लड़ती भेड़ें और सियार – पंचतंत्र की कहानी

लड़ती भेड़ें और सियार (Fighting Goats and the Jackal Story In Hindi)

एक दिन सियार एक गांव के बाजार से गुजर रहा था। बाजार में उसने भीड़ देखी। कुतूहलवंश सियार यह देखने गया कि क्या हो रहा है। वहां जाकर सियार ने देखा कि दो भेड़े आपस में लड़ रही है। उन भेड़ों के मध्य लड़ाई इतनी जोरदार चल रही थी कि दोनों लहूलुहान हो गए।

Fighting Goats and the Jackal Story In Hindi
Fighting Goats and the Jackal Story In Hindi

सड़क पर उनका लहू बह रहा था। सभी लोग इस लड़ाई को देखकर जोर जोर से चिल्ला रहे थे तालियां बजा रहे थे। जब सियार ने इतना सारा ताजा खून देखा तो अपने आप को रोक नहीं पाया। वह इस खून का स्वाद लेना चाहता था और उन भेड़ों पर अपना हाथ साफ करना चाहता था। उसने आव देखा ना ताव और उन दोनों पर झपट पड़ा।

इसे भी पढ़ें: मूर्ख साधू और ठग – The Foolish Sage & Swindler Story In Hindi

लेकिन दोनों भेड़ें बहुत ही ताकतवर थी। उन भेड़ों ने सियार की जमकर धुनाई कर दी और सियार को अधमरा कर दिया।

शिक्षा: लालच में आकर अनावश्यक कदम नहीं उठाना चाहिए। कोई भी कदम उठाने से पहले भली-भांति सोच लेना चाहिए।

पंचतंत्र की सम्पूर्ण कहानियां पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

मेरा नाम सवाई सिंह हैं, मैंने दर्शनशास्त्र में एम.ए किया हैं। 2 वर्षों तक डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी में काम करने के बाद अब फुल टाइम फ्रीलांसिंग कर रहा हूँ। मुझे घुमने फिरने के अलावा हिंदी कंटेंट लिखने का शौक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here