

नीचे हम उदाहरण के माध्यम से इसे और अधिक गहराई से जानने का प्रयास करेंगे।

शिव शब्द के वाक्य प्रयोग द्वारा पर्यायवाची शब्दों के अंतर को समझना

  • शिव- शिव शब्द का संधि विच्छेद किया जाए तो शा + ई + वा है शा मतलब शारीराम या शरीर है, ई का मतलब ईश्वरी या जीवन देने वाली ऊर्जा है वा ,वायु या गति के लिए खड़ा है इस प्रकार, शिव जीवन और गति के साथ शरीर का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस पर सिर्फ जीवन और गति के साथ शरीर का प्रतिनिधित्व करता है।
  • शिव- शिव का अर्थ होता है शिव जीवन है शिव जीवन की क्षमता है और शिव ही सर्वव्यापी है।
  • शंकर- मैया पार्वती के पति भगवान शंकर है।
  • भगवान भोलेनाथ को देवों के देव महादेव कहा जाता है ।
  • भगवान शिव शंभू ने अपने गले में समुद्र मंथन से निकले हलाहल विष को पिया था जिस कारण भगवान भोलेनाथ का गला नीला पड़ गया था इसलिए भगवान भोलेनाथ को नीलकंठ कहा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ को रुद्र भी कहा जाता है क्योंकि जब भगवान भोलेनाथ अपना रूद्र रूप भरते हैं तो तीनों लोग डर से थरथर कांपते हैं।
  • मैया पार्वती का नाम उमा भी है इसीलिए भगवान भोलेनाथ को उमापति के नाम से भी पुकारा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ का घर कैलाश में है इसीलिए भोले भंडारी को कैलाशपति भी कहा जाता है।
  • मैया पार्वती को गौरी माता भी कहते हैं जिस वजह से भगवान भोलेनाथ को गौरी पति भी कहा जाता है ।
  • भगवान भोलेनाथ में संतोष की संपूर्ण भावना समाहित है इसीलिए भगवान भोलेनाथ को आशुतोष भी कहा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ काशी में भी निवास करते हैं इसीलिए उन्हें काशीनाथ भी कहा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ हैं विश्व के नाथ हैं इसीलिए उसे विश्वनाथ के नाम से भी पुकारा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ के मस्तक पर चंद्र विराजमान हैं इसीलिए उन्हें चंद्रशेखर कहा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ को त्रिनेत्र हैं इसीलिए उन्हें त्रिनेत्र कहा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ को नटराज भी कहा जाता है।
  • भगवान भोलेनाथ को भूतनाथ भी कहा जाता है क्योंकि भगवान भोलेनाथ के बराती में भूत लोग भी शामिल हुए थे।

पर्यायवाची शब्द परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई पर्यायवाची शब्द हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए शब्द बादल का पर्यायवाची ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी समानार्थक शब्दों में से किसी का भी पर्यायवाची शब्द पूछा जा सकता है।

पर्यायवाची शब्द का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में पर्यायवाची शब्द पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से पर्यायवाची शब्द बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पर्यायवाची शब्द का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी पर्यायवाची शब्द पूछे जाते हैं।

पर्यायवाची शब्द कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द

हिरणआभूषणशब्दकोश
शिक्षाभाईअचानक
मछलीजलचंद्रमा

1000+ पर्यायवाची शब्दों के विशाल संग्रह के लिए यहां पर क्लिक करें।

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here