स्त्री-भक्त राजा – पंचतंत्र की कहानी

स्त्री-भक्त राजा (King Who Loved His Wife Story In Hindi)

एक बहुत बड़े राज्य का राजा नंद थे। वे बहुत पराक्रमी राजा थे। उनका यश और कीर्ति चारों ओर फैली हुई थी। अन्य राज्यों के राजा उनकी जय-जयकार करते थे। नंद का राज्य इतना बड़ा था कि उनके राज्य का एक छोर समुंद्र तक था और दूसरा छोर पर्वत तक। राजा नंद का एक मंत्री वररुचि था। वह सभी विद्याओं में निपुण और कुशल मंत्री था।

King Who Loved His Wife Story In Hindi
King Who Loved His Wife Story In Hindi

एक दिन किसी कारण वंश वररुचि की पत्नी नाराज हो गई। वररुचि ने उसको मनाने के लिए अथक प्रयास किए किंतु वह मानने का नाम भी नहीं ले रही थी। थक हारकर वररुचि ने अपनी पत्नी से कहा “हे प्रिय! तू जो आदेश करेंगी मैं वह करूंगा, मैं तुम्हारी हर आज्ञा का पालन करूंगा, बस तुम प्रसन्न हो जाओ।”

पत्नी ने कहा “यदि तुम अपना सर मुंडवा कर मेरे पैरों में गिर कर माफी मांगो तो मैं तुम्हें माफ करूंगी।”

Read Also: स्त्री का विश्वास – Faith Of Women Story In Hindi

वररुचि ने ऐसा ही किया जैसा उसकी पत्नी ने कहा और उसकी पत्नी प्रसन्न हो गई।

उसी दिन राजा नंद की पत्नी भी राजा से रूठ गई। नंद ने पत्नी से कहा “प्रिय तुम्हारी अप्रसंता का मतलब मेरी मृत्यु है। तुम्हारी प्रसंता के लिए मैं कुछ भी करने के लिए तैयार हूं। तुम बस आदेश करो।”

नंदपत्नी बोली “मैं चाहती हूं कि तेरे मुंह पर लगाम डालकर तुझ पर सवार हो जाऊं और तुझे घोड़े की तरह दौड़ाउ।”

राजा ने उसकी इच्छा पूरी कर दी जिसके कारण वह प्रसन्न हो गई।

अगले दिन जब वररुचि राज सभा में पहुंचा तो राजा ने पूछा कि उसने किस पुण्य काल में अपना सर मुंडवाया है।

वररुचि ने कहा “राजन! जिस काल में पुरुष अपने मुंह में लगाम लगाकर घोड़े की तरह दौड़ रहे थे उस काल में मैंने अपने सर मुंडवाया है।”

राजा ने जब यह सुना तो वह बहुत ही लज्जित हुआ।

पंचतंत्र की सम्पूर्ण कहानियां पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

मेरा नाम सवाई सिंह हैं, मैंने दर्शनशास्त्र में एम.ए किया हैं। 2 वर्षों तक डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी में काम करने के बाद अब फुल टाइम फ्रीलांसिंग कर रहा हूँ। मुझे घुमने फिरने के अलावा हिंदी कंटेंट लिखने का शौक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here