केला का पर्यायवाची शब्द

केला का पर्यायवाची शब्द (kela ka Paryayvachi Shabd in Hindi)

केला – रम्भा, भानुफल, कदली, चिनिया केला, कचकेला (एक प्रकार का केला)

kela – rambha, bhaanuphal, kadalee, chiniya kela, kachakila (ek prakaar ka kela)

केला के पर्यायवाची शब्द (Synonyms of Banana in Hindi) और उनके अर्थ में थोड़ा अंतर हो सकता है। इसीलिए एक वाक्य में सभी पर्यायवाची शब्दों का प्रयोग हो जाए, यह जरूरी नहीं है। स्थिति के आधार पर वाक्य में अलग अलग पर्यायवाची का प्रयोग अलग अलग स्थान पर किया जा सकता है।

नीचे हम उदाहरण के माध्यम से इसे और अधिक गहराई से जानने का प्रयास करेंगे।

केला शब्द के वाक्य प्रयोग द्वारा पर्यायवाची शब्दों के अंतर को समझना

  • कचकेला- कचकेला रूखा और स्वाद में फीका होता है ।
  • केला- केला ऐसा फल है जोकि लंबा गूदेदार और मीठा होता है ।
  • केला- केले के पत्ते 1 मीटर तक लंबे होते हैं फल लंबे होते हैं गूदेदार होते हैं और मीठे होते हैं।
  • केला- मोहन ने अपने घर के पिछवाड़े में केले का पेड़ लगा रखा है।
  • केला- केला पीला और हरे रंग का होता है।

पर्यायवाची शब्द परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई पर्यायवाची शब्द हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए शब्द बादल का पर्यायवाची ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी समानार्थक शब्दों में से किसी का भी पर्यायवाची शब्द पूछा जा सकता है।

पर्यायवाची शब्द का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में पर्यायवाची शब्द पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से पर्यायवाची शब्द बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पर्यायवाची शब्द का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी पर्यायवाची शब्द पूछे जाते हैं।

पर्यायवाची शब्द कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द

हाथशिवकौवा
कोमलभाईखुशी
हिरणआभूषणशब्दकोश

1000+ पर्यायवाची शब्दों के विशाल संग्रह के लिए यहां पर क्लिक करें।

मेरा नाम सवाई सिंह हैं, मैंने दर्शनशास्त्र में एम.ए किया हैं। 2 वर्षों तक डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी में काम करने के बाद अब फुल टाइम फ्रीलांसिंग कर रहा हूँ। मुझे घुमने फिरने के अलावा हिंदी कंटेंट लिखने का शौक है।