नया साल पर संस्कृत निबंध

Essay on New Year in Sanskrit: नमस्कार दोस्तों, आज हमने यहां पर विद्यार्थियों की सहायता के लिए नया साल पर संस्कृत निबंध शेयर किये है। यह निबन्ध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होंगे।

Essay on New Year in Sanskrit

Read Also: संस्‍कृत में अन्य महत्वपूर्ण निबंध

नववर्ष पर संस्कृत निबंध – Essay on New Year in Sanskrit

नवीनं वर्षं नववर्षमिति। नूतनवर्षस्य समारम्भो अस्माकं भारतीयानां कदा भवति इति प्रायो ये सुपठिताः जनाः सन्ति तेSपि न जानन्ति। प्रायो हि समग्रे संसारे नववर्षारम्भः जनवरीमासस्य प्रथमतारिकायां भावतीति स्वीकुर्वन्ति मन्वतेSअपि च जनाः। किन्तु भारतीयपरम्परायां नववर्षस्य समारम्भः विक्रमसम्वत्सरस्य प्रथमेSहनि भवति, इति स्वीक्रियते।

विक्रमादित्यः सम्वत्सरस्य प्रवर्तनञ्चकार। अतोSस्माकं भारतीयानां नववर्षारम्भः चैत्रशुक्लप्रतिपदि भवति। एवमेव क्रिश्चियन धर्मावलम्बिनः नववर्षाराम्भं जनवरीमासस्य प्रथमेSहनि स्वीकुर्वन्ति एवमेव मुस्लिम धर्मावलम्बिनो ‘हिजरी सन्’ समारम्भस्य प्रथमं दिनं नववर्षारंभदिनं वदन्ति। अस्माभिरस्माकं मान्यतानुरोधेन नववर्षमहोत्सवः एव चैत्रशुक्लप्रतिपदि समायोजनीयः।

नया साल पर संस्कृत निबंध – New Year Essay in Sanskrit

अद्यत्वे भारतवर्षे इयं परम्परा प्रचलितम् अस्ति यत् जनवरी मासस्य प्रथमे दिवसे नव वर्षस्य आयोजनं भवति। अस्मिन् दिवसे सर्वे जना: प्रसन्न: भवन्ति। सर्वे निज बन्धून् नववर्षस्य शुभाषाया: ददन्ति। अस्मिन् दिवसे किंचित् जना: मदिरापानं कृत्वा कोलाहलं कुर्वन्ति इदम् उचितं नास्ति। अयं नववर्ष: भारतीयानां नास्ति उत्सवोsयं विदेशी अस्ति। हिन्दुनां नव वर्ष: तु चैत्र मासे प्रारम्भ: भवति।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here